--Advertisement--

टीम इंडिया की गड़बड़ियों पर पूर्व सिलेक्टर का खुलासा, विराट के खिलाफ थे धोनी

अक्टूबर 2006 में चीफ सिलेक्टर बनने वाले दिलीप वेंगसरकर को सिर्फ दो साल बाद सितंबर 2008 में हटा दिया गया था।

Dainik Bhaskar

Mar 08, 2018, 02:12 PM IST
टीम इंडिया के पूर्व सिलेक्टर और पूर्व क्रिकेटर दिलीप वेंगसरकर ने खुलासा करते हुए कहा है कि एमएस धोनी नहीं चाहते थे कि विराट का सिलेक्शन टीम में हो। टीम इंडिया के पूर्व सिलेक्टर और पूर्व क्रिकेटर दिलीप वेंगसरकर ने खुलासा करते हुए कहा है कि एमएस धोनी नहीं चाहते थे कि विराट का सिलेक्शन टीम में हो।

स्पोर्ट्स डेस्क. भारतीय टीम के पूर्व चयनकर्ता दिलीप वेंगसरकर ने चीफ सिलेक्टर पद से उनकी छुट्टी को लेकर एक बड़ा खुलासा किया है। वेंगसरकर के मुताबिक साल 2008 में टीम इंडिया के श्रीलंका टूर के वक्त विराट कोहली को टीम में शामिल करने को लेकर उनका एन. श्रीनिवासन के साथ टकराव हो गया था, जो कि उस वक्त बीसीसीआई के ट्रेजरर थे। वे नहीं चाहते थे कि विराट टीम में आए, और इस मामले में तत्कालीन कप्तान एमएस धोनी और कोच गैरी कर्स्टन भी उनका साथ दे रहे थे। इसके बाद अगले ही दिन मेरी सिलेक्टर पद से छुट्टी हो गई थी। क्या हुआ था 2008 में...

- मुंबई में हुए एक प्रोग्राम में वेंगसरकर ने साल 2008 में सिलेक्शन रूम का पूरा डर्टी सीक्रेट का खुलासा किया। उन्होंने बताया 'ऑस्ट्रेलिया में इमर्जिंग प्लेयर्स टूर्नामेंट होता है। साल 2008 में हुए इस टूर्नामेंट के वक्त हमने फैसला लिया कि इसके लिए अंडर-23 प्लेयर्स को वहां ले जाएंगे। तब विराट अंडर-19 के कैप्टन थे। तब मैंने ही उन्हें इमर्जिंग प्लेयर्स टूर्नामेंट के लिए टीम में लिया था।'
- 'विराट तब ओपनर थे एक मैच में उन्होंने 123 नॉट आउट रन बनाए। तब मुझे लगा कि इस लड़के को टीम इंडिया में मौका देना चाहिए। मुझे लगा कि यह मैच्योर प्लेयर हैं। फिर मैं भारत लौटा, इसके बाद श्रीलंका दौरे के लिए वनडे टीम चुनी जानी थी। मुझे लगा कि ये सही वक्त है जब कोहली को मौका दिया जाए।'

क्यों कोहली के फेवर में नहीं थे कस्टर्न-धोनी?

- वेंगसरकर के मुताबिक, 'सिलेक्शन कमेटी के चार मेंबर मेरे साथ थे, लेकिन गैरी कस्टर्न और धोनी का कहना था कि ऐसा नहीं करना चाहिए। उनकी दलील थी कि हमने कोहली का खेल देखा नहीं है। लेकिन मैंने उन्हें बताया कि आपने भले ही नहीं देखा, लेकिन मैं कोहली का खेल देख चुका हूं।'

श्रीनिवासन हो गए थे नाराज

- पूर्व चीफ सिलेक्टर ने बताया, 'उस वक्त कुछ लोग साउथ के एस. बद्रीनाथ को टीम में लेना चाहते थे, जो IPL में चेन्नई सुपरकिंग्स से खेलता था। लेकिन मैंने विराट कोहली को टीम में लिया। इससे बद्रीनाथ दौड़ से बाहर हो गया।'

- इसी बात को लेकर बीसीसीआई के ट्रेजरर एन श्रीनिवासन नाराज हो गए। उन्होंने पूछा कि कैसे आपने बद्रीनाथ को कैसे बाहर कर दिया। मैंने बताया कि कोहली असाधारण खिलाड़ी है और उसे मौका मिलना चाहिए।'

