• Hindi News
  • Chandigarh High Court Action Estate Office

कोर्ट के स्टे के बाद भी दस्ते ने तोड़ डाली दीवार, इस्टेट ऑफिस की कार्रवाई

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

चंडीगढ़। सेक्टर-16 में इस्टेट ऑफिस ने मकान नंबर 65 में बगैर अनुमति बनाई एक दीवार को गिरा दिया। इसी वर्ष २४ मई को भी इस्टेट ऑफिस ने इस मकान में निर्माण को ढहाया था। इस्टेट ऑफिस के जेई शशि भूषण के मुताबिक डीसी की ओर से मकान में हुए इंक्रोचमेंट को हटाने के निर्देश मिले थे।

इस मकान के मालिकाना हक को लेकर विवाद चल रहा है। यहां रहने वाले पुनीत ने पुलिस व इस्टेट ऑफिस के कर्मचारियों को कोर्ट केस के दस्तावेज भी दिखाए लेकिन कार्यवाही नहीं रोकी गई। जेई भूषण के मुताबिक बिना अनुमति के मकान में दीवार बनाई गई थी जिसे शुक्रवार को तोड़ा गया। पिछली बार हुई कार्रवाई में दीवार को नहीं ढहाया गया था। इस दौरान पुलिस फोर्स भी मौजूद थी।

मकान मालिक पुनीत के मुताबिक उनके पास कोर्ट का स्टे ऑर्डर है, इसके बावजूद इस्टेट ऑफिस ने 24 मई को तोड़फोड़ की थी। पुनीत और उनके भाई यादविंद्र के साथ मारपीट कर उन्हें थाने ले जाया गया था। इस घटना के बाद पुनीत ने 15 जुलाई 2013 को हाइकोर्ट में इस्टेट ऑफिस और पुलिस अफसरों के खिलाफ कोर्ट की अवमानना की याचिका दायर की थी। इस पर अब 29 अक्टूबर को सुनवाई होनी है।

वहीं पुनीत की पत्नी प्रीती ने कहा कि इस्टेट ऑफिस उनके पीछे पड़ा है, जो दीवार तोड़ी गई है उसमें सिर्फ हमने तिरपाल लगाया था ताकि बारिश का पानी अंदर न आ सके लेकिन कर्मचारियों ने दीवार तोड़ दी।