• Hindi News
  • National
  • डीयू के कॉलेजों में अब लंबा नहीं होगा कार्यकाल पांच साल तक के लिए ही होंगे प्रिंसिपल नियुक्त

डीयू के कॉलेजों में अब लंबा नहीं होगा कार्यकाल पांच साल तक के लिए ही होंगे प्रिंसिपल नियुक्त

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डीयूके कॉलेजों में वर्षों से प्रिंसिपल पद संभाल रहे शिक्षाविदों का कार्यकाल अब बहुत लंबा नहीं होगा। कॉलेजों में अब प्रिंसिपल सिर्फ 5 साल के लिए ही नियुक्त होंगे। सेवा विस्तार के लिए प्रिंसिपल को दोबारा आवेदन करना होगा, चयन समिति की संस्तुति पर उन्हें एक और मौका मिल सकता है, लेकिन यह चांस उन्हें दूसरे कालेज में दायित्व निभाने के लिए भी हो सकता है। उसके बाद उन्हें स्वत: ही पद छोड़ना पड़ेगा। इसको लेकर डीयू एसी में प्रस्ताव भी पारित हो गया और प्रशासन से भी मुहर लग गई है। हाल ही में डीयू की एकेडेमिक काउंसिल (एसी) की आपात बैठक में यूजीसी की ओर से जारी अधिसूचना को संस्तुति प्रदान की गई है।

एसी सदस्य डा. हंसराज सुमन ने कहा कि कॉलेजों में प्रिंसिपल की स्थायी नियुक्ति अब 5 साल के लिए तय हो गई है। इस अवधि का विस्तार नहीं होगा, बल्कि पुनः एक नई प्रक्रिया द्वारा एक और तय अवधि के लिए पुनः नियुक्ति किसी अन्य कॉलेज में की जा सकती है। इसके लिए अनिवार्य योग्यताएं यूजीसी द्वारा निर्धारित मापदंडों के तहत होंगी। इसमें एक बाह्य परीक्षकों की समिति का गठन किया जाएगा, इसमें डीयू वीसी द्वारा नामित और यूजीसी चेयरमैन द्वारा नामित एक-एक सदस्य शामिल होंगे।

येहोंगे कमेटी में : यूजीसीसचिव की अधिसूचना के अनुसार नामित सदस्यों में नेक प्लस प्रमाणपत्र प्राप्त कॉलेजों के प्रिंसिपल, उच्च योग्यता वाले विभिन्न कॉलेजों के प्रिंसिपल तथा स्वायत्तशासी कॉलेजों के प्रिंसिपल होंगे। इस कमेटी के रिव्यू के आधार पर ही प्रिंसिपलों की नियुक्ति होगी।

खबरें और भी हैं...