पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

इस पर्वत पर माना जाता है शिव का वास, चमत्कारिक रूप से बनता है ओम

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
ट्रैवेल डेस्क. हिमालय के कुछ पर्वतों के बारे में ऐसी मान्यताएं प्रचलित हैं कि वहां कभी भगवान शिव का अस्तित्व रहा होगा। एक ऐसा ही पर्वत भारत और तिब्बत की सीमा पर आज भी मौजूद है जिस पर हर साल ओम की आकृति बनती है। जानिए कौनसा है ये पर्वत...
- इस पर्वत का नाम है ओम पर्वत। इसे आदि कैलाश के नाम से जाना जाता है।
- ओम पर्वत का नाम यहां बनने वाली ओम की आकृति के कारण पड़ा है।
- प्रचलित मान्यताएं इसे चमत्कार बताती हैं, वहीं कुछ लोगों का मानना है कि शिव यहां विराजित हैं।
कितनी ऊंचाई पर है ये पर्वत...
- ओम पर्वत की ऊंचाई समुद्र तक से 6,191 मीटर (20,312 ft) है।
- आदि कैलाश के अलावा ओम पर्वत को लिटिल कैलाश, बाबा कैलाश और जोंगलिंगकोंग के नाम से भी जाना जाता है।
- पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, हिमालय पर कुल 8 प्राकृतिक ओम की आकृतियां बनी हुई हैं। इनमें से अबतक केवल ओम पर्वत की ही आकृति के बारे में पता चल सका है।
कैलाश मानसरोवर का महत्व...

कैलाश मानसरोवर को शिव-पार्वती का घर माना जाता है। सदियों से देवता, दानव, योगी, मुनि और सिद्ध महात्मा यहां तपस्या करते आए हैं। मान्यता के अनुसार, जो व्यक्ति मानसरोवर (झील) की धरती को छू लेता है, वह ब्रह्मा के बनाये स्वर्ग में पहुंच जाता है और जो व्यक्ति झील का पानी पी लेता है, उसे भगवान शिव के बनाये स्वर्ग में जाने का अधिकार मिल जाता है।
आगे की स्लाइड्स में जानिए कैसे पहुंचे ओम पर्वत साथ ही जाएं यहां से जुड़ी दिलचस्प बातें...
खबरें और भी हैं...