• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • आरोपियों ने बना रखा था सूदखोर गिरोह, सट्‌ट‌े में हारे आदमी को फंसा वसूलते थे ब्याज पैनल्टी, करोड़

आरोपियों ने बना रखा था सूदखोर गिरोह, सट्‌ट‌े में हारे आदमी को फंसा वसूलते थे ब्याज-पैनल्टी, करोड़ों के लेनदेन के दस्तावेज मिले, सटोरियों से भी थे संपर्क

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कर्जदारोंसे तंग आकर मलकेड़ा में दंपती के आत्महत्या करने के मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी शेखावाटी होटल के मालिक राकेश खीचड़ और अभिषेक पिलानिया को सोमवार को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने आरोपियों को दो दिन के रिमांड पर दिया है। पुलिस ने शेखावाटी होटल में छापामार कार्रवाई कर कागजों, ब्लैंक चेक सहित लेनदेन के विभिन्न दस्तावेज जब्त किए हैं।

डायरियों में करीब 40 लोगों को ब्याज पर रकम देने का लेखा-जोखा मिला है। पुलिस ने एक बुकी अमित पहाड़िया को गिरफ्तार किया है जिससे भी इनके तार जुड़े मिले हैं। प्रारंभिक पूछताछ डायरियों में दोनों आरोपियों के करोड़ों रुपए के लेनदेन का पता चला है।

चरण सिंह गेट निवासी अभिषेक पिलानियां को पुलिस ने रविवार रात गिरफ्तार किया था। सुबह डीएसपी सुरेंद्र शर्मा के नेतृत्व में पुलिस टीम ने अचानक शेखावाटी होटल में में छापामारी कर लेनदेन के विभिन्न दस्तावेज जब्त किए। पुलिस को होटल से ब्लैंक चेक, ब्याज का हिसाब-किताब के कागजात, डायरियां सहित बैंक से संबंधित अन्य कागजात मिले हैं। डायरियों में जिन लोगों से ब्याज पर पैसे लेन देन का लेखा-जोखा मिला है पुलिस उन लोगों से भी पूछताछ कर सकती है। जांच से यह भी पता चला है कि आरोपी काफी लोगों को अधिक ब्याज पर पैसे उधार देता था। उसके पास पैसे उधार देने का कोई लाइसेंस नहीं है।

रिमांड पर लेने के बाद आरोपियों से पूछताछ की तो उन्होंने शहर के कई बुकी के नाम का खुलासा किया है। उद्योग नगर थानाधिकारी राजपाल सिंह अपनी टीम के साथ देर रात्रि तक सूदखोर गिरोह से जुड़े लोगों बुकियों की धरपकड़ करने में जुटे हुए थे।

दंपती की आत्महत्या के बाद हुआ पूरे मामले का खुलासा

गौरतलबहै कि दंपती का बेटा मनीष सट्टा खेलता था जिसके चलते उसके माता-पिता को जमीन, स्वयं का मकान और गहने तक बेचने पड़े थे। अारोपी राकेश खींचड़ अभिषेक पिलानिया ने कर्ज में दिए रुपयों के बदले मूल रकम की दोगुनी से अधिक राशि करीब 30 लाख रुपए ब्याज और पेनल्टी के रूप में वसूल लिए थे। जिसके बाद भी आरोपी दंपती को आए दिन प्रताड़ित करते थे और उनके बेटे मनीष के साथ पिटाई करते थे। इसी से तंग आकर दंपती ने आत्महत्या कर ली थी।

ब्याज पर पैसे देने का धंधा करने वाले राकेश खीचड़ और अभिषेक पिलानिया ने पूरा गिरोह बना रखा था। पुलिस को मिली डायरियों कागजातों में इस गिराेह से जुड़े करीब 20-25 लोगों के नाम मिले हैं। इनमें से तीन-चार लोगों का सत्यापन हो चुका है। बाकियों के सत्यापन और धरपकड़ के लिए पुलिस जुटी हुई है। ये सभी लोग गरीब और मजबूर लोगों या सट्टे में लाखों रुपए हार चुके लोगों को ढूंढ़कर उन्हें झांसे में लेकर ब्याज पर पैसा दिलवाते थे। इस दौरान उनसे खाली स्टांप जमीन के कागजात आदि रख लेते थे। मूल रकम और ब्याज का पैसा समय पर नहीं देने पर दो से तीन गुना पेनल्टी वसूलते थे और पैसा नहीं देने पर ये गुर्गे मारपीट और धमकी देकर ब्याज पेनल्टी वसूलते थे। मनीष उसके माता-पिता भी ऐसे ही इनके झांसे में आए थे।

बुकी फंसाते थे सट्टे में, फिर दिलवाते ब्याज पर पैसा

आरोपियोंसे पूछताछ में हुए खुलासे के बाद पुलिस ने एक बुकी अमित पहाड़िया 31 वर्ष पुत्र अशोक पारीक निवासी देवीपुरा कोठी को गिरफ्तार किया गया है। पहाड़िया क्रिकेट सट्टा लगाता है और शहर के बड़े क्रिकेट सटोरियों से उसके तार जुड़े हुए हैं। सट्टा हारने वालों से वह पेनल्टी वसूल करता था, जो पेनल्टी नहीं दे पाता उससे खाली स्टांप दस्तावेजों पर हस्ताक्षर करवा लेता था। इन खाली स्टांपों पर वह उसकी जमीन और प्लॉट सहित चल-अचल संपत्ति अपने नाम लिख लेता था।

खबरें और भी हैं...