• Home
  • Sports
  • Cricket
  • Match Preview for 2nd ODI- India v Sri Lanka Punjab Cricket Association, IS Bindra Stadium, Mohali, Chandigarh
--Advertisement--

IND-SL दूसरा वनडे कल, करो या मरो मैच में टीम इंडिया के सामने होंगे ये 5 चैलेंज

टीम इंडिया के खिलाफ लगातार 10 वनडे हारने के बाद श्रीलंकाई टीम ने धर्मशाला वनडे जीतकर सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली।

Danik Bhaskar | Dec 12, 2017, 06:12 PM IST

स्पोर्ट्स डेस्क. भारत और श्रीलंका के बीच वनडे सीरीज का दूसरा मैच बुधवार (13 दिसंबर) को मोहाली के पीसीए स्टेडियम में खेला जाएगा। रोहित शर्मा की कप्तानी में पहला वनडे हारने के बाद भारतीय टीम के लिए ये मैच करो या मरो का मुकाबला हो गया है। उधर श्रीलंकाई टीम की कोशिश इस मैच को जीतकर भारत की धरती पर पहली वनडे सीरीज जीतने की होगी। भारत में श्रीलंका ने अबतक नहीं जीती है कोई सीरीज....

- टीम इंडिया के खिलाफ लगातार 10 वनडे हारने के बाद श्रीलंकाई टीम ने धर्मशाला वनडे जीतकर सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। भारत की धरती पर उसने 8 साल बाद मेजबान टीम के खिलाफ कोई मैच जीता था।

- श्रीलंकाई टीम भारत की धरती पर अबतक कोई वनडे सीरीज नहीं जीत सकी है। दोनों देशों के बीच वनडे हिस्ट्री में कुल 17 बाइलेटरल सीरीज हुई हैं। जिनमें से भारत ने 12 तो श्रीलंका ने सिर्फ दो सीरीज जीती हैं। तीन सीरीज ड्रॉ रही हैं।
- मेहमान टीम ने भारत के खिलाफ आखिरी वनडे सीरीज 20 साल पहले 1997 में जीती थी। तब उसने सीरीज 3-0 से जीती थीं।

पहले वनडे के बाद रोहित ने कही थी ये बात

- टीम इंडिया धर्मशाला में हुआ पहला वनडे 7 विकेट से हार गई थी। पहले वनडे में टीम की परफॉर्मेंस बेहद खराब थी और वो 38.2 ओवर में 112 रन पर ऑल आउट हो गई थी।
- धर्मशाला में धोनी एकबार फिर हीरो साबित हुए थे जिनके बनाए 65 रन की बदौलत ही टीम का स्कोर 100 के पार पहुंच सका था।
- मैच के बाद टीम के कार्यवाहक कप्तान रोहित शर्मा ने भी माना था कि यह हार टीम के लिए आंखें खोलने वाली है।

12 साल बाद मोहाली में श्रीलंका के खिलाफ खेलेगा भारत

- टीम इंडिया ने मोहाली के PCA स्टेडियम में कुल 14 मैच खेले हैं। जिसमें से 9 में उसे जीत और 5 में हार मिली है।
- श्रीलंकाई टीम ने इस ग्राउंड पर 3 मैच खेले हैं। जिसमें से उसने दो में उसे जीत और 1 में हार मिली है।
- भारत और श्रीलंका के बीच इस ग्राउंड पर एक ही वनडे खेला गया है, जो अक्टूबर 2005 में हुआ था। मेजबान टीम ने ये मैच 8 विकेट से जीता था।


पहले वनडे में फेल रहे थे दोनों ओपनर्स

- धर्मशाला में हुए सीरीज के पहले वनडे में टीम इंडिया की ओपनिंग बेहद खराब रही थी। इस दौरान धवन बिना खाता खोले और रोहित 2 रन बनाकर आउट हो गए थे।
- भारत के शुरुआती दो विकेट 5 ओवर से पहले 2 रन पर गिर गए थे। ऐसे में आने वाले बैट्समैन पर प्रेशर काफी बढ़ गया और वे भी इसे नहीं झेल सके।
- सीरीज का दूसरा वनडे जीतने के लिए भारत को बेहतरीन ओपनिंग की दरकार होगी। ऐसे में शिखर और रोहित पर जिम्मेदारी काफी बढ़ जाती है।
- इस सीरीज में तो रोहित पर दोहरी जिम्मेदारी है। ना केवल उन्हें बतौर ओपनर अच्छी शुरुआत देनी होगी, बल्कि बतौर कप्तान भी टीम को जीत दिलाना होगा।
- रोहित ने इस साल 19 वनडे मैच खेले हैं। जिसमें उन्होंने 63.41 के 1078 रन बनाए हैं। उधर धवन ने इस साल खेले 20 वनडे मैचों में 41.68 के एवरेज से 792 रन बनाए हैं।
- अगर दोनों ओपनर्स अपनी एवरेज परफॉर्मेंस भी देते हैं, तो टीम को एक बेहतरीन ओपनिंग मिलना तय है।

आगे की स्लाइड्स में देखें, दूसरे वनडे में टीम इंडिया के सामने होंगे कौन से चैलेंज...

