Hindi News »Sports »Cricket »Bhaskar Special» Meet Five Sports Talent Of India

कोई सब्जी बेचने वाली की बेटी तो किसी के पिता चलाते हैं रिक्शा, गरीबी के बावजूद ये बने स्टार

सफलता किसी की मोहताज नहीं होती। मेहनत के बल पर आगे बढ़ने वालों को कोई रुकावट नहीं रोक सकती।

Dainikbhaskar.com | Last Modified - Feb 21, 2018, 04:25 PM IST

  • कोई सब्जी बेचने वाली की बेटी तो किसी के पिता चलाते हैं रिक्शा, गरीबी के बावजूद ये बने स्टार, sports news in hindi, sports news
    +4और स्लाइड देखें

    सफलता किसी की मोहताज नहीं होती। मेहनत के बल पर आगे बढ़ने वालों को कोई रुकावट नहीं रोक सकती। ऐसी ही कुछ कहानियां हैं भारत के इन युवा खिलाड़ियों की जिनका बचपन आर्थिक तंगी और गुमनामी के अंधेरे में बीता। संसाधनों के अभाव के बावजूद सपनों को हकीकत में बदलने की जिद ने इन्हें देश के बेस्ट खिलाड़ियों की लिस्ट में शामिल कर दिया है।

    जमुना बोरो: सब्जी बेचने वाली मां की बॉक्सर बेटी

    बचपन में पिता की मौत के बाद जमुना की मां गुजारे के लिए सब्जी बेचने लगी। इधर, गांव के लड़कों को वुशू (मार्शल आर्ट) करते देख जमुना ने भी इस स्पोर्ट्स को अपनाने की ठानी। संसाधनों की कमी में भी जमुना ने कई टूर्नामेंट्स में एक के बाद एक अवॉर्ड जीते। आज वे अंतरराष्ट्रीय स्तर के मुक्केबाजों में शामिल हो चुकी हैं।

  • कोई सब्जी बेचने वाली की बेटी तो किसी के पिता चलाते हैं रिक्शा, गरीबी के बावजूद ये बने स्टार, sports news in hindi, sports news
    +4और स्लाइड देखें
    रानी रामपाल

    हॉकी टीम इंडिया की असली रानी

    रानी रामपाल के पिता घोड़ा गाड़ी चलाते थे। उनकी माली हालत ऐसी नहीं थी कि रानी खेलने के लिए जूते, हॉकी स्टिक और बॉल जैसी चीजें खरीद पाए। लेकिन पिता से मिले सहयोग ने रानी के हौसले को टूटने नहीं दिया। आखिरकार रानी ने शाहबाद एकेडमी में दाखिला लिया। अपनी मेहनत के बल पर आज रानी देश के स्टार हॉकी खिलाड़ियों में शुमार हैं।

  • कोई सब्जी बेचने वाली की बेटी तो किसी के पिता चलाते हैं रिक्शा, गरीबी के बावजूद ये बने स्टार, sports news in hindi, sports news
    +4और स्लाइड देखें
    दीपिका कुमारी

    पिता रिक्शा चालक, बेटी शीर्ष खिलाड़ी

    रिक्शा चालक के यहां जन्म लेने वाली दीपिका ने शुरुआत में तीरंदाजी की प्रैक्टिस के लिए खुद धनुष बनाकर पेड़ पर लगे आमों को निशाना बनाया। 2006 में टाटा आर्चरी एकेडमी में एडमिशन के बाद पहली बार दीपिका ने आधुनिक धनुष को उठाया। अपनी मेहनत के बल पर जल्द ही वे दुनिया की नंबर एक तीरंदाज बन गईं।

  • कोई सब्जी बेचने वाली की बेटी तो किसी के पिता चलाते हैं रिक्शा, गरीबी के बावजूद ये बने स्टार, sports news in hindi, sports news
    +4और स्लाइड देखें
    पृथ्वी शॉ

    मुश्किलों को जवाब

    अंडर 19 क्रिकेट टीम के कप्तान पृथ्वी शॉ ने 4 साल की उम्र में अपनी मां को खो दिया था। पिता ने पृथ्वी का क्रिकेट कॅरिअर बनाने के लिए अपना बिजनेस छोड़ दिया। इस संघर्ष के बावजूद पृथ्वी आज सफल क्रिकेटर हैं।

  • कोई सब्जी बेचने वाली की बेटी तो किसी के पिता चलाते हैं रिक्शा, गरीबी के बावजूद ये बने स्टार, sports news in hindi, sports news
    +4और स्लाइड देखें
    जैक्सन सिंह

    गरीबी नहीं रोक पाई फुटबॉलर का रास्ता

    भारतीय अंडर 17 फुटबॉल टीम के कप्तान जैक्सन सिंह ने भी संघर्षों से दो-दो हाथ किए हैं। कुछ साल पहले पिता के बीमार होने पर मां ने सब्जी बेचकर गुजारा चलाया। बचपन में पिता से फुटबॉल के टिप्स सीखकर जैक्सन ने 11 साल की उम्र में चंडीगढ़ फुटबॉल एकेडमी में दाखिला लिया था। वहां उनके अच्छेप्रदर्शन ने उन्हें कप्तानी तक पहुंचाया।

आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Meet Five Sports Talent Of India
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bhaskar Special

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×