• Hindi News
  • Union Territory
  • New Delhi
  • News
  • योगेंद्र, प्रशांत, आनंद व अजीत राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकाले
विज्ञापन

योगेंद्र, प्रशांत, आनंद व अजीत राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकाले

Dainik Bhaskar

Mar 29, 2015, 12:08 AM IST

शनिवार को योगेंद्र यादव, प्रशांत भूषण, प्रो. आनंद कुमार और अजीत झा को निकाल दिया गया।

योगेंद्र, प्रशांत, आनंद व अजीत राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकाले
  • comment
नई दिल्ली। आप ने अपनी ही फजीहत करा ली। अपने आप ही। पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी से शनिवार को योगेंद्र यादव, प्रशांत भूषण, प्रो. आनंद कुमार और अजीत झा को निकाल दिया गया। राष्ट्रीय परिषद की बैठक में उन्हें निकालने का प्रस्ताव 247 सदस्यों के वोट से पारित किया गया। 10 सदस्यों ने विरोध किया। 54 ने वोटिंग में हिस्सा नहीं लिया।

अरविंद केजरीवाल गोपाल राय को अध्यक्षता सौंप बैठक से चले गए। इसके तुरंत बाद मनीष सिसोदिया ने यह प्रस्ताव रखा। बोले- यह 167 सदस्यों का प्रस्ताव है। योगेंद्र ने बाहर आकर कहा कि ‘प्रस्ताव पर चर्चा ही नहीं होने दी गई। पार्टी में लोकतंत्र की हत्या हुई है। बैठक में गुंडे बुलाए गए थे।’दिनभर चले ड्रामे के बाद मेधा पाटकर ने पार्टी की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया।
उन्होंने कहा- ‘आप तमाशा बन गई है। योगेंद्र और भूषण पार्टी के खिलाफ काम नहीं कर सकते।’ योगेंद्र का आरोप है कि केजरीवाल ने अपने अध्यक्षीय भाषण में कहा कि या तो मैं रहूंगा या योगेंद्र-प्रशांत। बैठक से पहले योगेंद्र ने 20 मिनट तक बाहर धरना दिया।
योगेंद्र के आरोप
{केजरीवाल ने उत्तेजित करने वाला भाषण दिया। बैठक में हमारे खिलाफ नारे लगाए गए- ‘गद्दारों को बाहर निकालो।’ अरविंद भाई मूर्ति बनकर देखते रहे।
{हर बैठक में आते रहे लोकपाल एडमिरल रामदास को रोका गया। कहा गया कि आपके आने से विवाद बढ़ेगा।
{केजरीवाल ने बैठक में नाम ले-लेकर हम पर आरोप लगाए। प्रस्ताव पर गुप्त मतदान क्यों नहीं?
{रमजान चौधरी ने जब कहा कि इन दोनों की बात तो सुन लो, तो बाउंसर उन्हें भी घसीटकर बाहर ले गए। फिर मारपीट हुई।
{केजरीवाल ने शांति भूषण का नाम तो नहीं लिया पर कहा कि एक वरिष्ठ नेता भी हमारी हार के लिए काम कर रहे थे।
आप के जवाब
{केजरीवाल ने लोकसभा हार से दिल्ली की जीत तक पर बात की। उन्होंने बताया था कि उनकी जरूरी मीटिंग है। इसलिए जाना पड़ा।
{रामदास को आने से क्यों रोका गया इस पर इतना ही कहा गया कि वे राष्ट्रीय परिषद के सदस्य नहीं हैं।
{संजय सिंह ने कहा- मारपीट की बात झूठ है। चारों को राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकालने का फैसला बैठक में ही लिया गया।
{आशुतोष ने ट्वीट किया- योगेंद्र सहानुभूति बटोरने के लिए झूठ फैला रहे हैं। बैठक में ऐसा कुछ भी नहीं हुआ।
{आप विधायक देवेंद्र सहरावत ने माना कि बैठक में मारपीट हुई थी। उन्होंने ज्यादा जानकारी देने से मना कर दिया।
भाजपा ने बताई सियासी अपरिपक्वता
अरुण जेटली ने कहा कि आप अपनी राजनीतिक अपरिपक्वता के कारण दिल्ली की सेवा करने का मौका न छोड़े। दिल्ली की जनता को उसे जवाब देना पड़ेगा।
निष्कासन के ख

योगेंद्र, प्रशांत, आनंद व अजीत राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकाले
  • comment
प्रशांत भूषण बोले-सारे विकल्प खुले 
प्रशांत भूषण ने कहा, हमारे लिए सारे विकल्प खुले हैं। हम कोर्ट या चुनाव आयोग भी जा सकते हैं और राष्ट्रीय परिषद की दूसरी बैठक भी बुला सकते हैं।  
 
आगे की स्लाइड में पढें केबिनेट मंत्री जेटली ने के्या कहा आप विषय में
 
निष्कासन के खिलाफ कोर्ट भी जा सकते हैं
पार्टी से निष्कासन के खिलाफ 
आप नेता कोर्ट भी जा सकते हैं। योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण ने राष्ट्रीय परिषद की बैठक को असंवैधानिक और अवैध करार दिया है। प्रशांत भूषण ने आरोप लगाया कि प्रत्येक विधायक को 50 लोग लाने को कहा गया था।
 वे उपद्रव में लगे हुए थे और जिन लोगों ने रोकने का प्रयास किया उन्हें धक्का देकर बाहर कर दिया गया। यह पार्टी के लिए काफी गंभीर समय है।    
 
 
योगेंद्र, प्रशांत, आनंद व अजीत राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकाले
  • comment
 भाजपा ने बताई सियासी अपरिपक्वता 
अरुण जेटली ने कहा कि आप अपनी राजनीतिक अपरिपक्वता के कारण दिल्ली की सेवा करने का मौका न छोड़े। दिल्ली की जनता को उसे जवाब देना पड़ेगा।  
X
योगेंद्र, प्रशांत, आनंद व अजीत राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकाले
योगेंद्र, प्रशांत, आनंद व अजीत राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकाले
योगेंद्र, प्रशांत, आनंद व अजीत राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकाले
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें