• Hindi News
  • There Were Six Per Cent Voting In Sector 6

सेक्टर-6 में छह फीसदी वोटिंग भी नहीं हुई

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

पंचकूला. शहर के लोगों को वोङ्क्षटग के लिए प्रेरित करने के लिए जिला प्रशासन ने कोई कसर नहीं छोड़ी, इसके बावजूद वीआईपी सेक्टरों के मुकाबले जिले के रूरल एरिया के वोटर्स ने ज्यादा जागरूकता दिखाई। लोकसभा चुनाव के लिए वीरवार को हुए मतदान में सेक्टर-6 में 6 फीसदी वोट भी नहीं पड़े। यहां पंचकूला में सबसे कम 5.4 परसेंट पोलिंग हुई है। सबसे कम वोटिंग में दूसरे नंबर पर सेक्टर-7 रहा है। यहां सिर्फ 6.81 फीसदी मतदान हुआ। वहीं बरवाला के गांव आसरेवाली ने इस बार मतदान में जिले के सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए, यहां सबसे ज्यादा 95.7 फीसदी मतदान हुआ। इस गांव में कुल 345 वोटर हैं, इनमें से 328 ने मतदान किया।

बरवाला ब्लॉक आगे: बरवाला के गांव सुल्तानपुर, जसवंतगढ़, खटौली, खटौला, बिल्ला, ढंडारडू, रिहावड़, डंडारडू, बतौड़, बरवाला, भगवानपुर, जलौली, सुखदर्शनपुर, भरेली, टोका, बुंगा टिब्बी, कोट, बिलला, कामी, नयागांव में बूथ नंबर 147 से लेकर 170 तक जबर्दस्त वोटिंग हुई। यह वोटिंग 74.16 प्रतिशत वोटिंग हुई है।

पिछले चुनाव के बराबर वोटिंग: अंबाला लोकसभा क्षेत्र के अंतर्गत आते पंचकूला विधानसभा क्षेत्र में पिछले लोकसभा चुनाव के बराबर ही वोटिंग हुई। 2009 में पंचकूला विधानसभा क्षेत्र में वोटिंग रेट 61.97 प्रतिशत था, जबकि इस बार 61.80 प्रतिशत लोगों ने वोट डाला।

वीआईपी सेक्टर

वीआईपी माने जाने वाले सेक्टर-6 में 2358 वोटर हैं। इनमें से सिर्फ 126 लोगों ने ही वोट डाला। यहां एक पोलिंग बूथ पर 4.71 और दूसरे पर 6.9 फीसदी वोट पड़े। कुल वोटिंग परसेंटेज 5.4 रहा। इस सेक्टर में ज्यादातर बिजनेसमैन व बड़े अफसर रहते हैं।

सबसे कम

सेक्टर-7 में कुल 5187 वोट हैं। इनमें से केवल 331 वोट ही पड़े। यह सेक्टर भी वीआईपीज का माना जाता है।