जेटीएल ट्रस्ट के खिलाफ विजिलेंस जांच शुरू

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

चंडीगढ़. रेलगेट में आरोपी विजय सिंगला के पिता एमएल सिंगला के ट्रस्ट 'जेटीएल एजुकेशन फाउंडेशनÓ के खिलाफ पंजाब के विजिलेंस ब्यूरो ने सोमवार को जांच शुरू कर दी। इसके लिए विशेष टीम बनाई गई है। ट्रस्ट ने डेराबस्सी के गांव सनौली की 102 बीघा 18 बिसवा जमीन 33 साल के लिए लीज पर ली थी। आरोप है कि कागजातों में छेड़छाड़ करके इसे बढ़ाकर 99 साल कर दिया गया।


चंडीगढ़ की पेरीफेरी में सरकारी जमीनों की जांच के लिए गठित ट्रिब्यूनल के चेयरमैन पूर्व जस्टिस कुलदीप सिंह ने यह धांधली पकड़ी थी। रेवेन्यू विभाग के रजिस्ट्रार के रिकॉर्ड में 33 साल की लीज को 99 साल किया पाया गया, जबकि फर्द, जमाबंदी और इंतकाल 33 साल का था। इस पर पंजाब एंड हरियाणा हाईकोर्ट ने पंजाब सरकार से जवाब तलब किया है। एमएल सिंगला के अलावा संजीव गुप्ता और चेतन सिंगला भी ट्रस्ट में शामिल हैं।


अब विज्ञापन के बिना लीज नहीं
यह घोटाला सामने आने के बाद पंजाब के ग्रामीण विकास एवं पंचायत विभाग ने फैसला लिया है कि अब किसी भी गांव की जमीन लीज पर देने से पहले दो अखबारों में विज्ञापन देना होगा। जो ज्यादा बोली देगा, उसी को लीज पर जमीन दी जाएगी। जो पैसा मिलेगा, उसे गांव के विकास पर खर्च किया जाएगा।


॥इस मामले के सभी दस्तावेज विजिलेंस ब्यूरो को सौंपे जा रहे हैं। विजिलेंस जो भी जानकारी मांगेगी, वह दी जाएगी।
-जेपी सिंगला, डिप्टी डायरेक्टर, पंचायत विभाग

॥इस केस के सभी दस्तावेज सोमवार को मिलते ही जांच शुरू कर दी गई है। जरूरत पडऩे पर अन्य दस्तावेज भी मंगवा लिए जाएंगे। -सुरेश अरोड़ा,
डीजीपी, विजिलेंस ब्यूरो