पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेजिडेंट ने नहीं मानी गृहमंत्री की बात मरीजों को छोड़ उतरे हड़ताल पर

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
उदयपुर. कोटा में रेजिडेंट के साथ मारपीट की घटना के विरोध में उदयपुर में एमबी अस्पताल के रेजिडेंट्स भी गुरुवार दोपहर 2 बजे से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर उतर गए। रेजिडेंट ने कैबिनेट मंत्री गुलाबचंद कटारिया की संयम बरतने की नसीहत नहीं मानी जो उन्होंने 15 दिन पहले जनाना अस्पताल में बने गायनिक नेफ्रो आईसीयू के उद्घाटन के मौके पर दी थी। हड़ताल के चलते संभाग के सबसे बड़े अस्पताल में गंभीर हालत वाले मरीजों की परेशानी बढ़ गई है। कई मरीजों ने निजी अस्पतालों का रुख कर लिया है। अस्पताल अधीक्षक ने सीनियर डॉक्टर्स लगाकर ज्वाइंट डायरेक्टर से 20 और डॉक्टर मांगे हैं।
डॉक्टरों से क्या और क्यों कहा था कटारिया ने
कटारिया ने कहा था कि डॉक्टर को धैर्य रखना होगा। विवाद उस वक्त होता है जब परिजन पहले से ही पीड़ा में होता है। डॉक्टर संयम रख कर परिजनों से संवाद बनाकर रखेंगे तो ऐसे विवाद होंगे ही नहीं। अस्पतालों में आए दिन मरीज के परिजनों व डॉक्टरों के बीच होने वाले विवाद और हड़ताल के संदर्भ में ये नसीहत दी था।
8 महीने में चौथी हड़ताल, 2 बार बाहरी कारणों से
एमबी हॉस्पिटल में पिछले 8 महीनों में रेजिडेंट की यह चौथी हड़ताल है। दो बार हड़ताल का कारण यहीं पर मरीज के परिजनों के बीच विवाद रहा जबकि दो बार जोधपुर और अब काेटा में घटना के बाद वहां के रेजिडेंट्स के समर्थन में हुई है। यानी दूसरे शहरों का खामियाजा भी यहां के मरीजों को भुगतना पड़ रहा है।
वार्ड 4 में 3 घंटे में हो गई 3 मौत गंभीर रोगियों की परेशानी बढ़ी
दोपहर 2 बजे हड़ताल शुरू होते ही शाम 5 बजे के बीच वार्ड नंबर-4 में तीन मरीजों हरीश, जीतमल और मानसिंह की मौत हो गई। इसी वार्ड में प्रतापगढ़ से रेफर हुए एक बुजुर्ग रोगी को जमीन पर लिटा परिजन डेढ़ घंटे तक इलाज शुरू होने का इंतजार करते रहे। ग्लुकोज की बोतल खाली हाे चुकी थी। बेटे ने हाथ से सीरिंज निकाली तो खून बहने लगा। भास्कर की टीम पहुंची तो इलाज शुरू हो सका। नर्सिंग स्टॉफ हरकत में आया। बेटे दशरथसिंह ने बताया कि पिता को खून की उल्टियां होने से हालत बिगड़ गई थी।
मांगें पूरी होने तक रहेंगे हड़ताल पर : रेजिडेंट
कोटा की घटना के बाद जो मांगें सरकार से रखी हैं वे पूरी होने पर ही ड्यूटी पर लौटेंगे। मांगें पूरी नहीं होने तक उदयपुर में रेजिडेंट हड़ताल पर रहेंगे। नरेन्द्र श्योरान, अध्यक्ष, रेजिडेंट एसोसिएशन
सीनियर मुस्तैद, 20 डॉक्टर और मांगे : अधीक्षक
वार्डों में सीनियर डॉक्टर्स की ड्यूटी लगाई है। जॉइंट डायरेक्टर से अतिरिक्त 20 डॉक्टर्स लगाने का आग्रह किया है, जो शुक्रवार से सेवाएं देंगे।
डॉ. डीपी.सिंह, अधीक्षक, एमबी हॉस्पिटल
फोटो- प्रतापगढ़ से रेफर होकर उदयपुर आए मरीज को न तो बेड मिला न ही समय पर इलाज। बेटे को निकालनी पड़ी सीरिंज।