पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • दिनभर शबद कीर्तन, आधी रात को काटा केक

दिनभर शबद कीर्तन, आधी रात को काटा केक

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कीर्तन से निहाल हुई संगत

सिखसमुदाय के गुरु नानक देव का 546वां प्रकाश पर्व गुरुवार को धूमधाम से मनाया गया। सुबह से ही शहर के गुरुद्वारों में आयोजनों का दौर चला। सुबह देर शाम तक विशेष दीवान सजे, जिनमें गुरु की बाणी शबद कीर्तन के रूप में गूंजती रही, वहीं रात को आतिशबाजी कर खुशियां मनाई गई। गुरुद्वारा सचखंड दरबार में पहली बार आधी रात को केक काटकर खुशी का इजहार किया गया।

अलसुबह गुरुद्वारों में लंगर की सेवा शुरू हो गई, वहीं अखंड पाठ की समाप्ति के बाद शबद कीर्तन और दीवान का दौर चला। गुरु की बाणी सुनने और मत्था टेकने के लिए संगत जुटी, जिससे दिनभर गुरुद्वारों में चहल-पहल बनी रही। गुरुद्वारा सचखंड दरबार में संगरूर (पंजाब) के प्रेमजीत सिंह हीरा और दिल्ली के हरमीत सिंह रागी जत्थों ने शबद कीर्तन किया। सुबह 7.30 से 9.30 और 10 से 3 बजे तक दीवान सजे। ज्ञानी अजीत सिंह ने गुरु जी की जीवनी पर प्रकाश डाला। शाम 7 से 12 बजे तक तीसरा दीवान सजा। रात 12 बजे आतिशबाजी करने के साथ ही पहली बार केक काटकर खुशियां मनाई गई। घरों में दीप भी जलाए गए। दोपहर को शिविर में 90 यूनिट रक्तदान किया गया। सांसद अर्जुन लाल मीणा सहित कई विशिष्ट अतिथि मौजूद रहे।

गुरुद्वारा सिंह सभा, शास्त्री सर्कल

सचिवदर्शन सिंह चावला ने बताया कि सुबह 9.30 बजे अखंड पाठ समापन के बाद दीवान सजा। रागी जत्थे ने कीर्तन से संगतों को निहाल किया। देवेंद्र सिंह पाहवा ने गुरु जी की जीवनी पर प्रकाश डाला। दीवान समाप्ति के बाद लंगर लगा।

गुरुद्वारागुरु नानक देव, प्रतापनगर

सचिवराजेंद्र सिंह सोखी ने बताया कि सुबह 10 बजे अखंड पाठ की समाप्ति होने पर दीवान सजा। इसके बाद कीर्तनों का दौर चला, जिसमें बड़ी संख्या में संगत की मौजूदगी रही। दोपहर 1 बजे लंगर की शुरुआत हुई, जिसमें समाज के हर वर्ग ने लंगर चखा।

गुरुद्वाराअरजन दरबार, सेक्टर 11

अमरजीतसिंह चावला ने बताया कि अखंड पाठ की समाप्ति सुबह 8 बजे हुई। 8 से 10 बजे तक पाउंटा (हिमाचल प्रदेश) के जसबीर सिंह रागी जत्थे ने कीर्तन किया। 12 से दो बजे तक दूसरा दीवान सजा। इसके बाद लंगर का दौर चला। रात आठ बजे से सजे दीवान में बच्चों ने शबद कीर्तन किया, उन्हें पुरस्कृत किया गया।

गुरुद्वारादुख निवारण, सेक्टर 14

अध्यक्षहरभजन सिंह दरड़ ने बताया कि 10 बजे अखंड पाठ की समाप्ति हुई। दस से 1 बजे त