पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सोशल मीडिया

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
केजरीवाल के भाषण में पानी होता था मुद्दा

पानी से ही हुई तारीफ, पानी ने ही कराया मंत्रिमंडल से बाहर

भाजपा ने मांगा सीएम का इस्तीफा, एलजी से मिले

कोई हुआ स्तब्ध, किसी ने जनभावना का मजाक बताया

कपिल को मिली धमकी

आम आवाज

सोशल मीडिया पर उथल-पुथल

एलजी एसीबी को सौंपेंगे जांच, जैन की गिरफ्तारी संभव

आप का ‘कुरुक्षेत्र’ बना ट्विटर एक-दूसरे पर छोड़े ट्वीट बाण

{केजरीवाल सरकार के पास 36 विधायक संवैधानिक संकट नहीं

{अगर बागी विधायक इस्तीफा दें तो साल के अंत तक चुनाव संभव

कपिल मिश्रा हीरो, सीएम बड़े झूठे: शाजिया इल्मी

दिल्लीकी राजनीति में कपिल मिश्रा के खुलासे ने भूचाल ला दिया है। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पर गंभीर आरोप लगने के साथ ही मंत्री सत्येंद्र जैन की गिरफ्तारी जल्द होने की आशंका जताई जा रही है। एलजी अनिल बैजल को मिश्रा ने ऑन रिकॉर्ड शिकायत की है। इसके बाद राजनिवास सरकार की कार्यप्रणाली पर उठ रहे सवालों को लेकर सक्रिय हो गया है। सोमवार को एलजी ने कुछ विशेषज्ञों की बैठक भी बुलाई है। साथ ही मिश्रा की शिकायत एसीबी को फॉरवर्ड की जाएगी। राजनिवास के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पूर्व एलजी नजीब जंग मंत्री सत्येंद्र जैन के विभागों की कुछ फाइलें पहले ही सीबीआई को जांच के लिए मार्क कर गए थे, सीबीआई इनकी जांच कर भी रही है। अब एंटी करप्शन ब्रांच (एसीबी) और सीबीआई को नई शिकायत फॉरवर्ड होने पर जैन पर कार्रवाई हो सकती है।

सरकार के पास 36 विधायक हैं और वह पूर्ण बहुमत है। ऐसे में केजरीवाल पर फिलहाल कोई संवैधानिक संकट नहीं है। भाजपा नेताओं ने जरूर सीएम केजरीवाल और मंत्री सत्येंद्र जैन को हटाए जाने की मांग की है, लेकिन यह जांच एजेंसियों की रिपोर्ट पर ही निर्भर करेगा।

दिल्ली विधानसभा के पूर्व सचिव और संविधान विशेषज्ञ एसके शर्मा ने बताया कि सीएम पर लाभ के पद में फंसे 21 विधायकों का संकट है। राजौरी गार्डन में भाजपा की जीत हुई, जबकि बवाना से विधायक वेद प्रकाश भाजपा में शामिल हो चुके हैं। ऐसे में 70 में से 65 सीटों पर आप के विधायक हैं। अगर 21 विधायकों की सदस्यता रद्द होती है तो भी 44 विधायक शेष होंगे। हालांकि कई विधायक बागी हो चुके हैं। अगर यह लोग इस्तीफा दे दें तो साल के अंत तक चुनाव संभव हैं। अगर ऐसा नहीं होता तो फिर कोई संकट नहीं है।

ट्रेंड करते रहे ये स्पूफ।

सोशल मीडिया से दूर रहे सीएम-डिप्टी सीएम

नईदिल्ली |मुख्यमंत्री सोशल मीडिया पर छाए रहने वाले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया रविवार को इस मंच पर खामोश नजर आए। भ्रष्टाचार के आरोप मामले में शाम तक दाेनों नेताओं ने कोई ट्वीट नहीं किया। हालांकि सीएम ने रविवार को आम आदमी पार्टी और राज्य सभा से संबंधित अखबार में छपी एक खबर को पोस्ट तो किया, लेकिन कपिल मिश्रा मामले में कुछ नहीं बोले। इसी तरह सिसोदिया राज्य सभा और सहारनपुर में भड़की हिंसा से संबंधित खबर को ट्वीट किया, लेकिन कपिल मिश्रा मामले में शांत रहे।

‘भ्रष्टाचार में डूबी है आम आदमी पार्टी’

