विज्ञापन

सोमवार 16 अप्रैल को न करें कोई भी नया काम, वरना हो सकता है कुछ अशुभ

dainikbhaskar.com

Apr 12, 2018, 05:27 PM IST

हिन्दी पंचांग के अनुसार 16 अप्रैल को सोमवती अमावस्या है।

सोमवती अमावस्या, amawasya ke upay, somwati amawasya in hindi
  • comment

यूटिलिटी डेस्क. सोमवार, 16 अप्रैल को वैशाख मास की अमावस्या है। जब सोमवार को अमावस्या रहती है तो उसे सोमवती अमावस्या कहा जाता है। ऐसी अमावस्या का शास्त्रों में काफी अधिक महत्व बताया गया है। सोमवार को शिवजी की विशेष पूजा की जाती है और ज्योतिष में सोमवार का कारक ग्रह चंद्र है। उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार अमावस्या शब्द में अमा का अर्थ है करीब और वस्या का अर्थ है रहना यानी अमावस्या का पूरा है करीब रहना।

अमावस्या के स्वामी होते हैं पितर देवता

पं. शर्मा के अनुसार अमावस्या की रात चंद्र दिखाई नहीं देता है और इस तिथि के स्वामी पितर देवता होते हैं। इसलिए इस तिथि पर कोई भी शुभ करने से बचना चाहिए, अन्यथा कार्यों में परेशानियां आ सकती हैं और असफलता मिलने की संभावनाएं बढ़ सकती हैं। इस तिथि पर मजदूर लोग भी काम बंद रखते हैं।

अमावस्या पर मन रहता है असंतुलित

ग्रंथों में अमावस्या पर यात्रा करने से भी मना किया गया है। इस संबंध में मान्यता है कि अमावस्या पर चंद्र की शक्ति बिल्कुल कम हो जाती है। ज्योतिष में चंद्र को मन का कारक बताया गया है। अमावस्या पर चंद्र न दिखने की वजह से हमारा मन संतुलित नहीं रह पाता है। इसी वजह से काफी लोग अमावस्या पर असहज महसूस करते हैं।

अमावस्या पर कोई बड़ा फैसला लेने से बचें

अमावस्या पर हमारा मन संतुलित नहीं रह पाता है, इस कारण कोई भी बड़ा फैसला इस दिन लेने से बचना चाहिए। अन्यथा फैसला गलत साबित हो सकता है और हमें परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

सोमवार और अमावस्या के योग में करें ये उपाय

- सोमवार को शिवलिंग पर जल चढ़ाएं।

- चंद्र के लिए दूध का दान किसी गरीब को करें।

- पितरों के लिए तर्पण करें। घर में पितरों के लिए धूप दीप दें।

ये भी पढ़ें-

पत्नी रोज करेगी ये एक काम तो पति को मिल सकता है भाग्य का साथ, दूर हो सकती है गरीबी

पति-पत्नी जब भी हों एकांत में तो ये बातें ध्यान रखें, हमेशा सुखी रहेंगे

X
सोमवती अमावस्या, amawasya ke upay, somwati amawasya in hindi
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन