पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Justice Is An Independent Corporation, Not Opinion

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

न्याय पालिका स्वतंत्र है, स्वच्छंद नहीं

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
उदयपुर। न्याय पालिका स्वतंत्र है, लेकिन स्वच्छंद नहीं। राजस्थान हाईकोर्ट के अतिरिक्त मुख्य न्यायाधिपति गोविंद माथुर ने कहा कि हमारे देश की न्याय पालिका लगातार ऐसे फैसले देती रही है, जिससे आम आदमी को इंसाफ मिला है। यही वजह है कि भारत का लोकतंत्र इस वैश्विक संक्रमणकाल में भी लगातार फलफूल रहा है। उन्होंने कहा कि कोशिश यह होनी चाहिए कि लोगों को जल्द से जल्द न्याय मिले। न्यायाधिपति माथुर शनिवार को बार एसोसिएशन उदयपुर की ओर से यहां सुखाड़िया यूनिवर्सिटी सभागार में स्वर्ण जयंती समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि किसी भी राज्य या मुल्क का विघटन तब होता है, जब वहां की जनता को न्याय नहीं मिलता है। बगैर न्याय के कोई भी सत्ता कायम नहीं रह सकती है। हाईकोर्ट के अतिरिक्त मुख्य न्यायाधिपति गोपाल कृष्ण व्यास, महेश कुमार शर्मा ने भी स्वर्ण जयंती समारोह आयोजित करने पर बार एसोसिएशन की कार्यकारिणी को बधाई दी। इन्होंने युवा अधिवक्ताओं को ज्यादा से ज्यादा समय केस स्टडी करने की जरूरत बताई। सुप्रीम कोर्ट की बार एसोसिएशन के प्रवीण एच. पारीख, राजस्थान बार कौंसिंल के अध्यक्ष इंदर राज सैनी भी विशिष्ट अतिथि थे। अध्यक्षता जिला एवं सत्र न्यायाधीश महेंद्र कुमार माहेश्वरी ने की। मंचासीन अतिथियों में उदयपुर बार एसोसिएशन के अध्यक्ष भरत जोशी और महेंद्र कुमार नागदा भी शामिल थे। मीडिया जजमेंट न दे : पारीख मीडिया ट्रायल एंड इट्स इंपैक्ट विषय के मुख्य वक्ता सुप्रीम कोर्ट के बार एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रवीण एच. पारीख ने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के आने के बाद मीडिया कई केसेज में जज की भूमिका में आ गया है। उन्होंने कहा कि कई केसों में इलेक्ट्रॉनिक चैनल्स द्वारा पब्लिक ओपिनियन मांगी गई। ऐसे में जजमेंट प्रभावित होता है। मीडिया को चाहिए कि वो स्वयं को नियंत्रित करे, ताकि न्याय पालिका प्रभावित न हो। न्यायाधीश भी सोसायटी का ही हिस्सा हैं। ऐसे में अगर मीडिया केसेज को इस तरह से प्रभावित करेगा, तो न्यायाधिपति भी प्रभावित होने से नहीं बच सकेंगे। बार कौंसिल ऑफ राजस्थान के मेंबर सुरेश श्रीमाल ने कहा कि मीडिया को तथ्यों को उजागर करना चाहिए, भ्रष्टाचार का खुलासा करना चाहिए पर फैसला नहीं सुनाना चाहिए। इसी विषय पर पत्रकार रवि शर्मा, मोहम्मद इलियास ने भी विचार रखे। इसके बाद परिचर्चा में शामिल अधिवक्ताओं ने वक्ताओं से प्रश्न पूछकर जिज्ञासा शांत की। देश में जोधपुर साइबर क्राइम में दूसरे नंबर पर : चिरानिया साइबर लॉ एंड सोसायटी विषय पर मुख्य वक्ता रवि चिरानिया ने कहा कि राजस्थान में साइबर क्राइम तेजी से बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि पिछले साल जोधपुर में साइबर क्राइम के 15 मुकदमे दर्ज किए गए थे। जोधपुर देश का दूसरे नंबर का शहर है, जहां साइबर क्राइम तेजी से बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि देश में 2010 में 67 प्रतिशत साइबर क्राइम का इजाफा हुआ है। इसमें सर्वाधिक छह से 18 वर्ष से कम के किशोर और 18 से 30 वर्ष के युवा शामिल हैं। उन्होंने अधिवक्ताओं को साइबर लॉ की बारीकियों से अवगत कराया। इस विषय पर राजसमंद बार एसोसिएशन के अध्यक्ष प्रजीता तिवारी, डूंगरपुर बार एसोसिएशन के दिनेश चौबीसा, भीलवाड़ा बार एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेंद्र कचौलिया ने भी विचार रखे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज घर के कार्यों को सुव्यवस्थित करने में व्यस्तता बनी रहेगी। परिवार जनों के साथ आर्थिक स्थिति को बेहतर बनाने संबंधी योजनाएं भी बनेंगे। कोई पुश्तैनी जमीन-जायदाद संबंधी कार्य आपसी सहमति द्वारा ...

और पढ़ें