नईदिल्ली |मुख्यमंत्री नेता प्रतिपक्ष विजेन्द्र गुप्ता ने रविवार को पत्रकार वार्ता की और आम आदमी पार्टी को भ्रष्टाचार के आरोप पर घेरा। गुप्ता ने कहा कि भ्रष्टाचार मिटाने की बात कहकर सत्ता हासिल करने वाले केजरीवाल और उनके मंत्री-विधायक भ्रष्टाचार में आकंठ डूबे हैं। जिस तरह कपिल मिश्रा ने सीएम पर रिश्वत लेने के आरोप लगाए हैं, वह आपराधिक है और इस पर तुरंत मामला दर्ज कर मुख्यमंत्री और सतेन्द्र जैन को गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

नई दिल्ली | दिल्लीकी आम आदमी पार्टी सरकार के दो साल के लेखा-जोखा पर नजर दाैड़ाएं तो अमूमन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल अपने भाषण में फ्री पानी-आधी दर पर बिजली के अलावा पानी की लाइनें बिछाने को लेकर सरकार की जमकर तारीफ करते थे। लेकिन निगम चुनाव परिणाम आने के महज 10 दिन के अंदर कपिल मिश्रा को मंत्रिमंडल से बाहर करने की वजह पानी की बिल की शिकायतें बताई जा रही हैं। निगम चुनाव प्रचार के दौरान मुख्यमंत्री दिल्ली के हर कोने में अपने भाषण में पानी को मुख्य मुद्दा बनाते थे और दावा करते थे कि हमने पानी के क्षेत्र में सबसे बेहतर कार्य किया है। केजरीवाल कहते थे कि 2017 के अंत तक दिल्ली के प्रत्येक कोने में पानी की पाइप लाइन बिछा दी जाएगी।आप सरकार के एक साल पूरा होने पर मुख्यमंत्री केजरीवाल ने सबसे ज्यादा पानी को लेकर कपिल मिश्रा की तारीफ की थी। 14 फरवरी 2016 में एनडीएमसी के कंवेंशन सेंटर में आयोजित ‘एक साल बेमिसाल’ कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने लेट पेमेंट सरचार्ज को माफ करने की घोषणा की थी। इसके अलावा उपभोक्ताओं के पानी के यूजर चार्ज में कॉलोनी की श्रेणी के तहत छूट दी गई। इसी तरह वर्ष 2017 में ‘दो साल बेमिसाल’ कार्यक्रम में भी पानी को लेकर उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कपिल मिश्रा की जमकर तारीफ की थी। इस मौके पर यमुना को लेकर बड़ी घोषणा की गई थी। लेकिन ताज्जुब की बात है कि केजरीवाल और सिसोदिया अक्सर जिस मंत्री की सर्वाधिक तारीफ करते थे, आज उसे मंत्री पद से हटाने की मुख्य वजह पानी में आने वाली शिकायतों का हवाला दे रहे हैं।

^भ्रष्टाचार मुक्ति का नारा देने वाले आज खुद भ्रष्टाचार के आरोपों में घिरे हैं। अपने कैबिनेट और विधायकों का विश्वास ही उन पर नहीं रहा है। ऐसे में उन्हें इस्तीफा देना चाहिए। दिल्ली में दोबारा से चुनाव होने चाहिए। जनता का उनपर विश्वास होगा तो वह जीतेंगे। मेरी नजर में वह जन विश्वास खो चुके हैं। -डा. हंसराज सुमन, लेक्चरर, अरविंदो कॉलेज, डीयू

^शीलासरकार के समय भ्रष्टाचार के विरुद्ध आंदोलन चला कर दुबारा सत्ता हासिल करने वाले केजरीवाल से यह उम्मीद तभी धूमिल हो गई थी, जब शपथ ग्रहण के बाद इस मुद्दे पर चुप्पी साध ली। पहले भी मिश्रा को धमका कर चुप कराने का केजरीवाल पर आरोप था। -माधवी सक्सेना, सॉफ्टवेयर इंजीनियर

^जिसतरह केजरीवाल से उम्मीदें थीं, वह अब नहीं रही हैं। केजरीवाल बदल गए हैं। -कृष्णपाल चौहान, निवासी वेलकम कॉलोनी

^जिस तरहसे वीपी सिंह ने राजीव गांधी पर बोफोर्स मामले में बेबुनियाद आरोप लगाया था, उसी तरह कपिल मिश्रा ने भी केजरीवाल पर बगैर सुबूत के आरोप लगाया है। इसकी जांच होनी चाहिए। -डॉ. अनिल बंसल, पूर्व अध्यक्ष (डीएमए)

