सपा से जुड़े 1.28 Cr नए मेंबर्स में 65% युवा, पार्टी के तौर-तरीके बदल बीजेपी से लड़ेंगे अख‍िलेश

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ. समाजवादी पार्टी में 31 जुलाई तक चले पार्टी के मेंबरशिप कैम्पेन में 1 करोड़ 28 लाख मेंबर्स जुड़े हैं। इनमें 65% से ज्यादा युवाओं की संख्या है। पार्टी 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव की तैयारियों को देखते हुए सभी मेंबर्स के मोबाइल फोन का डाटा बैंक तैयार करेगी। बूथ लेवल तक के वर्कर्स का ब्यौरा पार्टी ऑफिस के आईटी सेल में हर वक्त तैयार मिलेगा। ऐसे में सपा अब सोशल मीडिया पर और आक्रामक होने जा रही है। मेंबरशिप कैम्पेन से पार्टी के कोष में सदस्यता शुल्क के रूप में 55 करोड़ रुपए से ज्यादा पैसा जमा हुआ है। माना जा रहा है कि पार्टी खोए हुए जनाधार को वापस पाने के लिए यूथ एजेंडे पर काम कर रही है। अखिलेश बदलेंगे पार्टी का कलेवर... 
 
 
- मुलायम सिंह के सपा के अध्यक्ष पद से हटने और 2 जनवरी को अखिलेश यादव के सपा का अध्यक्ष बनने के बाद ये पहला मेंबरशिप कैम्पेन है। बताया जा रहा है कि इस कैम्पेन के साथ अखिलेश यादव पार्टी पर न सिर्फ अपनी पकड़ मजबूत करने जा रहे हैं, बल्कि उसका कलेवर भी बदल देंगे। 
- संगठन के चुनाव सितंबर के अंत तक राष्ट्रीय अधिवेशन के साथ पूरा होगा, जिसमें अखिलेश यादव दूसरी बार पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष चुने जा सकते हैं। उधर, सपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष शिवपाल यादव लगातार मुलायम सिंह को फिर से पार्टी का अध्यक्ष बनाने की मांग कर रहे है।
- पार्टी के प्रदेश सचिव एसआरएस यादव ने बताया, ''पार्टी के मेंबरशिप कैम्पेन में 11 लाख से ज्यादा युवाओं ने ऑनलाइन प्राथमिक सदस्यता ली है। ये पहली बार है, जब इतनी बड़ी संख्या में युवाओं ने ऑनलाइन मेंबरशिप ली है।''
- बता दें, पहली बार 2012 विधानसभा चुनाव के दौरान पार्टी के मैनिफेस्टो में कम्प्यूटर के इस्तेमाल और फ्री लैपटॉप बांटने की पहल की गई थी। माना जाता है कि पार्टी के बहुमत से सत्ता में आने की ये बड़ी वजह रही। 
 
बीजेपी से मुकाबले के लिए तैयारी कर रही सपा 
- सूत्रों की मानें तो विधायकों और सांसदों के लिहाज से यूपी में दूसरे नंबर की पार्टी सपा अब खुद को बीजेपी से मुकाबले के लिए तैयार कर रही है।
- प्रदेश सचिव एसआरएस यादव ने बताया, ''2019 का लोकसभा चुनाव हमारे लिए अहम है। हमें पता है कि हमारा मुकाबला किससे होना है। पार्टी के 31 जुलाई तक चले मेंबरशिप कैम्पेन में 1.26 करोड़ मेंबर बने हैं। ये संख्या और बढ़ सकती है, क्योंकि अभी सभी जिलों से पूरे दस्तावेज नहीं आ सके हैं। वहीं, करीब 2 हजार एक्ट‍िव मेंबर हैं। इस तरह से ये संख्या 1.28 करोड़ की है।''
 
प्राइमरी मेंबर बनने के ल‍िए 20, एक्ट‍िव मेंबर बनने के ल‍िए 1500 है फीस
- एसआरएस यादव ने बताया, ''पार्टी के प्राइमरी मेंबर बनने के लिए 20 रुपए और एक्ट‍िव मेंबर बनने के लिए 1500 रुपए की फीस है। इस फीस से 25 फीसदी पैसा जिले को, 25 फीसदी पैसा विधानसभा क्षेत्र को, 25 फीसदी पैसा राज्य को और 25 फीसदी राष्ट्रीय कमेटी को दिया जाता है।''
- ''विधानसभा क्षेत्रों के एक्ट‍िव मेंबर्स में से 20 फीसदी जिला कमेटी में, जिले से 10 फीसदी प्रदेश कमेटी में और प्रदेश से 5 फीसदी राष्ट्रीय कमेटी में नामित किए जाते हैं।'' यादव के मुताबिक, पार्टी का नया संगठन जिला कमेटी के गठन से शुरू होगा। इसके बाद प्रदेश और फिर राष्ट्रीय अधिवेशन होगा।
खबरें और भी हैं...