ये IAS लगातार दूसरी बार बना बैडमिंटन चैंपियन, इस बार तुर्की में मारी बाजी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी. स्टार पैरा-शटलर और आजमगढ़ के डीएम सुहास एलवाय ने रविवार को अंटालिया में हुए तुर्की ओपन टूर्नामेंट में सिंगल्स और डबल्स खिताब जीतकर देश का नाम फिर से रोशन किया। वर्ल्ड पैरा बैडमिंटन रैंकिंग में चौथे नंबर के प्लेयर सुहास ने पिछले साल चीन के बीजिंग में हुए एशियन पैरा बैडमिंटन टूर्नामेंट का खिताब जीता था। इंटरनेशनल बैडमिंटन खिताब जीतने वाले वे इंडिया के पहले ब्यूरोक्रेट हैं।  इंडियन प्लेयर की ही दी मात...
 
- तुर्की ओपन बैडमिंटन के एसएल-4 कैटेगरी के खिताबी मुकाबले में सुहास ने हमवतन खिलाड़ी सुकांत कदम को पराजित किया। डबल्स में उन्होंने अपने स्पेनिश पार्टनर सिमोन के साथ मिलकर सुकांत और मैथ्यू थॉमस (फ्रांस) की जोड़ी को हराया।
 
जीत के बाद हुए जज्बाती
 
- रविवार को सुहास के पिता की 11वीं डेथ एनिवर्सरी थी। इसी दिन खिताब जीतने के बाद वे थोड़े जज्बाती हो गए।
- उन्होंने खिताब लेते हुए कहा, "मैं आज पापा को बहुत मिस कर रहा हूं। यह खिताब उनको समर्पित करता हूं।"
 
वाइफ हैं पीसीएस
 
- केरल के मूल निवासी सुहास लालिनाकेरे यथिराज 2007 बैच के आईएएस अफसर हैं। उनकी पत्नी रितु सुहास पीसीएस अधिकारी हैं और आजमगढ़ में ही बतौर एडिशनल डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट पोस्टेड हैं।
- सुहास को पिछले साल 1 दिसंबर को यूपी सरकार ने यश भारती अवॉर्ड से नवाजा था। यही नहीं, 3 दिसंबर 2016 को वर्ल्ड डिसेबिलिटी डे के अवसर पर उन्हें स्टेट के बेस्ट पैरा स्पोर्ट्सपर्सन चुना गया। 
 
आगरा से शुरू किया करियर
 
- आजमगढ़ डीएम सुहास यूपी कैडर के आईएएस हैं। उनकी पहली पोस्टिंग आगरा में बतौर असिस्टेंट कलेक्टर हुई थी।
- इसके बाद उन्होंने आजमगढ़, मथुरा, महाराजगंज, हाथरस, सोनभद्र और जौनपुर में पद संभाला।
 
आगे की स्लाइड्स में देखें सुहास की फैमिली और तुर्की बैडमिंटन टूर्नामेंट से जुड़ी 3 Photos...
खबरें और भी हैं...