^केजरीवालद्वारा रिश्वत लेने की खबर चैनल पर देखकर स्तब्ध हूं। भ्रष्टाचार के नाम पर ढोल पीट कर दिल्ली के देा करोड़ लोगों को बेवकूफ बना कर सत्ता हासिल कर लिया। राजाबाबू, पार्किंग कॉन्ट्रेक्टर

नई दिल्ली | यूथकांग्रेस विंग ने रविवार शाम सीएम अरविंद केजरीवाल के आवास पर प्रदर्शन किया। विंग ने सीएम और सत्येंद्र जैन से तत्काल इस्तीफे की मांग की। दिल्ली यूथ कांग्रेस विंग के प्रभारी सीताराम लांबा ने कहा कि इतना गंभीर आरोप कभी किसी मुख्यमंत्री पर नहीं लगा है। ऐसे में भ्रष्टाचार मुक्त भारत का सपना दिखाने वाले केजरीवाल को चाहिए कि अगर उनमें जरा भी नैतिकता बची है तो जांच पूरी होने तक अपने पद से इस्तीफा दें।

बलिराम सिंह | नई दिल्ली

कपिलमिश्रा के रिश्वत प्रकरण के आरोपों के बाद रविवार को ट्विटर पर दिनभर कपिल मिश्रा ट्रेंड पहले पायदान पर, जबकि अरविंद केजरीवाल ट्रेंड तीसरे पायदान पर रहा। प्रकरण सामने आते ही दोनों के समर्थक भी सोशल मीडिया पर अलग दिखे। कपिल मिश्रा ने ट्वीट किया कि परसों देखा और कल सुबह खुलकर आवाज उठाई। एक दिन का भी इंतजार करना असंभव था। इस पर पार्टी के युवा पदाधिकारी विकास ने कहा कि जिन कार्यकर्ताओं की बात कर रहे हो, उनके बीच आकर बोलकर देखो, पता लग जाएगी सारी बात। कुमार विश्वास ने कहा कि अरविंद को वह 12 सालों से जानते हैं। अत: मैं कह सकता हूं कि केजरीवाल भ्रष्टाचार नहीं करेगा। इसके जवाब में कपिल मिश्रा ने कहा कि जिस दिन सत्येंद्र जैन जेल जाएंगे, उस दिन तो आप भी मानोगे भैया। इसी तरह मिश्रा ने एक और ट्वीट किया कि कल तक अरविंद केजरीवाल ईवीएम की वजह से निगम चुनाव हारने की बात कह रहे थे, लेकिन अब अचानक पानी का मुद्दा। उन्होंने सवाल किया कि मीडिया के सामने आने से क्यों बच रहे हैं केजरीवाल। इसी तरह जल स्वराज नाम से किसी महिला ने आरोप लगाया है कि कपिल मिश्रा का पीए कपिल के लिए दलाली करता था। जल बोर्ड के इंजीनियरों की तनख्वाह तक बढ़ाने की हुई थी डील। अब खोलेंगे कपिल की पोल। जल स्वराज के इस ट्वीट को मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार नागेंद्र शर्मा ने रिट्वीट किया है। इस पर किसी नागरिक की ने ट्वीट किया कि ‘खोलो-खोलो जल्दी खोलो, एक-दूसरे की पोल, करो एक-दूसरे को नंगा। जनता आम आदमी पार्टी की नंगई देख रही है।’ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन ने इस मामले में अरविंद केजरीवाल से इस्तीफा की मांग की तो जवाब में आप विधायक अलका लांबा ने ट्वीट किया, कांग्रेस के श्री आर्यभट्ट साहब, ईडी ने आपके मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को नोटिस दिया, सीबीआई की रेड हुई, चार्जशीट दाखिल हुई, क्या इस्तीफा दिया?’मालवीय नगर से आप विधायक सोमनाथ भारती ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा, ‘भाजपाइयों, वैसे कपिल मिश्रा ने कुछ समय पहले मोदी जी को आईएसआई का एजेंट कहा था, उसकी जांच भी करवा लेना’। इस ट्वीट को अलका लांबा ने रिट्वीट किया है।

नई दिल्ली | भाजपानेता शाजिया इल्मी ने रिश्वत प्रकरण उजागर करने के लिए कपिल मिश्रा काे हीरो बताया है, तो सीएम को सदी का सबसे बड़ा झूठा इंसान करार दिया है। कपिल मिश्रा मंत्री पद पर रहते हुए भी टैंकर घोटाले को लेकर एसीबी गए थे भाजपा प्रवक्ता तेजिन्दर पाल बग्गा ने केजरीवाल को करप्शन किंग सीएम कहा है।

खबरें और भी हैं...