}यह है पूरा मामला

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने मृतक धन बहादुर और बेटे के डीएनए सैम्पल लिए

मक्खनमाजरा के जंगलों में सिर कटी हुई लाश के मामले में मृतक धन बहादुर का बेटा दीपक सोमवार को चंडीगढ़ पहुंच गया। जंगल में मिले व्यक्ति का सिर और धड़ दोनों पूरी तरह से जल चुके थे, जिससे लाश की पहचान नहीं हो पा रही थी।

हालांकि उसके पास से एक वोटर कार्ड मिला था। पुलिस को शक है कि कहीं किसी ने प्लानिंग के तहत किसी अन्य की हत्या कर धन बहादुर का वोटर कार्ड रख दिया हो। इसके लिए सोमवार को पुलिस ने मृतक धन बहादुर और उसके बेटे दीपक के डीएनए सैम्पल लिए हैं। यह सैम्पल जल्द ही जांच के लिए लेबोरेटरी भेजे जाएंगे। जहां से रिपोर्ट आने के बाद ही माना जाएगा कि शव धन बहादुर का ही है। दरअसल जंगल में सिर कटी हुई लाश जब बरामद हुई थी, उस दौरान सिर को अलग से पूरी तरह से जलाया गया था और शरीर भी तकरीबन जल चुका था। ऐसे में पुलिस को शव की पीछे की जेब से सिर्फ एक वोटर कार्ड ही मिला है, जो धन बहादुर का है। पुलिस के मुताबिक धन बहादुर के बेटे ने उन्हें बताया है कि इस साल दशहरे पर पिता ने घर वापस लौटना था लेकिन वह घर नहीं आए। घरवालों को धन बहादुर ने कई बार किसी के फोन से कॉल्स किए थे। लेकिन उन्होंने कभी भी वह नंबर नोट नहीं किए। वह काफी समय से धन बहादुर का इंतजार कर रहे थे लेकिन वह तो वापस लौटे और ही उनका कोई फोन आया। घरवालों ने पुलिस को सिर्फ इतना ही बताया कि धन बहादुर हिमाचल में किसी जगह पर सेब के बाग में काम करते थे। सूत्रों के मुताबिक इस मामले में पुलिस अब धन बहादुर के घरवालों से भी बात कर रही है कि उसने किस महीने या किन दिनों में उन्हें फोन कॉल्स किए थे। वह जो फोन करता था वह किस नंबर पर किया करता था। इसके बाद पुलिस कॉल डिटेल खंगालेगी। मामले में पूरी तरह से जांच करने के बाद ही पुलिस आरोपी तक पहुंचेगी।

बता दंे कि इससे पहले 25 जनवरी दोपहर करीब तीन बजे मक्खन माजरा स्थित फॉरेस्ट एरिया में फॉरेस्ट ऑफिसर सुल्तान सिंह ने सिर कटी हुई लाश देखी। सुल्तान सिंह ने घटना की जानकारी पुलिस को दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने पाया कि लाश देखने में पुरानी लग रही थी जबकि जिस आग में जलाया गया था वह ताजी लग रही थी। मामले में मौलीजागरां थाना पुलिस ने हत्या और सबूत मिटाने की धाराओं के तहत एफआईआर रजिस्टर कर जांच शुरू कर दी थी।

खबरें और भी हैं...