• Hindi News
  • पठानकोट हमले में आतंकियों ने जो नंबर यूज किया, उसी सीरीज से पाली में भी रहे कॉल

पठानकोट हमले में आतंकियों ने जो नंबर यूज किया, उसी सीरीज से पाली में भी रहे कॉल

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
विदेशी नेटवर्क से खौफ की सीरीज

इन तीन नंबर से रहे हैं कॉल, हैकर को है पूरी जानकारी

पालीके शहरवासियों को जो कॉल रहे हैं उनकी नंबर सीरीज पठानकोट हमले के दौरान उपयोग में लिए नंबर वाली सीरीज से मिलती-जुलती है। खास बात यह है कि शहरवासियों को यह कॉल अलग-अलग नंबर से रहे हैं। लेकिन इनकी सीरीज एक ही है। शहरवासियों को अधिकांश नंबर +923312316540,+923235062500 +923078392178 मोबाइलनंबर से कॉल रहे हैं। यह कॉल रात के समय पर ही किए जा रहे हैं। +92 पाकिस्तान का कंट्री कोड है।

डेढ़ माह पहले से ही रहे कॉल

शहरवासियोंकी मानें तो करीब डेढ़ माह पूर्व ही इन्हीं सीरीज के नंबर आना शुरू हो गए थे। शहर में नवंबर के दूसरे सप्ताह में कई उपभोक्ताओं के पास कॉल आए थे। यह कॉल कर एटीएम का पिन नंबर मांगते थे, नहीं देने पर धमकाते भी थे। यहां तक कि एक-दो जनों के साथ गाली-गलौच भी की।

शहर में पाकिस्तान की नंबर सीरीज से कॉल आने की कोई रिपोर्ट तो दर्ज नहीं हुई है, लेकिन इसकी जानकारी विभाग को भी है कि पड़ोसी देशों से कॉल रहे हैं। कोटा सिटी में भी ऐसा मामला सामने आया है। पाली में भी यदि इस तरह का मामला आया है तो इसकी जांच कराई जाएगी। दीपकभार्गव, एसपी, पाली

मुझे इस संबंध में कोई जानकारी नहीं है, लेकिन यह गंभीर मुद्दा है।। यदि किसी के पास कॉल आया है तो वह डरे नहीं रिपोर्ट करें। इस संबंध में एसपी से बात कर इस मामले की जांच करवाएंगे। कुमारपालगौतम, कलेक्टर, पाली

आसान होता है अंतर्राष्ट्रीय गेटवे से जानकारी जुटाना

आतंकप्रभावितदेशों में साइबर हैकर एक्सपर्ट काफी संख्या में मौजूद है। कुछ देशों में हैकिंग क्लासेज भी लगती है। यह लोग अंतर्राष्ट्रीय गेटवे का दुरुपयोग कर बैंक साइट क्रेडिट कार्ड को हैक कर जानकारी लेते हैं।

ऐसे करते हैं आपकी डिटेल हैक:

यहहैकर दोतरीके से आपकी डिटेल हैक करते हैं, इनमें से पहला तरीका है देश में मौजूद पेमेंट गेटवे कंपनियों के माध्यम से डेबिट का उपयोग कर पैसा निकाल लेते हैं। वहीं क्रेडिट कार्ड की डिटेल के लिए अंतर्राष्ट्रीय पेमेंट गेटवे कंपनियों के माध्यम से बैंक उपभोक्ताओं की पूरी जानकारी उपलब्ध करवा देते हैं। डिटेल हैक करने के बाद उपभोक्ता संबंधी पूरी जानकारी हैकर के पास होती है।

एटीएम कार्डका उपयोग करने से पहले और उसके बाद उसे रूमाल से साफ कर देना चाहिए। हमेशा अपने स्मार्ट फोन कंप्यूटर में फ्री गाने, वीडियो गेम को डाउनलोड करें। क्योंकि ऐसा करने पर की लोगर नाम का वायरस प्रोग्राम भी डाउनलोड होते हैं जो सारी सूचनाएं हैकर तक पहुंचाते हैं। बचाव के लिए कंप्यूटर में माइक्रो सॅाफ्ट सिक्योरिटी एसेंशियल का एंटीवायरस प्रोग्राम डाउनलोड करें। इसे सबसे अधिक सुरक्षित माना गया है जो जानकारी हैक होने से बचाता है। इसके साथ ही कहीं भी ऑनलाइन खरीददारी करते समय पेमेंट से पूर्व यूआरएल में https हरे रंग में लिखा आना चाहिए। इसका मतलब यह है कि आप का सिस्टम पूरी तरह से सिक्योर है और आपकी जानकारी किसी तक नहीं पहुंच पा रही है। सोशल साइट ईमेल पर अज्ञात मैसेज को तो डाउनलोड करें और ही उसका जवाब दें।

(आईटी एक्सपर्ट नीलेश पुरोहित, एडमिन माय पाली. इन)