पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

थानेदार को एसपी ने दी चार्जशीट, कार्रवाई शुरू

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सीकर.रामगढ़ सेठान कस्बे में आखर सट्टा चलने व जानकारी होने के बावजूद कार्रवाई नहीं करने के मामले में तत्कालीन थानाधिकारी आनंद यादव को मंगलवार को एसपी ने चार्जशीट दे दी है। एसपी ने 17 सीसी की चार्जशीट देकर थानेदार से जवाब मांगा है।
दैनिक भास्कर द्वारा मामला उजागर करने के बाद मामले की रिपोर्ट मंगलवार को मुख्यालय भी भेज दी गई। उल्लेखनीय है थानेदार के खिलाफ सीएमओ से जांच आई हुई थी जिस में डीएसपी ने जांच के बाद रिपोर्ट में लिखा थी कि जानकारी होने के बावजूद सटोरियों पर कार्रवाई नहीं करना पुलिस अधिकारी की अनुशासनहीनता व उदासीनता का प्रमाण है।
17 सीसी की चार्जशीट दी
'थानेदार को 17 सीसी की चार्जशीट दी है। उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की जा रही है।'
सत्यवीर सिंह, एसपी
यह भी की गई थी शिकायत
आखर सट्टे के अलावा एक और शिकायत थानेदार के खिलाफ की गई थी। जिसमें आरोप था कि स्टेशन पर चाय पीने गए युवकों को थाने में लाकर बंद कर दिया और उन पर महिलाओं से छेड़छाड़ का आरोप लगाया। इस पर जनप्रतिनिधि थाने पहुंचे और उन महिलाओं को पेश किया जिनसे छेड़छाड़ का आरोप लगाया जा रहा था। इस पर महिलाओं ने छेड़छाड़ से इनकार कर दिया। बाद में देर रात सातों युवकों को छोड़ दिया गया।
‘हम तो कई बार सूचना दे चुके थे’
मामले में पालिकाध्यक्ष के पति और पार्षद मकसूद भाटी का कहना है कि आखर सट्टे करीब सात आठ साल से बंद थे। जब चालू हुए तो सीएलजी की बैठक में प्रस्ताव रखा था कि इन्हें बंद किया जाए। कई बार थानेदार को फोन पर भी सूचना दी गई और बताया गया कि कहां आखर सट्टा चल रहा है। इसके बावजूद कोई कार्रवाई नहीं हुई। मुख्यमंत्री को शिकायत कई जनप्रतिनिधियों ने भेजी थी।
हटाने के आदेश के बाद भी महीनों तक रहा एसएचओ, भास्कर की खबर के बाद कार्रवाई
पुलिस महानिदेशक कार्यालय की ओर से कई महीनों पहले दूसरे एसएचओ को लगाने के आदेश आए थे। आदेश में लिखा गया था कि रामूराम मीणा को रामगढ़ सेठान एसएचओ के पद पर नियुक्ति दी जाए। इसके बाद भी अधिकारियों ने कई महीनों तक आनंद यादव को वहां से नहीं हटाया।
बाद में जनप्रतिनिधियों द्वारा लगातार दबाव बनाने व मामला सीधा सरकार से जुड़ा होने पर थानेदार को वहां से हटाया गया और तत्कालीन एसपी गौरव श्रीवास्तव ने उसे शहर कोतवाली में नियुक्ति देकर नए थाने उद्योग नगर की जिम्मेदारी सौंपी थी। भास्कर द्वारा मामला उजागर करने के तुरंत बाद ही नए एसपी सत्यवीर सिंह ने उसके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई शुरू की है।