--Advertisement--

शाम होते ही पल-पल बदलता है इस 'प्रेम मंदिर' का रंग, देखें PHOTOS

प्रेम मंदिर की दीवारों पर हर तरफ राधा-कृष्ण की रासलीला दिखती है।

Dainik Bhaskar

Mar 19, 2016, 01:46 PM IST
वृंदावन में श्रीकृष्ण का प्रेम मंदिर बना हुआ है। वृंदावन में श्रीकृष्ण का प्रेम मंदिर बना हुआ है।
मथुरा/आगरा. वृंदावन में श्रीकृष्ण का प्रेम मंदिर बना हुआ है। यहां की दीवारों पर हर तरफ राधा-कृष्ण की रासलीला दिखती है। साथ ही श्रीकृष्ण और राधारानी की भव्य मूर्तियां है। इसे कृपालुजी महाराज ने बनवाया था। यह मंदिर सफेद इटालियन संगमरमर से बनाया गया है। स्पेशल लाइटिंग से शाम होते ही मंदिर का रंग हर 30 सेकेंड में बदलता रहता है।
54 एकड़ में फैला है मंदिर
मंदिर की देखभाल में लगे नंदगोपाल बताते हैं कि 54 एकड़ में बना यह मंदिर 125 फुट ऊंचा, 122 फुट लंबा और 115 फुट चौड़ा है। यहां खूबसूरत बगीचे लगाए गए हैं। फव्वारे, श्रीकृष्ण और राधा की मनोहर झांकियां, श्रीगोवर्धन धारणलीला, कालिया नाग दमनलीला, झूलन लीलाएं बेहतर तरीके से दिखाई गई हैं।
94 कलामंडित स्तंभ
नंदगोपाल के मुताबिक, पूरे मंदिर में 94 कलामंडित स्तंभ हैं। गर्भगृह के अंदर और बाहर प्राचीन भारतीय वास्तुशिल्प का नमूना दिखाते हुए नक्काशी की गई है। यहां संगमरमर की चिकनी स्लेटों पर 'राधा गोविंद गीत' के सरल दोहे लिखे गए हैं। इन्हें भक्त आसानी से पढ़ और समझ सकते हैं।
जगतगुरु कृपालुजी महाराज ने की थी इसे बनाने की घोषणा
इस मंदिर को बनाने की घोषणा जगतगुरु कृपालुजी महाराज ने साल 2001 में की थी। इसके 11 साल बाद करीब 1000 मजदूरों ने 2012 में इसे तैयार कर दिया था।

आगे की स्लाइड्स में देखिए प्रेम मंदिर की तस्वीरें...
स्पेशल लाइटिंग से शाम होते ही मंदिर का रंग पल-पल बदलता रहता है। स्पेशल लाइटिंग से शाम होते ही मंदिर का रंग पल-पल बदलता रहता है।
यह मंदिर 125 फुट ऊंचा, 122 फुट लंबा और 115 फुट चौड़ा है। यह मंदिर 125 फुट ऊंचा, 122 फुट लंबा और 115 फुट चौड़ा है।
पूरे मंदिर में 94 कलामंडित स्तंभ हैं। पूरे मंदिर में 94 कलामंडित स्तंभ हैं।
चिकनी स्लेटों पर 'राधा गोविंद गीत' के सरल दोहे लिखे गए हैं। चिकनी स्लेटों पर 'राधा गोविंद गीत' के सरल दोहे लिखे गए हैं।
यहां श्रीकृष्ण, राधा और गोपियों की मनोहर झांकियां दिखती हैं। यहां श्रीकृष्ण, राधा और गोपियों की मनोहर झांकियां दिखती हैं।
गर्भगृह के अंदर और बाहर प्राचीन भारतीय वास्तुशिल्प का नमूना दिखाते हुए नक्काशी की गई है। गर्भगृह के अंदर और बाहर प्राचीन भारतीय वास्तुशिल्प का नमूना दिखाते हुए नक्काशी की गई है।
श्रीगोवर्धन धारणलीला प्रदर्शित होता है। श्रीगोवर्धन धारणलीला प्रदर्शित होता है।
54 एकड़ में फैला हुआ है मंदिरय़ 54 एकड़ में फैला हुआ है मंदिरय़
यहां संगमरमर की चिकनी स्लेटों पर 'राधा गोविंद गीत' के सरल दोहे लिखे गए हैं। यहां संगमरमर की चिकनी स्लेटों पर 'राधा गोविंद गीत' के सरल दोहे लिखे गए हैं।
11 साल बाद करीब 1000 मजदूरों ने 2012 में इसे तैयार कर दिया था। 11 साल बाद करीब 1000 मजदूरों ने 2012 में इसे तैयार कर दिया था।
X
वृंदावन में श्रीकृष्ण का प्रेम मंदिर बना हुआ है।वृंदावन में श्रीकृष्ण का प्रेम मंदिर बना हुआ है।
स्पेशल लाइटिंग से शाम होते ही मंदिर का रंग पल-पल बदलता रहता है।स्पेशल लाइटिंग से शाम होते ही मंदिर का रंग पल-पल बदलता रहता है।
यह मंदिर 125 फुट ऊंचा, 122 फुट लंबा और 115 फुट चौड़ा है।यह मंदिर 125 फुट ऊंचा, 122 फुट लंबा और 115 फुट चौड़ा है।
पूरे मंदिर में 94 कलामंडित स्तंभ हैं।पूरे मंदिर में 94 कलामंडित स्तंभ हैं।
चिकनी स्लेटों पर 'राधा गोविंद गीत' के सरल दोहे लिखे गए हैं।चिकनी स्लेटों पर 'राधा गोविंद गीत' के सरल दोहे लिखे गए हैं।
यहां श्रीकृष्ण, राधा और गोपियों की मनोहर झांकियां दिखती हैं।यहां श्रीकृष्ण, राधा और गोपियों की मनोहर झांकियां दिखती हैं।
गर्भगृह के अंदर और बाहर प्राचीन भारतीय वास्तुशिल्प का नमूना दिखाते हुए नक्काशी की गई है।गर्भगृह के अंदर और बाहर प्राचीन भारतीय वास्तुशिल्प का नमूना दिखाते हुए नक्काशी की गई है।
श्रीगोवर्धन धारणलीला प्रदर्शित होता है।श्रीगोवर्धन धारणलीला प्रदर्शित होता है।
54 एकड़ में फैला हुआ है मंदिरय़54 एकड़ में फैला हुआ है मंदिरय़
यहां संगमरमर की चिकनी स्लेटों पर 'राधा गोविंद गीत' के सरल दोहे लिखे गए हैं।यहां संगमरमर की चिकनी स्लेटों पर 'राधा गोविंद गीत' के सरल दोहे लिखे गए हैं।
11 साल बाद करीब 1000 मजदूरों ने 2012 में इसे तैयार कर दिया था।11 साल बाद करीब 1000 मजदूरों ने 2012 में इसे तैयार कर दिया था।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..