दीपा के घर तक सड़क बनाएगी त्रिपुरा सरकार, खराब रास्ते के चलते BMW लौटाने का किया था फैसला / दीपा के घर तक सड़क बनाएगी त्रिपुरा सरकार, खराब रास्ते के चलते BMW लौटाने का किया था फैसला

दीपा की फैमिली ने बताया कि त्रिपुरा में दीपा के घर तक BMW लायक न तो सड़कें हैं, न ही आसपास कोई सर्विस सेंटर है।

dainikbhaskar.com

Oct 18, 2016, 01:46 PM IST
सचिन ने सितंबर महीने में दीपा, सिंधु और साक्षी के साथ गोपीचंद को BMW गिफ्ट की थी। सचिन ने सितंबर महीने में दीपा, सिंधु और साक्षी के साथ गोपीचंद को BMW गिफ्ट की थी।
अगरतला. त्रिपुरा सरकार ने ओलिंपियन दीपा कर्माकर के घर तक सड़क बनाने का फैसला किया है। पब्लिक वर्क्स डिपार्टमेंट (पीडब्ल्यूडी) के एक अफसर ने बताया कि सड़क बनाने का काम अगले महीने से शुरू हो जाएगा। बता दें कि कुछ दिन पहले दीपा ने सड़केंं खराब होने की वजह से गिफ्ट में मिली BMW को लौटने का फैसला किया था। फैमिली ने कहा था- न सड़कें अच्छी और न सर्विस सेंटर है...
- हिंदुस्तान टाइम्स को पीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर सोमेश चंद्र दास ने बताया- "दीपा के घर की ओर सड़क दूसरी सड़कोंं की तरह ही खराब हुई है। इसकी मरम्मत होगी।"
- "सड़क की मरम्मत का काम अगले महीने से शुरू हो जाएगा।"
- कुछ समय पहले दीपा के कोच बिश्वेश्वर नंदी ने बताया था- "दीपा की फैमिली से बात कर हमने बीएमडब्ल्यू नहीं लेने का फैसला किया है। त्रिपुरा में दीपा के घर तक पहुंचने के लिए इसके लायक न तो सड़कें हैं, न ही आसपास कोई सर्विस सेंटर है। इसका मेंटेनेंस कर पाना फैमिली के लिए आसान नहीं होगा।"
- "दीपा जिस जगह रहती है, वहां की रोड काफी संंकरी हैं। आसपास कोई सर्विस सेंटर नहीं है। ऐसे में, कार का मेंटेनेंस मुश्किल हो जाएगा।"
- नंदी ने बताया कि कार के बदले कैश देने की बात कही गई है। इससे हम छोटी कार ले लेंगे। हालांकि, दीपा के पिता ने इस बारे में जानकारी न होने की बात कही।
- दीपा और उनके पिता को कार ड्राइविंग नहीं आती। BMW मिलने पर जब दीपा से इस बारे में पूछा गया था, तो उन्होंने कहा था कि गाड़ी आएगी तो मैं और पापा ड्राइविंग सीख लेंगे।
सचिन ने दीपा, साक्षी, सिंधु और गोपीचंद को भी दी थी चाबी
- सचिन तेंडुलकर ने सितंबर में रियो ओलिंपिक में मेडल विजेता पीवी सिंधु, जिमनास्ट दीपा कर्माकर, रेसलर साक्षी मलिक और सिंधु के कोच पुलेला गोपीचंद को सम्मानित किया था।
- चारों को हैदराबाद डिस्ट्रिक्ट बैडमिंटन एसोसिएशन के प्रेसिडेंट चामुंडेश्वरनाथ की ओर से बतौर इनाम BMW कारें दी गई थीं।
- इनाम पाने वालों को कार की चाबी सचिन तेंडुलकर के हाथों दी गई थी।
- बता दें कि सिंधु ने सिल्वर और साक्षी ने ब्रॉन्ज मेडल जीता था। वहीं, जिमनास्टिक के प्रोडुनोवा इवेंट में दीपा 4th पोजिशन पर रही थीं।
सिंधु, साक्षी और दीपा के अचीवमेंट
# सिंधु ने बैडमिंटन में दिलाया पहला सिल्वर
- सिंधु ने रियो में सिल्वर जीता। 92 साल से भारत ओलिंपिक में महिला एथलीट्स भेज रहा है। लेकिन सिल्वर जीतने वाली वे पहली महिला बनींं। बैडमिंटन में भी पहली बार सिल्वर सिंधु ने ही दिलाया है।

# साक्षी ने दिलाया अोलिंपिक में महिला रेसलिंग​ का पहला मेडल
- साक्षी ने रियो ओलिंपिक का पहला मेडल जीता था। उन्होंने रेसलिंग में ब्रॉन्ज मेडल जीता।
- महिला रेसलिंग में भारत का किसी भी अोलिंपिक में पहला मेडल रहा।

# दीपा रहींं 4th पोजिशन पर
- जिमनास्टिक में दीपा 4th पोजिशन पर रही थीं। 1896 से हो रहे ओलिंपिक में पहली बार ऐसा हुआ है कि कोई भारतीय जिमनास्ट फाइनल में पहुंचा था।
- बता दें कि दीपा भारत की ओर से ओलिंपिक में जाने वाली पहली महिला जिमनास्ट थीं।
- आजादी के बाद से 11 भारतीय पुरुष जिमनास्ट ओलिंपिक में जा चुके हैं। इससे पहले 1952 में 2, 1956 में 3 और 1964 में 6 भारतीय पुरुष जिमनास्ट ओलिंपिक में गए थे।
- 52 साल बाद दीपा ओलिंपिक के जिमनास्टिक में हिस्सा लेने वाली एथलीट बनी थीं। वहीं, 120 साल में पहली बार भारतीय जिमनास्ट ओलिंपिक के फाइनल में पहुंचने वाली पहली एथलीट रहीं।
गिफ्ट देते वक्त सचिन ने कहा था कि पूरे देश की तरफ से कह सकता हूं कि मैं खुशकिस्मत हूं, जो इन महान स्पोर्ट्स एथलीट्स के साथ खड़ा हूं। गिफ्ट देते वक्त सचिन ने कहा था कि पूरे देश की तरफ से कह सकता हूं कि मैं खुशकिस्मत हूं, जो इन महान स्पोर्ट्स एथलीट्स के साथ खड़ा हूं।
X
सचिन ने सितंबर महीने में दीपा, सिंधु और साक्षी के साथ गोपीचंद को BMW गिफ्ट की थी।सचिन ने सितंबर महीने में दीपा, सिंधु और साक्षी के साथ गोपीचंद को BMW गिफ्ट की थी।
गिफ्ट देते वक्त सचिन ने कहा था कि पूरे देश की तरफ से कह सकता हूं कि मैं खुशकिस्मत हूं, जो इन महान स्पोर्ट्स एथलीट्स के साथ खड़ा हूं।गिफ्ट देते वक्त सचिन ने कहा था कि पूरे देश की तरफ से कह सकता हूं कि मैं खुशकिस्मत हूं, जो इन महान स्पोर्ट्स एथलीट्स के साथ खड़ा हूं।
COMMENT