--Advertisement--

सिटी रिपोर्टर } क्राइमथ्रिलर ‘वॉच्ड’ की मुख्य पात्र किंजल जोशी

सिटी रिपोर्टर } क्राइमथ्रिलर ‘वॉच्ड’ की मुख्य पात्र किंजल जोशी सीबीआई में नौकरी करने के लिए अपनी मेडिकल की पढ़ाई...

Dainik Bhaskar

Oct 29, 2016, 02:05 AM IST
सिटी रिपोर्टर } क्राइमथ्रिलर ‘वॉच्ड’ की मुख्य पात्र किंजल जोशी
सिटी रिपोर्टर } क्राइमथ्रिलर ‘वॉच्ड’ की मुख्य पात्र किंजल जोशी सीबीआई में नौकरी करने के लिए अपनी मेडिकल की पढ़ाई छोड़ देती है। क्योंकि उसका एक ही लक्ष्य है-अपनी मां के कातिल को पकड़ना। सीबीआई के डीजी उसे एक केस देते हैं, जिसमें एक सीरियल किलर को पकड़ना होता है जिसका अपराध करने का अंदाज ठीक वैसा ही है जैसे पांच साल पहले उसकी मां का कत्ल किया गया था। किंजल के साथ इंस्पेक्टर मोदी और एजेंट अंबर (एक कुत्ता) उसे इस केस में मदद करते हैं। कुत्ते द्वारा बार-बार की जाने वाली व्यंगात्मक टिप्पणियां किताब में एक दिलचस्प पहलू हैं, जो पाठकों को अपने साथ बांधें रखती हैं। इस किताब को सिटी बेस्ड ऑथर प्रीति सिंह ने लिखा है। इसे लिखने का खयाल उन्हें क्यों आया? इसपर प्रीति ने कहा कि हम हर रोज महिलाओं के साथ अपराध होता देख रहे हैं। न्यूजपेपर उठा कर देखते हैं या न्यूज चैनल पर, या फिर अपराध पर आधारित सीरियल देखते हैं, तो यही जानने को मिलता है कि महिलाओं के साथ अपराध करने वाले अपराधी कोई और नहीं। बल्कि रोजमर्रा में उससे मिलने-जुलने वाले लोगों में से ही एक हैं। कहीं नल ठीक करने वाला तो कहीं पिज्जा की डिलिवरी देेने आया युवक अपराध को अंजाम दे देता है। और अकसर यह लोग हमारे घर में चक्कर लगाते हैं। पर इनके मन में क्या है हम यह समझ नहीं पाते। मैं सिंगल मदर हूं और मेरी 18 साल की बेटी है। इसके अलावा हमारे खूबसूरत शहर में कई जवान बेटियां है जिन्हें अपराध और अपराधी के प्रति जागरूक होना बेहद जरूरी है। इसलिए एक साल पहले इस किताब को लिखना शुरू किया। इसमें एक लड़की की काबलियत को बताया गया है। मेरी टारगेट ऑडियंस 12 से 13 साल की लड़कियां हैं क्योंकि अकसर इस उम्र की लड़कियां अकसर बिना जान-पहचान के भी घर का दरवाजा खोल देती हैं।

प्रीति ने कहा कि चंडीगढ़ पर आधारित एक कहानी को लिखना और भी दिलचस्प इसलिए बन गया क्योंकि इसकी सभी घटनाएं चंडीगढ़ में ही घटती हैं। इसलिए किताब में जिन जगहों पर घटनाएं घटी हैं, वहां पर जाकर उनकी कल्पनाएं करना और फिर लिखना काफी रोमांचक रहा। किताब को पढ़ने के बाद पाठक को सुनिश्चित तौर पर लगेगा कि शहर में सच में कई ऐसी जगह हैं जो डरावनी हैं। वे बोलीं ‘वॉच्ड’ एक छोटी, लेकिन कड़क और तेजी से घटती घटनाओं पर बुनी गई क्राइम थ्रिलर है। पाठक इसके आखिरी पेज तक शक, संदेह, सस्पेंस और रोमांच में डूबता और बाहर निकलता है। साथ ही उसकी उत्सुकता भी लगातार बनी रहती है। किताब में शामिल प्रत्येक किरदार रीडर को मासूम लगता है लेकिन जल्द ही उस पर शक होने लगता है और ये सिलसिला चलता रहता है। एजेंट अंबर इस पूरे मामले को आगे बढ़ाता है। प्रीति ने यह भी बताया कि इस किताब पर एक टीवी सीरियल बनाने के लिए एक लेखक ने उनसे संपर्क किया है पर फिलहाल वह इसपर विचार कर रही हैं। वह चाहती हैं कि किताब को पहले मेरे पाठक पढ़कर अपनी प्रतिक्रिया दें।

शहर में कई जगह डरावनी हैं

मार्केट में चुकी हैं दो किताबें

2012में प्रीति का पहला क्राइम थ्रिलर- फ्लर्टिंग विद फेट, मार्केट में आया। इसी साल इसे बेस्ट क्राइम थ्रिलर का अवॉर्ड मिला। इसके बाद इसका नॉमिनेशन बुकर्स प्राइज के लिए भी हुआ। दूसरी किताब -क्रॉसरोड्स 2015 में मार्केट में आई। यह किताब प्रीति की निजी जिंदगी पर आधारित है कि किस तरह अपने पति का घर छोड़ने के बाद उन्होंने अपने बच्चों के साथ अपनी जिंदगी को संतुलित बनाया और फिर सब कुछ छोड़कर आगे बढ़ीं। इस किताब के लिए प्रीति को पिछले शनिवार बेस्ट ऑथर अवॉर्ड-2016 मिला।

लड़की की काबलियत को दर्शाती है किताब ‘वॉच्ड’

सिटी बेस्ड ऑथर प्रीति सिंह बोलीं, यह इसलिए दिलचस्प बन गई क्योंकि इसकी सभी घटनाएं चंडीगढ़ में ही घटती हैं। उन्होंने कहा...

city anchor

X
सिटी रिपोर्टर } क्राइमथ्रिलर ‘वॉच्ड’ की मुख्य पात्र किंजल जोशी
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..