• Hindi News
  • National
  • SP Leader Pramod Yadav Bachelor Himself To Make Akhilesh Yadav Prime Minister

2 फुट का है ये SP नेता, अखिलेश को PM बनाने के लिए रखा है बह्मचर्य व्रत

6 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ. सीएम अखिलेश को सपा का राष्ट्रीय सचिव बनाने के लिए रविवार को बुलाए गए अधिवेशन में प्रदेश के अलग-अलग जिलों से नेता पहुंचे थे। इन नेताओ में बरेली के प्रमोद यादव भी थे, जिन्‍हें पहली नजर में हर कोई बच्‍चा ही समझ बैठता है। इनकी लंबाई सिर्फ 2 फुट है, लेकिन उम्र 44 साल है। खास बात ये है कि प्रमोद ने अखिलेश यादव को पीएम बनाने के लिए आजीवन बह्मचर्य का व्रत ले रखा है। आगे पढ़िए शादी करने के सवाल पर क्‍या कहते हैं प्रमोद यादव...
 
 
-44 साल के प्रमोद से जब शादी करने के बारे में पूछा जाता है तो कहते हैं कि उनकी शादी तो समाजवादी पार्टी से हो गई है। अब किसी लड़की के बारे में सोचना तक मेरे लिए पाप है। 
-उन्‍होंने बताया कि पार्टी में 2003 से काम कर रहा हूं। 2012 के चुनाव के पहले जब अखिलेश प्रचार कर रहे थे तब मैं उनसे मिला था। 
-सीएम की सादगी और उनके विचार से मैं बहुत प्रभावित था। ऐसे में मैंने निर्णय लिया कि ऐसा व्यक्ति तो देश का पीएम होना चाहिए। 
-उन्‍होंने कहा, मैंने सुना था कि बह्मचर्य की शक्ति हो और दृढ़ निश्चय हो तो सब संभव हो सकता है। 
-इसलिए मैंने सीएम अखिलेश को पीएम बनाने के लिए आजीवन बह्मचर्य रखने का व्रत ले लिया। 
-मैंने शादी भी की है, लेकिन किसी लड़की से नहीं, बल्कि समाजवादी पार्टी से की है। 
-अब इसी के साथ जीना है और इसी के साथ मरना है। 
 

मुलायम सिंह से मिलने का बाद बन गया नेता 
-प्रमोद यादव ने बताया कि साल 2003 में मुलायम सिंह बरेली आए थे। तब मैंने मुलायम से कहा, मैं पार्टी की सेवा करना चाहता हूं। 
-इसके बाद उन्‍होंने ने कहा कि सेवा करना चाहते हो तो पहले पार्टी ज्‍वाइन करो। इसके बाद मैंने सपा ज्‍वाइन कर लिया।
-बाद में प्रचार की जिम्मेदारी मिली। काफी दिन तक पार्टी के कार्यक्रमों में हिस्सा लेता रहा हूं।  
-इसके बाद अखिलेश यादव से मुलाकात हुई तो वो मेरे काम से काफी खुश हुए। बाद में मुझे प्रचार की जिम्मेदारी मिल गई और मैं पार्टी के लिए प्रचार करने लगा। 
-उन्‍होंने बताया कि पार्टी के कार्यक्रम में हिस्‍सा लेने के साथ ही मैं एडवोकेट भी था। ऐसे में मेरे काम से खुश होकर पार्टी ने मुझे उपभोक्ता महासभा का अध्यक्ष बना दिया। 
 
 
अखिलेश को निष्‍कासित किया गया तो दे दिया इस्तीफा 
-उन्‍होंने बताया कि सीएम अखिलेश काम करने वाले नेता हैं। जब उन्‍हें पार्टी से निष्‍कासित करने की घोष्‍णा हुई तो मैंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। 
-रविवार को राष्‍ट्रीय अध्यक्ष पद पर जो अखिलेश की ताजपोशी हुई वो बहुत अच्छा निर्णय हुआ।
 
शुरू से ही नेता बनने की थी चाह 
-प्रमोद ने बताया कि शुरू से ही नेता बनने की चाह थी। 
-हालांकि, पहले हाईस्कूल और इंटर तक की पढ़ाई बरेली के गवर्नमेंट इंटर कॉलेज से की। 
-इसके बाद बरेली कॉलेज से ही एमए और एलएलबी करने के बाद एडवोकेट बन गए। 
 
अगर ये निर्णय न होता तो पार्टी को होता नुकसान 
-उन्‍होंने कहा कि अगर सीएम के पक्ष में ये निर्णय नहीं होता तो पार्टी को बहुत नुकसान होता। 
-अब तब अखिलेश यादव के नेतृत्व में पार्टी ने बेहतर प्रदर्शन किया है। 
 
आगे की स्‍लाइड्स में देखिए अन्‍य फोटोज...
 
 
खबरें और भी हैं...