पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • सुविवि : तैयारियां पूरी, बेहतर स्थान पाने की उम्मीद

सुविवि : तैयारियां पूरी, बेहतर स्थान पाने की उम्मीद

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
स्मार्ट सिटी की तरह स्मार्ट उच्च शिक्षण संस्थानों की होगी रैंकिंग

स्वच्छभारत मिशन के तहत होने वाली शहरों की रैंकिंग के बाद अब मानव संसाधन विकास मंत्रालय देश के उच्च शिक्षण संस्थानों की भी स्वच्छता रैंकिंग करेगा। सभी शिक्षण संस्थान 31 जुलाई तक स्वच्छता रिपोर्ट तैयार कर यूजीसी को भेजेंगे। जिसके बाद अगस्त में यूजीसी की टीमें संस्थानों का दौरा कर वास्तविकता की जांच करेंगी। फिर संस्थानों की रैंकिंग सितम्बर के पहले सप्ताह में जारी होगी। 8 सितम्बर 2017 को बेहतर स्थान प्राप्त करने वाले संस्थानों को पुरस्कृत किया जाएगा। विवि, कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थानों की अलग-अलग वर्ग में रैंकिंग की जाएगी। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने देश के सभी उच्च शिक्षण संस्थानों को स्वच्छता रैंकिंग में भाग लेने के निर्देश दिए हैं। पहली बार ऐसा होगा जब शिक्षण संस्थानों में स्वच्छता और पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए रैंकिंग की जा रही है। गुरुवार से रैंकिंग में भाग लेने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है जो 31 जुलाई तक चलेगी।

कैम्पस के अंदर ये मानदंड रहेंगे : 85 प्रतिशत वेटेज

{हॉस्टल,अकादमिक भवनों में टॉयलेट्स की उपलब्धता, उनका रखरखाव और स्वच्छता।

{कैम्पस में कचरे की सफाई और एकत्रित करने की व्यवस्था।

{कचरा निस्तारण की सुविधा।

{सॉलिड और लिक्विड वेस्ट मैनेजमेंट को लेकर तकनीकी नवाचार।

{हॉस्टल के मैस में हाइजीन का स्तर, स्टाफ, चिमनी और ईधन की गुणवत्ता और उपलब्धता।

{जल संसाधन, पाइपलाइन सिस्टम, पीने के पानी की गुणवत्ता।

{कैम्पस में पेड़-पौधे और हरियाली का स्तर।

{ आस-पास किसी गांव को गोद लिया गया हो।

{ सार्वजनिक स्थानों को स्वच्छ बनाने के लिए कोई कदम उठाए हो।

संस्थान के आंतरिक और बाहरी क्षेत्र के पैमानों से भी जुड़े होंगे मानदंड

संस्थानोंकी रैंकिंग के तहत एमएचआरडी ने कैम्पस को रैंकिंग देने के लिए संस्थान के मानदंडों को आंतरिक और बाहरी पैमानों से जोड़ा है। इसके तहत कैम्पस के आंतरिक स्वच्छता के लिए 85 प्रतिशत और बाहरी स्वच्छता के लिए 15 प्रतिशत हाइजनिक वेटेज दिया जाएगा। इसके लिए एमएचआरडी ने कड़े मानदंड तय किए हैं, उन मानदंडों के आधार पर ही संस्थानों को अंक दिए जाएंगे।

सुविवि के कुलपति प्रो. जेपी शर्मा ने बताया कि रैंकिंग के लिए सुविवि ने अपनी तैयारियां पूरी कर ली हैं। जल्द ही विवि अपने कैम्पस के अनुसार रिपोर्ट तैयार कर यूजीसी को भेजेगा। उन्होंने बताया उम्मीद है कि सुविवि स्वच्छता रैंकिंग में बेहतर स्थान बनाएगा।

खबरें और भी हैं...