क्रिकेट रोचक

--Advertisement--

20 साल पहले भी हुई थी Nidahas Trophy, सचिन-गांगुली ने बनाया था वर्ल्ड रिकॉर्ड

सबसे पहले ये टूर्नामेंट 1998 में श्रीलंका के इंडिपेंडेंसडे के 50 साल पूरे होने के मौके पर खेला गया था।

Danik Bhaskar

Mar 13, 2018, 10:10 PM IST

स्पोर्ट्स डेस्क. श्रीलंका में चल रही टी20 निदाहास ट्रॉफी इंडियन फैन्स के लिए काफी खास है। दरअसल, ये ट्रॉफी 20 साल बाद हो रही है। इससे पहले ये टूर्नामेंट 1998 में हुआ था। तब ये सीरीज वनडे फॉर्मेट में खेली गई थी, जिसे टीम इंडिया ने जीता था। इसी टूर्नामेंट में सचिन तेंडलुकर और सौरव गांगुली ने पहले विकेट के लिए सबसे बड़ी पार्टनरशिप का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया था। ऐसा है निदाहास ट्रॉफी का इतिहास...

- सबसे पहले ये टूर्नामेंट 1998 में श्रीलंका के इंडिपेंडेंसडे के 50 साल पूरे होने के मौके पर खेला गया था। तब वनडे फॉर्मेट में हुए इस टूर्नामेंट की तीन टीमें भारत, श्रीलंका और न्यूजीलैंड थीं। फाइनल में भारत ने श्रीलंका को 6 रन से हार दिया था।

- अब 20 साल बाद फिर से टूर्नामेंट टी20 फॉर्मेट में हो रहा है। इस बार भारत-श्रीलंका के अलावा तीसरी टीम बांग्लादेश हैं।

यहीं सचिन-गांगुली ने बनाया था वर्ल्ड रिकॉर्ड

- 7 जुलाई, 1998 को श्रीलंका के खिलाफ पहले बैटिंग करते हुए निदाहास ट्रॉफी के मैच में 50 ओवर में 6 विकेट खोकर 307 रन बनाए थे।

- ओपनिंग करने आए सौरव गांगुली और सचिन तेंडुलकर ने पहले विकेट के लिए 252 रन की रिकॉर्ड पार्टनरशिप की थी। मैच में सचि ने 128 और गांगुली ने 109 रन बनाए थे।

- सचिन ने 131 रन की इनिंग में 8 चौके और 2 सिक्स लगाए थे। वहीं, गांगुली ने 136 बॉल का सामना किया और 6 चौके और 2 छक्के लगाए थे। सचिन मैन ऑफ द मैच रहे थे।

8 साल तक कायम रहा रिकॉर्ड
- सचिन और सौरव का ये वर्ल्ड रिकॉर्ड 8 साल बाद टूटा। इसे श्रीलंका के ही उपुल थरंगा और सनथ जयसूर्या ने साल 2006 में तोड़ा, जो आज तक वर्ल्ड रिकॉर्ड है।

आगे की स्लाइड्स में देखें वनडे क्रिकेट में पहले विकेट के लिए अब तक हुईं टॉप 10 पार्टनरशिप....

Click to listen..