--Advertisement--

श्रीकृष्ण की पूजा में ध्यान रखें 6 बातें, दूर होगा दुर्भाग्य और बनी रहेगी सुख-समद्धि

इस महीने में श्रीकृष्ण की सेवा भी मन लगाकर की जाए तो दुर्भाग्य दूर होता है और जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है।

Danik Bhaskar | May 16, 2018, 05:00 PM IST

रिलिजन डेस्क। इन दिनों ज्येष्ठ का अधिक मास चल रहा है। इस महीने में भगवान विष्णु की पूजा का विशेष महत्व है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ल भट्ट के अनुसार, इस महीने में श्रीकृष्ण भी भगवान विष्णु के ही अवतार हैं। इसलिए अगर इस महीने में श्रीकृष्ण की सेवा भी मन लगाकर की जाए तो दुर्भाग्य दूर होता है और जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहती है। भगवान श्रीकृष्ण की पूजा में आगे बताई गई 5 बातों का ध्यान विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए...

1. हस्त प्रक्षालन
पूजा से पहले भगवान श्रीकृष्ण के हाथों को पानी से धोने की क्रिया, इसमें उपयोग किए जाने वाले जल को आचमनीय कहा जाता है। यह शुद्ध जल और सुगंधित फूलों का मिश्रण होता है।

2. आसन
भगवान श्रीकृष्ण की पूजा में सबसे जरूरी होता है आसन, जिस पर भगवान कृष्ण की स्थापना की जाती है। इसका रंग तेज और चमकीला, जैसे लाल, पीला, नारंगी, हो तो बेहतर रहेगा।

3. पाद्य
जिस बर्तन में भगवान श्रीकृष्ण के पैर धोए जाते हैं उसे पाद्य कहा जाता है। पूजा करने से पहले पाद्य में स्वच्छ जल और फूलों की पंखुड़ियां डालें और उससे भगवान श्रीकृष्ण के चरणों को धोएं।

4. पंचामृत
दूध, दही, घी, शहद और चीनी के मिश्रण से पंचामृत बनाकर उसे किसी शुद्ध बर्तन में भरें और फिर उस पंचामृत में तुलसी के पत्ते डालकर भगवान श्रीकृष्ण को भोग लगाएं। याद रहे श्रीकृष्ण बिना तुलसी के भोग ग्रहण नहीं करते।

5.पंचोपचार
पूजा में उपयोग होने वाली चंदन, कुमकुम, चावल, अबीर, सुगंधित फूल और शुद्ध जल को पंचोपचार या अनुलेपन नाम दिया गया है। श्रीकृष्ण की पूजा में इन सभी का उपयोग होना आवश्यक होता है।


6. भोग
भगवान श्रीकृष्ण की पूजा में ताजे फल, मिठाई, लड्डू, माखन-मिश्री, खीर और तुलसी के पत्ते जरूर शामिल करना चाहिए।

Related Stories