पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Dalits To Deliver 125 Kg Soap To UP CM Yogi Adityanath Detained In Jhansi

यूपी: गुजरात के द‍ल‍ित वर्कर्स ह‍िरासत में, योगी को भेंट करने जा रहे थे 120 Kg का साबुन

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
झांसी.   दलितों के कथित अपमान के विरोध में योगी आदित्यनाथ को 125 किलो का साबुन गिफ्ट करने जा रहे 43 लोगों को पुलिस ने झांसी रेलवे स्टेशन से हिरासत में ले लिया। इनमें 13 महिलाएं भी थीं। ये सभी गुजरात की दलित कम्युनिटी से थे और लखनऊ जा रहे थे। बाद में सोमवार को इन लोगों को साबरमती एक्सप्रेस से वापस गुजरात भेज दिया गया। बता दें कि 30 मई को योगी कुशीनगर के मुसहर टोला गांव के दौरे पर गए। कहा जाता है कि इससे पहले अफसरों ने गांव के दलितों को साबुन-शैम्पू बांटे थे। उन्हें योगी से मिलने से पहले नहाने को कहा गया था। झांसी घूमकर लौटने की सलाह...
 
 
- दलितों के हक के लिए लड़ने वाले डॉ. अंबेडकर वेचाण प्रतिबंध समिति के वर्कर्स ने रविवार को झांसी रेलवे स्टेशन पर नारेबाजी की। इस दौरान पुलिस ने उन्हें अरेस्ट कर लिया। उन्हें यहां के इरिगेशन डिपार्टमेंट के रेस्ट हाउस में रखा गया। सोमवार को इन्हें साबरमती एक्सप्रेस से वापस गुजरात भेज दिया गया। उनसे साबुन जब्त कर लिया गया। 
- झांसी में हिरासत में लिए गए गुजरात के वर्कर्स सोमवार को लखनऊ के प्रेस क्लब में दलितों के हालात पर होने वाले प्रोग्राम में शामिल होने जा रहे थे। 
 
3000 रुपए से 10 दिन में बना साबुन
- समिति के नट्टू परमार ने बताया, "संगठन ने एक हजार महिलाओं से 10-10 रुपए जुटाए। इस तरह कुल 3 हजार 25 रुपए का कलेक्शन किया गया। इससे 10 दिन में 125 किलो का साबुन बनवाया गया।"
- परमार ने कहा, "यूपी सरकार ने दलितों का अपमान किया है। राज्य में बीजेपी की सरकार आने के बाद दलितों पर लगातार हमले हो रहे हैं। सहारनपुर में तो उनके घर तक जला दिए गए।"
 
साबुन पर बनी बुद्ध की तस्वीर
- जब्त किए गए साबुन पर भगवान बुद्ध की तस्वीर बनी है। समिति के वर्कर्स का कहना था कि वे योगी को महात्मा बौद्ध का संदेश देना चाहते हैं।
- समिति के मार्टिन मैकवान ने कहा, "कुशीनगर वही धरती है, जहां गौतम बुद्ध का परिनिर्वाण हुआ था। उसी जगह दलितों से बुरा बर्ताव किया गया। साबुन यह संदेश देने के लिए है कि सरकार अपनी सोच भी साफ करे।"
 
BJP कपड़े जैसी साफ हो जाएगी
- समिति के ही दिनेश सोलंकी ने बताया, "झांसी से पहले ललितपुर में ही कई पुलिसवाले आ गए। ट्रेन में हम लोगों की बर्थ अलग-अलग थी। सभी को एक ही कोच में लाया गया। इसके बाद झांसी में उतार दिया गया।"
- दिनेश ने कहा, "हमने क्या गुनाह किया है? हम तो शांति से जा रहे थे। लखनऊ में हमारा प्रोग्राम है, लेकिन यहां पता नहीं क्यों बंधक बना लिया गया है। हम सामाजिक कार्यकर्ता हैं। अन्याय के खिलाफ बोल रहे हैं। सरकार और पुलिस को तो क्राइम करने वालों को पकड़ना चाहिए। ऐसा ही रहा तो बीजेपी की सरकार आने वाले दिनों में उसी तरह साफ हो जाएगी जैसे साबुन से कपड़े साफ होते हैं।
 
क्या बोले ADG
- एडीजी अविनाश चन्द्र ने झांसी में कहा कि दलितों को शांति पूर्वक उनके घर भेज दिया गया। उन्होंने कहा कि दलित अगर लखनऊ जाते तो क़ानून व्यवस्था बिगड़ सकती थी। क़ानून व्यवस्था बिगाड़ने वाले व अपराधियों को बख्शा नहीं जाएगा। कहा कि कई थानेदारों व पुलिसकर्मियों को शिकायत हटाया गया है। उन्हें अगले 3 माह तक थाने नहीं दिए जाएंगे। पुलिस लाइन में ही रखा जाएगा।
- उन्होंने पुलिस को भी निर्देश दिए कि किसी भी अपराध का खुलासा गलत तरीके से नहीं किया जाएगा। फर्जी खुलासे नहीं होने चाहिए। इससे अच्छा है कि खुलासा हो ही न। महिला उत्पीड़न के मामलों को पुलिस गंभीरता से ले।
 
 
आगे की स्लाइड्स में देखें खबर से रिलेटेड 3 और PHOTOS...
 
 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज समय बेहतरीन रहेगा। दूरदराज रह रहे लोगों से संपर्क बनेंगे। तथा मान प्रतिष्ठा में भी बढ़ोतरी होगी। अप्रत्याशित लाभ की संभावना है, इसलिए हाथ में आए मौके को नजरअंदाज ना करें। नजदीकी रिश्तेदारों...

और पढ़ें