पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मंदिर से करोड़ों की मूर्ति चुरा ले गए चोर, नहीं ले जा पाए 'कृष्‍ण' की ये निशानी

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वाराणसी. काशी में अस्‍सी घाट पर स्‍थि‍त लक्ष्मी नारायण मंदिर से गुरुवार की सुबह चोरों ने भगवान कृष्‍ण की अष्‍ट धातु की मू्र्ति चुरा ली। चोरों ने मूर्ति को जोर से झटका दिया, जिससे पैर के पंजे और वहीं छूट गए। मूर्ति की कीमत करोड़ों में बताई जा रही है। एसओ भेलूपुर राजीव सिंह ने बताया, सीसीटीवी कैमरे में तीन संदिग्‍ध युवक कैद हुए। जांच की जा रही है। 
पैर का पंजा और दूसरे पैर का अंगूठा बच गया...
 
- पुजारी संजय मिश्रा के मुताबित, चोरों को मालूम था कि इस सुबह के समय मंदिर खाली रहता है।  
- परिवार के लोग ही पूजा के बाद पट खोलते हैं। आरती के बाद मंदिर खुला था। 
- मूर्ति फर्श से मजबूती से लगी थी, जिसकी वजह से पैर का पंजा और दूसरे पैर का अंगूठा बच गया। मूर्ति की कीमत करोड़ों में है। 
- मंदिर को सुरसंड स्टेट बिहार के राजा रामेश्वर प्रताप शाही ने काशी वास के समय 100 साल पहले बनवाया था। 
- मंदिर में भगवान शिव भी पूरे परिवार के साथ विराजमान है। 
- खास बात है कि मंदिर का मेन गेट 1992 में कर्फ्यू के समय 24 साल पहले बंद हुआ था। इसके बाद कभी बंद नहीं हुआ। 
- भेलूपुर एसओ राजीव सिंह ने बताया, मंदिर के बगल के एक होटल में सीसीटीवी फुटेज रिकॉर्ड हुआ है।  
- तीन युवक मंदिर में जाते हैं और एक-एक करके 15 मिनट बाद बाहर आते हैं। 
- फुटेज के आधार पर जांच की जा रही है। 
 

आगे की स्‍लाइड्स में देखें रिलेटेड फोटोज... 
खबरें और भी हैं...