फूट-फूटकर रोया जवान, बोला- 'बॉर्डर पर कभी नहीं रोया, लेकिन सिस्टम ने रुलाया' / फूट-फूटकर रोया जवान, बोला- 'बॉर्डर पर कभी नहीं रोया, लेकिन सिस्टम ने रुलाया'

बीएसएफ जवान ने इलाके के दबंगों पर लगाया जमीन कब्जाने का आरोप।

DainikBhaskar.com

Feb 22, 2018, 10:55 AM IST
BSF Soldier seeking help from administration in Meerut

मेरठ. यहां एसडीएम ऑफिस के बाहर बुधवार को एक बीएसएफ जवान फूट-फूटकर रोने लगा। जब उसने रोते हुए ये कहा कि "मैं बॉर्डर पर कभी नहीं रोया, लेकिन सिस्टम ने मुझे रुला दिया" तो वहां मौजूद लोगों की आंखें भी नम हो गईं। बताया जा रहा है कि भूमाफियों और दबंगों ने इस जवान की जमीन कब्जा कर ली है, जिसके बाद से ये इंसाफ के लिए दर-दर भटक रहा है। कारगिल युद्ध में मिला था मेडल...

बता दें कि कारगिल युद्ध के लिए मेडल हासिल कर चुके बीएसएफ में नायब सूबेदार जगबीर सिंह इंचौली के जलालपुर गांव में रहते हैं। इस समय वो गुजरात में पाकिस्तान के बॉर्डर पर तैनात हैं। उन्होंने बताया कि उनकी पत्नी सीमा सिंह के नाम खसरा नंबर 485 की जमीन है, लेकिन इस पर दबंगों ने कब्जा कर लिया है।

बैंक से लोन लेकर खरीदी जमीन

जगबीर ने बताया कि उन्होंने विजया बैंक से 10 लाख रुपए का लोन लेकर 7 लाख में जमीन खरीदी और बाकी के पैसे से मकान बनवा रहे थे। लेकिन, जब वो ड्यूटी पर गए हुए थे तो पता चला कि उनकी जमीन पर कब्जा हो गया है।

पुलिस ने भगाया

इसके बाद जब जगबीर शिकायत करने थाने पहुंचे तो पुलिस ने उन्हें भगा दिया। इसके बाद उन्होंने कमिश्नर से शिकायत की तो उन्होंने एसडीएम सरधना को कार्रवाई के लिए पत्र लिख दिया।

आगे की स्लाइड में जानें जब पुलिस से मदद मांगने गया ये जवान तो क्या हुआ...

BSF Soldier seeking help from administration in Meerut

जवान ने लगाए ये आरोप

 

बुधवार को जगबीर मेरठ में एडीएम के पास पहुंचकर इंसाफ की गुहार लगाई। उन्होंने बताया कि यहां उनकी बात नहीं सुनी जा रही है। इसके बाद जगबीर ने एसडीएम पर भूमाफियाओं से मिले होने का आरोप लगा डाला और ऑफिस के बाहर ही अपनी भावनाओं पर काबू नहीं कर पाए और फूट-फूटकर रोने लगे।

 

- जगवीर का आरोप है, ''गांव के ही कुछ दबंगों ने तहसीलदार और एसडीएम से सांठ-गांठ कर जमीन का खसरा चेंज कर दिया। इसके बाद खेत में खड़ी मेरी गेहूं की सारी फसल ट्रैक्टर से उखड़वा दी।''

 

- ''अब मेरे पास कुछ नहीं बचा है। इसकी शिकायत मैंने तहसीलदार और संबंधित एसडीएम से भी की, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। यहां तक कि एसडीएम ने मुझे खदेड़ दिया। अब मेरे पास सुसाइड करने के अलावा कुछ नहीं बचा है।''

BSF Soldier seeking help from administration in Meerut

कारगिल युद्ध लड़ चुका है जवान

 

-''मैं पाकिस्तान बॉर्डर पर तैनात हूं। मैंने कारगिल का युद्ध भी लड़ा है। हमें एक न एक दिन शहीद ही होना है, इसलिए मैं यहीं शहीद हो जाऊंगा। अधिकारि‍यों ने रिश्वत लेकर ये सब काम किया। मैं तो बॉर्डर पर रहता हूं, वहां तो सिर्फ गोली आती हैं, मैं इन लोगों को पैसे कहां से दूं।''

 

- "मुझे नौकरी से जो पैसे मिलते हैं वो बच्चों और परिवार पर ही खर्च हो जाते हैं। 10 लाख रुपए लोन लेकर मैंने जमीन खरीदा था। अब मेरे पास कुछ नहीं बचा है। मुझे न्याय चाहिए। जब मुझे सूचना मिली तो छुट्टी लेकर घर आया। यहां सब अधिकारी भ्रष्ट हैं। मुझे बर्बाद कर दिया।''

 

क्या कहते हैं पुलिस अधिकारी

 

- वहीं, अपर नगर मजिस्ट्रेट अमिताभ भारद्वाज ने बताया- पीड़ित फौजी की शिकायत ले ली गई है और एसडीएम सरदना को भेज दी गई है। जो भी वैधानिक कार्रवाई होगी की जाएगी। आरोप तो कोई लगा सकता है। जांच-पड़ताल के बाद ही हकीकत सामने आएगी।

X
BSF Soldier seeking help from administration in Meerut
BSF Soldier seeking help from administration in Meerut
BSF Soldier seeking help from administration in Meerut
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना