सीएम से मिले TCS इम्प्लॉइ, योगी ने कहा- ये हमारी शान, नहीं होने देंगे बंद

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
लखनऊ. सीएम योगी आदित्यनाथ से शनिवार को टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेस (TCS) के कर्मचारियों ने मुलाकात की। इस दौरान सीएम ने टीसीएस कर्मचारियों को मामला सुलझाने का आश्वासन दिया। साथ ही कहा कि टीसीएस हमारी शान है, हम इसे जाने नहीं देंगे। बता दें, ऐसी खबरें हैं कि TCS के लखनऊ ऑफिस को बंद करके इसके इम्प्लॉइज को इंदौर और नोएडा शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही है। 
 
सीएम ने कर्मचारियों को दिया आश्वासन 
- शनिवार सुबह 6:30 बजे सीएम आवास पर 300 TCS कर्मी पहुंच गए और सीएम से मुलाकात करने की मांग करने लगे। 
- इसके बाद 9:50 बजे सीएम योगी से 11 सदस्यीय TCS कर्मियों की मुलाकात हुई। सीएम ने उनको आश्वासन दिया कि उनका ऑफिस बन्द नहीं होगा। उन्होंने चीफ सेक्रेटरी से बात कर पूरे मामले को मंगलवार तक हल करने को कहा। 
- सीएम से मुलाकात कर बाहर आए TCS के 11 कर्मचारियों ने DainikBhaskar.com को बताया कि सीएम ने अगले मंगलवार तक समस्य हल होने का आश्वसन दिया है।
- कंपनी ने न कोई नोटिस दिया और न ही पहले से कोई सूचना दी।
 10 दिन पहले मौखि‍क रूप से बताया कि जल्द ही लखनऊ सेंटर बन्द हो जाएगा, आप सबको नोएडा, इंदौर, मुम्बई या दिल्ली के सेंटर में शि‍फ्ट कर दिया जाएगा। 
 
क्या है मामला? 
- TCS के कुछ इम्प्लॉइज ने यूपी और केंद्र सरकार को लेटर लिखा। इसमें कहा गया कि कंपनी लखनऊ ऑफिस को बंद करके इसके इम्प्लॉइज को इंदौर और नोएडा शिफ्ट करने की तैयारी में है। इन लोगों के मुताबिक उनके टीम लीडर्स ने मौखिक तौर पर उन्हें ये जानकारी दी है। 
- वर्कर्स ने लेटर में लिखा- हमसे से कहा जा रहा है कि कंपनी नुकसान में है, लेकिन ये सही नहीं है।
 
TCS के अफसरों ने क्या कहा?
- टीसीएस की HR हेड ने DainikBhaskar.com से कहा, “कुछ तो बात है, तभी ये चीजें बाहर आई हैं। कंपनी को कुछ को रखना है, कुछ को निकालना है, ये पूरी तरह से गलत है। हमारे यहां पिछले 4 सालों से यही हो रहा है। इस बार भी यही हुआ है कि करीब 280 लोगों को इंदौर, दिल्ली और मुंबई शिफ्ट होने को कहा गया है। 90 फीसदी लड़के तो शिफ्ट भी हो जाते हैं, दिक्कत लड़कियों के साथ होती है।'' 
- ''इस वक्त करीब 280 में से 150 से ज्यादा लड़किया हैं। ऐसे में जॉब छोड़ना उनकी मजबूरी है। इस समय यूपी के ज्यादातर सरकारी प्रोजेक्ट हमारे पास हैं। फिर भी मैन पावर की जितनी जरूरत है, उतनी भर्तियां नहीं हो रही हैं।''
खबरें और भी हैं...