पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • नृत्य में दिखाया राम को जिद कर वन में भेजने का दृश्य

नृत्य में दिखाया राम को जिद कर वन में भेजने का दृश्य

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कार्तिकपूर्णिमा उपलक्ष्य में गुरुवार शाम को जग मंदिर में महाराणा मेवाड़ चेरिटेबल फाउण्डेशन के तत्वावधान में कत्थक पर आधारित कार्यक्रम \\\"ब्रह्मांजलि-2014\\\' का आयोजन हुआ। जिसमें नई दिल्ली की कत्थक कलाकार उमा शर्मा ने अपने साथियों के साथ प्रस्तुति दी।

समारोह के मुख्य अतिथि फाउण्डेशन के प्रबंध न्यासी अध्यक्ष अरविंद सिंह मेवाड़ थे। कार्यक्रम में मेवाड़ ने कार्तिक पूर्णिमा पर अपने विचार व्यक्त किए। कलाकार उमा शर्मा ने अपने साथियों के साथ सर्वप्रथम भगवान ब्रह्मा एवं विष्णु से नृत्य मुद्रा में आशीर्वचन मांगा।

इसके बाद उन्होंने रामायण के पंचवटी वर्णन में शूर्पणखा का आगमन एवं स्वर्ण मृग की चाह में सीता द्वारा राम को जिद कर वन में भेजने का नृत्य करते हुए विभिन्न भाव-भंगिमाओं एवं लय ताल में प्रस्तुति दी।

उन्होंने मयूर नृत्य एवं नित्य रास मीरा भजन \\\"वारि-वारि श्याम हूं वारि थे जाओ गली हमारी\\\' प्रस्तुत देकर सबको उत्साहित किया। कार्यक्रम के संगीत निर्देशन पंडित ज्वाला प्रसाद ने किया।

उनके साथ माधो प्रसाद, मुबारक खान (तबला), खालिद मुस्तफा (सितार), विनय प्रसन्ना (बांसुरी), अबरार हुसैन (सरोद), तरुण (पखावज), योगराज पंवार एवं एस.एम. जहीर ने संगत की। कार्यक्रम में फाउण्डेशन के ट्रस्टी लक्ष्यराज सिंह मेवाड़, देशी एवं विदेशी मेहमानों सहित कई लोग उपस्थित थे।

जगमंदिर में महाराणा मेवाड़ चैरिटेबल फाउंडेशन के तत्वावधान में कथक पर आधारित कार्यक्रम \\\"ब्रह्मांजलि-2014\\\' में प्रस्तुति देतीं कलाकार। भास्कर