--Advertisement--

चाय वाले का बेटा बना U-19 टीम का ओपनर, वीडियो से सीखे रोहित जैसे शॉट

18 साल के मोहम्मद जैद आलम लाहौर में पिता के साथ बेचते थे चाय, क्रिकेट ने बदल दी इनकी दुनिया।

Dainik Bhaskar

Jan 13, 2018, 01:03 PM IST
जैद की ताकत उनका अटैकिंग गेम है। जैद की ताकत उनका अटैकिंग गेम है।

स्पोर्ट्स डेस्क. पाकिस्तान की टीम ने अंडर-19 क्रिकेट वर्ल्ड कप में शनिवार को अपना पहला मैच अफगानिस्तान से खेले। इस मैच के साथ ही पाकिस्तान के ओपनर मोहम्मद जैद ने अपना वो सपना पूरा किया, जो उन्होंने लाहौर में चाय बेचते हुए देखा था। यह सपना था वर्ल्ड कप में खेलने का। हालांकि, अपने पहले ही मैच में जैद बिना खाता खोले आउट हो गए। कमेंट्री सुन हुआ क्रिकेट से लगाव.....

- जैद के पिता आलम खान लाहौर में चाय की दुकान चलाते हैं। जैद भी पहले दुकान में पिता का हाथ बंटाते थे। पाकिस्तान की टीम जब भी कोई मैच खेलती तो आलम रेडियो पर कमेंट्री सुना करते थे। इसी से जैद को क्रिकेट से लगाव हो गया।

- कुछ समय बाद जैद टेप बॉल क्रिकेट खेलने लगे। जिस तरह भारत में टेनिस बॉल क्रिकेट लोकप्रिय है, उसी तरह पाकिस्तान में टेप बॉल क्रिकेट का चलन है। जैद को गाइडेंस देने के लिए कोई अच्छा कोच नहीं था।

वीडियो देख लगाते थे शॉट
- जैद यूट्यूब पर एबी डिविलियर्स और रोहित शर्मा के शॉट देखते और घर में आईने के सामने शैडो प्रैक्टिस करते। फिर इन्हीं शॉट को मैच में आजमाते। जल्दी ही वे अपनी टीम के सबसे शानदार बैट्समैन बन गए।

- जब यह बात आलम खान को पता चली तो उन्होंने जैद का दाखिला लाहौर के एक क्रिकेट क्लब में करा दिया। मोहम्मद अकबर बट्ट यहां के कोच थे और उन्होंने कई महीनों तक जैद से फीस भी नहीं ली। उन्होंने क्लब की ओर से जैद को किट भी मुहैया कराया।

- यहां से उनका करिअर तेजी से परवान चढ़ा और वे पहले लाहौर की, फिर पंजाब और आगे चल कर पाकिस्तान की जूनियर टीम में चुन लिए गए।

ऐसी है जैद की फैमिली
- जैद का परिवार 15 सदस्यों वाला है। माता-पिता और 13 भाई बहन हैं। उनका जुड़वा भाई भी है। जैद एक सफल क्रिकेटर बनकर अपने परिवार को मुफलिसी से बाहर निकालना चाहते हैं। यह टूर्नामेंट इस दिशा में पहला कदम है।


इंग्लिश सीखना चाहते हैं जैद
- जैद अच्छे शॉट जमाने के साथ-साथ अच्छी इंग्लिश बोलना सीखना चाहते हैं। वे कहते हैं, "मुझे सीखने का शौक है। चाहे शॉट हो या इंग्लिश। गलतियां करूंगा तभी तो सीखूंगा। लेकिन, एक दिन सीखूंगा जरूर।'

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें कब उनके साथी खिलाड़ियों ने जैद से कहा था, तू रोहित शर्मा थोड़ी है....

जैद के पिता चाहते थे कि वो खेल के साथ ही पढ़ाई पर भी ध्यान दे। जैद के पिता चाहते थे कि वो खेल के साथ ही पढ़ाई पर भी ध्यान दे।

शॉट मारने की कोशिश की थी

 

- ऑस्ट्रेलिया में एक अंडर-19 टूर्नामेंट खेलते हुए जैद ने घुटने पर बैठकर फ्लिक शॉट खेलने की कोशिश की। ये देखकर उनके साथी क्रिकेटर ने कहा, 'बस कर, रोहित शर्मा नहीं है तू, उसका रिकॉर्ड तोड़ना है क्या।'

- जैद मानते हैं कि एक दिन वो जरूर इस तरह से शॉट खेल पाएंगे। जैद के अनुसार, 'प्ले स्टेशन उनके काम की चीज नहीं। वो यू ट्यूब पर साउथ अफ्रीका के एबी डिविलियर्स और भारत के रोहित शर्मा का वीडियो देखते हैं और उसी तरह खेलने की कोशिश करते हैं।'

- जैद पाकिस्तानी ऑलराउंडर शोएब मलिक को अभी अपना इन्सपिरेशन मानते हैं। जैद ने वर्ल्ड कप से पहले ऑस्ट्रेलिया में एक सेन्चुरी और एक हाफ सेन्चुरी लगाई है। उनकी टीम ने ये वनडे सीरीज 2-0 से जीती थी।

Pakistan Under 19 Cricketer Muhammad Zaid success Story
Pakistan Under 19 Cricketer Muhammad Zaid success Story
X
जैद की ताकत उनका अटैकिंग गेम है।जैद की ताकत उनका अटैकिंग गेम है।
जैद के पिता चाहते थे कि वो खेल के साथ ही पढ़ाई पर भी ध्यान दे।जैद के पिता चाहते थे कि वो खेल के साथ ही पढ़ाई पर भी ध्यान दे।
Pakistan Under 19 Cricketer Muhammad Zaid success Story
Pakistan Under 19 Cricketer Muhammad Zaid success Story
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..