• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Sikar
  • विजिलेंस के नाम पर किसानों को लूट रहे, टीम आए तो उसे भगा दो : बेनीवाल

विजिलेंस के नाम पर किसानों को लूट रहे, टीम आए तो उसे भगा दो : बेनीवाल

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
बिजलीसे जुड़ी मांगों को लेकर सोमवार को किसानों ने फिर हुंकार भरी। सीकर-नोखा सड़क पर 220 केवी ग्रिड सब स्टेशन तेहनदेसर के आगे अखिल भारतीय किसान महासभा के नेतृत्व में महापड़ाव डाला। सुबह 12 बजे शुरू हुए प्रदर्शन में हजारों की संख्या में पहुंचे किसान शाम 7:30 बजे तक डटे रहे।

शाम 5.30 बजे पहुंचे खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल ने कहा कि विजिलेंस के नाम पर सरकार किसानों को लूट रही है। मैं कहता हूं कि अगर विजिलेंस टीम आए तो उन्हें तुरंत भगा दो। किसानों को अब फर्जी नेताओं की दुकानें बंद करनी होगी। यही किसानों का शोषण करते है। टोल के ठेके नेताओं के रिश्तेदारों के है। अगर सही जांच की जाए तो मुख्यमंत्री वसुंधरा और पूर्व सीएम गहलोत दोनों जेल में होंगे। सरकार को किसानों की बिजली टोल माफ करने चाहिए। कामरेड अमराराम ने कहा कि जब तक सरकार किसानों की मांगें नहीं मानेगी तब तक सरकार के खिलाफ धरना प्रदर्शन चालू रहेगा। वीसीआर के नाम से लोढ़ बढाने, बिजली बिलों की रेट बढाने का किया जा रहा काम बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सरकार किसानों के खेत तबाह करने का काम कर रही है। कांग्रेस नेता पूसाराम गोदारा ने कहा की जब तक डिस्कॉम किसानों की मांगे नहीं माने तब तक एक भी किसान बिजली बिल नहीं भरवाएगा। छगनलाल चौधरी ने किसानों से 9 फरवरी को चूरू कलेक्ट्रेट घेरने का आह्वान किया। सभा को विवेक माचरा, एडवोकेट निर्मल प्रजापत, बीदासर प्रधान संतोष मेघवाल, उप प्रधान महेंद्र लेघा, देवीलाल जाट, इंद्रचंद पूनिया, पुखराज खेवटिया आदि ने संबोधित किया।

किसानोंकी ये हैं मांगे

बढ़ीहुई बिजली दर वापस लेने, बढ़ाया गया लोढ़ कम करने, शिफ्टंग कनेक्शन बिना किसी डिमांड राशि के तुरंत देने, स्थाई शुल्क केपेसीटर चार्ज बंद करने, बूंद-बूंद कनेक्शन को सामान्य श्रेणी में देने, किसान के ट्रांसफार्मर में मीटर बक्सा नहीं लगाने, दिन में साढ़े छह घंटे रात के समय सात घंटे नियमित रुप से बिजली देने, ढाणियों के पेडिंग कनेक्शन देने, 32 केवी जीएसएस पर तार डिस इंसुलेटर हर समय उपलब्ध करवाने जले हुए ट्रांसफार्मर को उसी दिन बदलने आदि की मांगे थे।

गर्मा-गर्मीके बीच आधे घंटे वार्ता

महापड़ावको लेकर शाम 5:30 बजे सुजानगढ़ एसडीएम अजय वर्मा, बीदासर एसडीएम संजू पारीक सुजानगढ़ डिस्कॉम एक्सईएन आशाराम जांगिड़ पहुंचे। एक प्रतिनिधिमंडल के साथ शाम 7 बजे वार्ता शुरू हुई। गर्मा-गर्मी के बीच आधे घंटे चली वार्ता में 14 घंटे की बिजली को 18 घंटे करना, ट्रांसफार्मर बदलने, फसल कटाई के समय वीसीआर नहीं करने पर सहमति बनी। किसानों ने कहा कि जब तक मांगे पूरी नहीं मान ली जाएगी, तब तक एक भी किसान बिजली के बिल नहीं भरेंगे।

सांडवा. किसानों के महापड़ाव को संबोधित करते खींवसर विधायक हनुमान बेनीवाल।

खबरें और भी हैं...