पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • जैसा आहार होगा वैसा विचार होगा : महंत सुरजनदास

जैसा आहार होगा वैसा विचार होगा : महंत सुरजनदास

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पाली | टैगोरनगर स्थित ओमकारेश्वर महादेव मंदिर में चल रहे चातुर्मास सत्संग में श्री बड़ा रामद्वारा महंत सुरजनदास महाराज ने कहा कि मनुष्य का जैसा आहार होगा वैसा विचार होगा। जैसा अन्न वैसा मन वाली कहावत पूर्ण सत्यता लिए है। आहार शुद्ध होने पर अंतकरण शुद्ध होता है। अंतकरण की शुद्धि से स्मृति सुदृढ़ होती है। मास अंडे का सेवन किसी भी दृष्टि से उचित नहीं। अपने स्वाद के लिए निरपराध बेजुबान जीवों की हत्या करें। इस सृष्टि में हत्या करना महापाप हैं। अपने स्वाद पूर्ति के लिए दूसरों को कष्ट देना मानवता नहीं। मानवता तो स्वयं कष्ट सहन करके दूसरों को सुख देने का नाम है। मनुष्य को तो नशे से भी हमेशा दूर रहना चाहिए। क्योंकि नशा नाश की जड़ है। इसलिए अच्छा, शुद्ध और सात्विक भोजना करना और अच्छा जीवन जीना चाहिए।

खबरें और भी हैं...