विज्ञापन

भगवान विष्णु के इस अवतार ने किया था अपनी ही माता का वध, जानिए क्यों / भगवान विष्णु के इस अवतार ने किया था अपनी ही माता का वध, जानिए क्यों

dainikbhaskar.com

Apr 16, 2018, 05:00 PM IST

18 अप्रैल, बुधवार को परशुराम जयंती है। परशुराम भगवान विष्णु के प्रमुख अवतारों में से एक हैं।

Akshay Tritiya 2018, Parshuram Jayanti 2018, Lord Parshuram
  • comment

यूटिलिटी डेस्क. 18 अप्रैल, बुधवार को परशुराम जयंती है। परशुराम भगवान विष्णु के प्रमुख अवतारों में से एक हैं। धर्म ग्रंथों के अनुसार, परशुराम अष्ट चिरंजीवियों में से एक हैं यानी वे आज भी जीवित हैं। इस मौके पर हम आपको भगवान परशुराम से जुड़ी कुछ रोचक बातों के बारे में बता रहे हैं, जो इस प्रकार है-

इसलिए किया था माता का वध?
एक बार परशुराम की माता रेणुका स्नान करके आश्रम लौट रही थीं। तब संयोग से राजा चित्ररथ भी वहां जलविहार कर रहे थे। राजा को देखकर रेणुका के मन में विकार उत्पन्न हो गया। उसी अवस्था में वह आश्रम पहुंच गई। जमदग्रि ने रेणुका को देखकर उसके मन की बात जान ली और अपने पुत्रों से माता का वध करने को कहा। किंतु मोहवश किसी ने उनकी आज्ञा का पालन नहीं किया।
तब परशुराम ने बिना सोचे-समझे अपने फरसे से उनका सिर काट डाला। ये देखकर मुनि जमदग्रि प्रसन्न हुए और उन्होंने परशुराम से वरदान मांगने को कहा। तब परशुराम ने अपनी माता को पुनर्जीवित करने और उन्हें इस बात का ज्ञान न रहे ये वरदान मांगा। इस वरदान के फलस्वरूप उनकी माता पुनर्जीवित हो गईं।


नहीं हुआ था श्रीराम से कोई विवाद
गोस्वामी तुलसीदास द्वारा रचित श्रीरामचरित मानस में वर्णन है कि भगवान श्रीराम ने सीता स्वयंवर में शिव धनुष उठाया और प्रत्यंचा चढ़ाते समय वह टूट गया। धनुष टूटने की आवाज सुनकर भगवान परशुराम भी वहां आ गए। अपने आराध्य शिव का धनुष टूटा हुआ देखकर वे बहुत क्रोधित हुए और वहां उनका श्रीराम व लक्ष्मण से विवाद भी हुआ।
जबकि वाल्मीकि रामायण के अनुसार, सीता से विवाह के बाद जब श्रीराम पुन: अयोध्या लौट रहे थे। तब परशुराम वहां आए और उन्होंने श्रीराम से अपने धनुष पर बाण चढ़ाने के लिए कहा। श्रीराम ने बाण धनुष पर चढ़ा कर छोड़ दिया। यह देखकर परशुराम को भगवान श्रीराम के वास्तविक स्वरूप का ज्ञान हो गया और वे वहां से चले गए।

Akshay Tritiya 2018, Parshuram Jayanti 2018, Lord Parshuram
  • comment
X
Akshay Tritiya 2018, Parshuram Jayanti 2018, Lord Parshuram
Akshay Tritiya 2018, Parshuram Jayanti 2018, Lord Parshuram
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543
विज्ञापन