पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

PICS: बोरिया बिस्तर समेट गृहस्थ आश्रम में लौटे कल्पवासी

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
कुंभ कैंपस. सांसारिक सुख-दुख, लाभ-हानि, माया-मोह से दूर परलोक को संवारने का पर्व अब संगम तट से खत्म हो गया है। एक महीने तक संगम की रेत पर बसे आस्था के नगर में रहने वाले कल्पवासी अब बोरिया-बिस्तर समेट कर वापस अपने घरों के लिए रवाना हो रहे हैं। संगम किनारे लगे कुंभ में कई लाख लोगों ने एक महीने तक संगम तट पर निवास कर गृहस्थ जीवन से दूर रह ईश्वर को पाने के लिए भजन-कीर्तन, यज्ञ-हवन, दान-पुण्य जैसे जतन किये और संगम में 33 करोड़ देवी-देवताओं को नमन कर वापस अपने गृहस्थ जीवन में लौट रहे हैं।
तस्वीरों में देखिए कल्पवासियों का प्रस्थान...