मिडिल ऑर्डर को करना होगा श्रीलंकाई बॉलर्स का सामना

 

- पहले वनडे में मिडिल ऑर्डर में टीम को संभालने की जिम्मेदारी श्रेयस अय्यर, दिनेश कार्तिक, मनीष पांडे पर थी। लेकिन इनमें से कोई भी प्लेयर इस मौके का इस्तेमाल नहीं कर सका।
- मिडिल ऑर्डर में जहां तीन प्लेयर्स ने मिलकर सिर्फ 11 रन बनाए थे, वहीं अकेले एमएस धोनी ने 65 रन की इनिंग खेलकर टीम की लाज रख ली थी।
- लोअर ऑर्डर में उपयोगी साबित होने वाले भुवनेश्वर कुमार, जसप्रीत बुमराह भी धवन की तरह 'डक' पर लौटे थे। हालांकि कुलदीप यादव और जसप्रीत बुमराह ने धोनी का अच्छा साथ देते हुए टीम के लिए जरूरी पार्टनरशिप की थी।
- भारतीय टीम को अगर श्रीलंका को जीतने से रोकना है तो टीम के लिए ये बेहद जरूरी होगा कि मिडिल ऑर्डर बैट्समैन चलें और टीम के लिए रन बनाएं।
- अय्यर ने धर्मशाला में डेब्यू मैच खेला था। ऐसे में अगर उन्हें एकबार फिर प्लेइंग इलेवन में जगह मिलती है तो उनके सामने ये मैच एकबार फिर बेहतरीन मौका होगा।
- उधर दिनेश कार्तिक और मनीष पांडे भी टीम में अपनी जगह पक्की करना चाहते हैं तो उन्हें भी अपने होने का अहसास सामने वाली टीम को दिलाना होगा।

ऑलराउंडर परफॉर्मेंस देने में फेल रहे थे पंड्या

 

 

- हार्दिक पंड्या बेहद तेजी से टीम के स्टार ऑलराउंडर के तौर पर उभरे हैं। हालांकि पिछले कई मैचों से वो फ्लॉप ही साबित हो रहे हैं।
- धर्मशाला में हुए पहले वनडे में हार्दिक 10 बॉल पर 10 रन बनाकर आउट हो गए थे। जब वे खेलने आए थे तब टीम की हालत बेहद नाजुक थी।
- पहले वनडे में धोनी एक छोर पर डटकर खड़े हुए थे लेकिन दूसरे छोर से उन्हें किसी का साथ नहीं मिला। पंड्या भी उनका साथ नहीं दे सके।

- पंड्या को जरूरत थी कि वे क्रीज पर रुकते और धोनी के साथ मिलकर तेजी से रन बनाते। लेकिन वे ऐसा करने में पूरी तरह फेल रहे।
- मोहाली में जीत के लिए बेहद जरूरी होगा कि पंड्या अपने रोल को समझते हुए वक्त की जरूरत के हिसाब से खेलें और रन बनाएं।

बॉलर्स को निकालने होंगे जल्दी-जल्दी विकेट

 

 

- पहले वनडे में बैट्समैन के फ्लॉप होने के बावजूद इंडियन बॉलर्स ने स्कोर को बचाने की कोशिश की थी। बॉलर्स ने 19 रन पर दो विकेट निकाल भी लिए थे।
- इस दौरान बुमराह और भुवनेश्वर को 1-1 विकेट मिला था। हालांकि इसके बाद उपुल थरंगा ने 49 रन की इनिंग खेलकर भारत की उम्मीदों पर पानी फेर दिया।
- टीम इंडिया को अगर दूसरा वनडे जीतना है तो ये जरूरी होगा कि बॉलर्स कसी हुई बॉलिंग करते हुए तेजी से विकेट निकालें।
- पहले वनडे में बुमराह ने उपुल थरंगा का विकेट ले लिया था, लेकिन रिप्ले में वो बॉल नो निकली। थरंगा को मिली ये लाइफलाइन भारत को बेहद भारी पड़ी।

स्पिनर्स के सामने भी होगा बड़ा चैलेंज

 

- पहले वनडे में भारत के कम स्कोर की वजह से स्पिनर्स को बॉल करने का मौका नहीं मिल सका था। हालांकि उम्मीद है कि दूसरे वनडे में ऐसी नौबत नहीं आएगी।
- दूसरे वनडे में फास्ट बॉलर्स की तरह ही स्पिनर्स के सामने भी चैलेंज होगा कि वे अपनी धारदार बॉलिंग से श्रीलंकाई बैट्समैन को रन बनाने से रोकें और विकेट लें।
- धर्मशाला वनडे में टीम इंडिया के लिए स्पिन की जिम्मेदारी कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल पर थी, और उम्मीद है कि मोहाली में भी इन दोनों को टीम में मौका मिलेगा।