बैंकों में जमा नहीं हुए पांच हजार से ज्यादा, लौटे उपभोक्ता, आरबीआई ने वापस लिए निर्देश

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
उदयपुर. पांच हजार रुपए से ज्यादा की रकम जमा कराने पर कारण बताने के आरबीआई के निर्देश के बाद दो दिन लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ा। निर्देश के बाद परेशान कई लोग तो बिना पैसा जमा कराए ही वापस लौट गए वहीं कई ने अगल-अलग कारण दिए।
पांच हजार से ज्यादा जमा कराने वाले ज्यादातर लोगों ने यही बताया कि 30 दिसम्बर तक का समय होने के कारण उन्होंने अब तक पैसा जमा नहीं कराया। ऐसे में अचानक ऐसा नियम आने से उन्हें परेशानी हुई। इधर बुधवार दोपहर को आरबीआई से फरमान वापस लेने के बावजूद लोगों को राहत नहीं मिली। बैंकों के पास शाम तक कोई निर्देश नहीं आए।
ऐसे में ज्यादातर बैंकों ने लिखित आदेश नहीं आने का हवाला देकर पैसे जमा नहीं किए। अधिकारियों ने बताया कि आदेश के बाद पिछले दो दिन में उदयपुर जिले में 500 और 1000 रुपए के नोट के रूप में 20 करोड़ रुपया जमा हुआ है। गुरुवार से बैंकों में बिना किसी रोक-टोक के उपभोक्ता पैसे जमा करा सकेंगे।
आज प्रदेश के सभी लीड बैंक अधिकारियों की जयपुर में होगी बैठक
आरबीअाई ने प्रदेश के सभी जिलों के लीड बैंक अधिकारियों को जयपुर बुलाया है। गुरुवार और शुक्रवार को 33 जिलों के अधिकारी जयपुर में बैठक में शामिल होंगे। बैठक में कैशलेस इकॉनॉमी को बढ़ावा देने के लिए विशेष निर्देश दिए जाएंगे। इस दौरान सभी लीड बैंक अधिकारियों के लिए एक वर्कशॉप भी रखी जाएगी। सभी अधिकारी अपने-अपने जिलों में कैश की स्थिति को भी आरबीआई को बताएंगे।
निष्क्रिय खातों में नहीं होंगे पैसे जमा
आरबीआई से नया आदेश आने के बाद किसी भी डॉरमेंट यानी निष्क्रिय अकाउंट में पैसा जमा नहीं करा सकेंगे। वे बैंक खाते जो लम्बे समय से निष्क्रिय हैं, उनमें पैसा जमा नहीं किया जाएगा। अबतक निष्क्रिय खातों में आईडी प्रूफ की मदद से पैसे जमा किए जा रहे थे।
बैंकों के पास 18 करोड़ शेष, अधिकतर एटीएम कैशलेस

बुधवार तक उदयपुर के बैंकों में 18 करोड़ रुपए शेष बचे हैं। कैश खत्म होने के कारण जिले भर में अधिकतर एटीएम बंद रहे। बैंकों में भी कैश कम होने के कारण बहुत कम राशि लोगों को मिली। जिससे लोगों को परेशानी हुई। अगले सप्ताह तक आरबीआई से नया कैश आने की उम्मीद जताई जा रही है।
गुरुवार से उपभोक्ता बिना किसी रोक-टोक और स्पष्टीकरण के पुराने नोट बैंक में जमा करा सकेंगे। -मुकुन्द भट्ट, लीड बैंक अधिकारी, उदयपुर
खबरें और भी हैं...