- वेंगसरकर ने आगे कहा, 'श्रीनिवासन का तर्क था कि बद्रीनाथ ने तमिलनाडु के लिए एक सीजन में 800 रन बनाए फिर भी उसे बाहर क्यों रखा जा रहा? वो 29 साल का हो गया है, उसे कब चांस दिया जाएगा। मैंने कहा कि जल्द ही बद्रीनाथ को मौका मिलेगा। कब मिलेगा, यह नहीं बता सकता।'

- वेंगसरकर ने कहा कि श्रीनिवासन अगले ही दिन के. श्रीकांत को लेकर शरद पवार के पास गए और मेरी चीफ सिलेक्टर पद से छुट्टी हो गई।

इस वजह से बद्रीनाथ थे फेवरेट

- बीसीसीआई के तत्कालीन ट्रेजरर एन. श्रीनिवासन तमिलनाडु के हैं और बद्रीनाथ भी तमिलनाडु से ही आते हैं। इसी वजह से श्रीनिवासन चाहते थे कि बद्रीनाथ का सिलेक्शन टीम में हो।

- वहीं श्रीनिवासन IPL टीम चेन्नई सुपरकिंग्स के भी ओनर थे, और बद्रीनाथ भी उसी टीम के लिए खेलते थे। बद्रीनाथ के फेवर करने की एक वजह ये भी थी।

- उधर धोनी भी IPL में चेन्नई सुपर किंग्स से खेलते हैं और उस वक्त भी टीम के कप्तान थे। वे भी चाहते थे कि उनकी टीम को कोई फ्लेयर टीम इंडिया में एंट्री कर ले।

- हालांकि विरोध के बाद भी विराट का सिलेक्शन श्रीलंका जाने वाली इंडियन टीम में हुआ जहां उन्होंने अपना डेब्यू वनडे खेला।

आगे की स्लाइड्स में देखें, इस खबर से जुड़े फोटोज...

दिलीप वेंगसरकर के मुताबिक तमिलनाडु के एक क्रिकेटर का विरोध करने की वजह से उन्हें सिलेक्टर के पद से हटा दिया गया। दिलीप वेंगसरकर के मुताबिक तमिलनाडु के एक क्रिकेटर का विरोध करने की वजह से उन्हें सिलेक्टर के पद से हटा दिया गया।
अक्टूबर, 2006 में किरण मोरे के बाद चीफ सिलेक्टर पद संभालने वाले दिलीप वेंगसरकर को सिर्फ दो साल बाद सितंबर 2008 में पद से हटा दिया गया था और उनकी जगह पर श्रीकांत को चीफ सिलेक्टर बना दिया गया था। अक्टूबर, 2006 में किरण मोरे के बाद चीफ सिलेक्टर पद संभालने वाले दिलीप वेंगसरकर को सिर्फ दो साल बाद सितंबर 2008 में पद से हटा दिया गया था और उनकी जगह पर श्रीकांत को चीफ सिलेक्टर बना दिया गया था।
X
टीम इंडिया के पूर्व सिलेक्टर और पूर्व क्रिकेटर दिलीप वेंगसरकर ने खुलासा करते हुए कहा है कि एमएस धोनी नहीं चाहते थे कि विराट का सिलेक्शन टीम में हो।टीम इंडिया के पूर्व सिलेक्टर और पूर्व क्रिकेटर दिलीप वेंगसरकर ने खुलासा करते हुए कहा है कि एमएस धोनी नहीं चाहते थे कि विराट का सिलेक्शन टीम में हो।
दिलीप वेंगसरकर के मुताबिक तमिलनाडु के एक क्रिकेटर का विरोध करने की वजह से उन्हें सिलेक्टर के पद से हटा दिया गया।दिलीप वेंगसरकर के मुताबिक तमिलनाडु के एक क्रिकेटर का विरोध करने की वजह से उन्हें सिलेक्टर के पद से हटा दिया गया।
अक्टूबर, 2006 में किरण मोरे के बाद चीफ सिलेक्टर पद संभालने वाले दिलीप वेंगसरकर को सिर्फ दो साल बाद सितंबर 2008 में पद से हटा दिया गया था और उनकी जगह पर श्रीकांत को चीफ सिलेक्टर बना दिया गया था।अक्टूबर, 2006 में किरण मोरे के बाद चीफ सिलेक्टर पद संभालने वाले दिलीप वेंगसरकर को सिर्फ दो साल बाद सितंबर 2008 में पद से हटा दिया गया था और उनकी जगह पर श्रीकांत को चीफ सिलेक्टर बना दिया गया था।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..