आरएसएस का महिला सर्वे, अजीब सवाल चर्चा में

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नई दिल्ली.   राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) महिलाओं की स्थिति जानने के लिए मिशन आधी आबादी नाम से एक सर्वे कर रहा है। संघ जुड़े संगठनों के जरिए यह सर्वे किया जा रहा है। रणनीति 2019 के लोकसभा चुनाव में बीजेपी की जीत का आधार बढ़ाना है, जिसके लिए बीजेपी अपने स्तर पर पहले ही जुटी है। सर्वे का काम आखिरी दौर में है और अक्टूबर में ही सभी संगठनों को अपनी रिपोर्ट पूरी करनी है। संघ के संगठन महिलाओं को लेकर इस सर्वे से एक डाटाबेस भी तैयार करेगा। 1 से 5 तक रैंकिंग...

- भोपाल की 13-15 अक्टूबर की संघ की अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल की बैठक में रिपोर्ट के खास नतीजों पर चर्चा होगी।
- इस सर्वे में कुछ अजीब सवाल भी हैं- जैसे एक सवाल पूछा गया है कि महिलाएं खुद काे अट्रैक्टिव मानती हैं या नहीं।
- सर्वे में शामिल कुछ अजीब सवालों में 1 से 5 तक रैंकिंग करनी है। जवाब में पूरी तरह सहमत, सहमत, उदासीन, असहमत, पूरी तरह असहमत पर निशान लगाना है।
 
ये सवाल कुछ ऐसे हैं
- मुझे लगता है मैं आकर्षक (Attractive) नहीं हूं।
- मैं अपने आपसे खुश नहीं रहती हूं।
- मैं अमूमन भविष्य के प्रति आशावादी नहीं हूं।
- मैं दूसरों के साथ खुश नहीं रहती हूं।
- मैं सोचती हूं कि फैसले लेना मेरे लिए सरल नहीं है।
- मैं सोचती हूं कि मेरे जीवन का कोई मकसद और अर्थ नहीं है।
- सोचती हूं कि मैं स्वस्थ नहीं हूं।
- मेरे पास खुशी के कोई यादगार पल नहीं है।
 
सर्वे में सभी धर्मों की महिलाओं को शामिल किया
- सर्वे के जरिए महिलाओं की स्थिति, गांव-शहर में रहने वाली महिलाओं की आजादी, जीवनस्तर के बारे में जानकारी जुटाई जा रही है।
- सभी धर्मों- हिंदू, मुस्लिम, सिख और जैन महिलाओं को सर्वे में रखा गया है। 
- इसमें सीमावर्ती इलाकों में रहने वाली महिलाओं, गांव-शहर, कामकाजी महिलाएं, विधवा, गृहणी, आदिवासी, वनवासी, मजदूर और यहां तक कि संन्यासी जिंदगी जीने वाली महिलाओं का भी अलग से सर्वे किया जाएगा।
 
सर्वे को 2 हिस्सों में बांटा गया है
- पहले हिस्से में बेसिक जानकारी मांगी जा रही है तो दूसरे हिस्से में कार्यक्षेत्र, सामाजिक स्थिति, आर्थिक जीवन स्तर जैसे प्वाइंट्स शामिल हैं।
- सर्वे के नतीजों के आधार पर संघ एक डिटेल रिपोर्ट तैयार करेगा और महिलाओं की स्थिति में सुधार के लिए राज्यों और केंद्र की सरकार की सुझाव देगा।
- इस रिपोर्ट के आधार पर संघ परिवार के संगठन देशभर में सेमिनार-संगोष्ठियों (Seminars-symposia) और दूसरे कई प्रोग्राम के जरिए जागरुकता अभियान भी चलाएगा।
- छात्राओं की स्थिति पर सर्वे- एबीवीपी, संन्यासी महिलाओं का सर्वे- विश्व हिंदू परिषद और दुर्गा वाहिनी, महिला मजदूरों का सर्वे- भारतीय मजदूर संघ, वनवासी महिलाओं का सर्वे- वनवासी कल्याण आश्रम जैसे संगठन कर रहे हैं। सीमावर्ती राज्यों के सर्वे का काम एनजीओ को सौंपा गया है। 
खबरें और भी हैं...