• Home
  • Jeevan Mantra
  • Jyotish
  • Rashi Aur Nidaan
  • astro tips for money problems, jyotish ke upay, मान्यता- रोज इन 4 को चढ़ाएं एक लोटा पानी, बुरे से बुरा समय हो सकता है दूर
--Advertisement--

मान्यता- रोज सूर्य के साथ इन 3 को भी चढ़ाएं एक लोटा पानी, बुरे से बुरा समय हो सकता है दूर

कुंडली के दोषों को दूर करने के लिए देवी-देवताओं की पूजा रोज करनी चाहिए।

Danik Bhaskar | Apr 19, 2018, 11:51 AM IST

रिलिजन डेस्क। कुंडली के दोषों को दूर करने के लिए ज्योतिष में कई उपाय बताए गए हैं। इन उपायों को नियमित रूप से करते रहने से बड़ी-बड़ी परेशानियां भी दूर हो सकती हैं। धन संबंधी कामों में आ रही सभी बाधाएं खत्म हो सकती हैं। मान्यता है कि जो भक्त देवी-देवताओं को नियमित रूप से जल चढ़ाता है, उन्हें सुख-समृद्धि प्राप्त होती है। यहां जानिए उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार रोज किन 4 को जल चढ़ाना चाहिए...

कांटेदार पौधे में चढ़ाएं जल

- घर-परिवार और समाज में मान-सम्मान पाने के लिए रोज रात को सोने से पहले अपने सिर के पास तांबे के लोटे में पानी भरकर रखें। सुबह जल्दी उठें और इस लोटे को अपने सिर पर सात बार वार लें। इसके बाद ये पानी किसी कांटेदार पेड़ की जड़ में डाल दें।

- ये उपाय लंबे समय तक करते रहना चाहिए। ज्योतिष के अनुसार इस उपाय से व्यक्ति को मान-सम्मान की प्राप्ति होती है और नकारात्मक ऊर्जा खत्म होती है।

- रोज रात को सोने से पहले अपने सिर के पास तांबे के लोटे में पानी भरकर रखें। सुबह जल्दी उठें और इस लोटे को अपने सिर पर सात बार वार लें। इसके बाद ये पानी किसी कांटेदार पेड़ की जड़ में डाल दें।

सूर्य को चढ़ाएं जल

- रोज सुबह जल्दी उठकर सूर्य को जल चढ़ाना चाहिए। स्नान आदि कामों के बाद तांबे के लोटे में पानी भरें और उसमें लाल फूल, कुमकुम, चावल डालें और सूर्य को जल चढ़ाएं।

- जल चढ़ाते समय ऊँ सूर्याय नम: मंत्र का जप करें। इस उपाय से व्यक्ति को समाज में प्रसिद्धि मिलती है।

पीपल को चढ़ाएं जल

- नियमित रूप से पीपल को जल चढ़ाना चाहिए। शास्त्रों की मान्यता है कि पीपल भगवान श्रीकृष्ण का ही एक स्वरूप है और इसमें सभी देवी-देवताओं का वास है।

- इस कारण जो लोग पीपल की पूजा करते हैं, जल चढ़ाते हैं, उन्हें सभी प्रकार की सुख-सुविधाएं प्राप्त होती हैं।

तुलसी को जल चढ़ाएं

- रोज सुबह जल्दी उठकर तुलसी को जल चढ़ाने से भगवान विष्णु के साथ ही महालक्ष्मी की भी कृपा मिल सकती है।