14 दिन बाद भी दूसरी मंजिल पर पानी नहीं

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

चंडीगढ़. 14 दिनों के इंतजार और नगर निगम के दावों के बाद भी मंगलवार शाम दूसरी मंजिलों तक पानी की सप्लाई नहीं पहुंची। अब निगम अफसरों का कहना है कि कजौली से सेक्टर-39 वाटर वक्र्स तक 20-20 एमजीडी की चारों लाइनों में मंगलवार शाम 7 बजे तक पानी पहुंचने लगा है। इससे बुधवार सुबह दूसरी मंजिल तक पानी की सप्लाई पहुंचने लगेगी। शुक्रवार तक सप्लाई पहले की तरह नॉर्मल हो सकेगी।


भाखड़ा नहर का पानी शहर में कजौली वाटर वक्र्स से 20-20 एमजीडी की चार लाइनों से आता है। इनमें से फेज-3 और 4 की लाइनें 20 अगस्त को टूट गई थीं। इनकी रिपेयर के बाद फेज-3 की लाइन में कजौली से सोमवार दोपहर 3 बजे पानी छोड़ा गया। इसके बावजूद विभिन्न सेक्टरों में मंगलवार सुबह की सप्लाई पहली मंजिल से आगे नहीं बढ़ सकी। वहीं फेज-4 की लाइन में मंगलवार दोपहर 2 बजे पानी छोड़ा गया। शाम 7 बजे तक इस लाइन में पूरा 20 एमजीडी पानी पहुंचने लगा।

सप्लाई नॉर्मल होने में लगेंगे तीन दिन: 14 दिनों तक कजौली से सप्लाई प्रभावित रहने के कारण सेक्टर-39 वाटर वक्र्स का 42 एमजीडी का स्टोरेज टैंक सूख गया। वहीं शहर में हर दूसरी या तीसरी कोठी में बने 2-2 हजार लीटर कैपेसिटी वाले टैंक भी खाली हो चुके हैं। इन्हें भरने में ही दो दिन लगेंगे। ऐसे में टॉप फ्लोर पर पानी की सप्लाई नॉर्मल होने में दो-तीन दिन लग सकते हैं।


ठेकेदार की लापरवाही से टूटी थी लाइन: गमाडा का ठेकेदार कजौली के फेज-5 और 6 की लाइन बिछा रहा था, लेकिन शटरिंग नहीं लगाई थी। इससे 20 अगस्त को फेज-3 और 4 की लाइन की मिट्टी खिसकी और लाइनें धंस गईं।


॥कजौली के चारों फेज से पानी सप्लाई होने लगा है। बुधवार सुबह शहर के काफी हिस्से की टॉप फ्लोर तक सप्लाई पहुंच सकेगी। सप्लाई शुक्रवार तक हो नॉर्मल हो पाएगी। क्योंकि वाटर वक्र्स के स्टोरेज टैंक और लोगों के घरों के टैंक सूखे हुए हैं। इन्हें भरने में समय लगेगा।
-आरसी दीवान, सुपरिंटेंडिंग इंजीनियर, पब्लिक हेल्थ, नगर निगम