--Advertisement--

महीने में इस दिन पीपल के नीचे लगाएं 1 दीपक, पुरानी गरीबी भी हो सकती है दूर

हिंदू धर्म में पेड़-पौधों को भी पूजनीय माना गया है। पेड़ों में पीपल का विशेष महत्व है।

Danik Bhaskar | Apr 18, 2018, 05:00 PM IST

रिलीजन डेस्क। हिंदू धर्म में पेड़-पौधों को भी पूजनीय माना गया है। पेड़ों में पीपल का विशेष महत्व है। मान्यता है कि पीपल में सभी देवता निवास करते हैं। अथर्ववेद और छंदोग्य उपनिषद में इस वृक्ष के नीचे देवताओं का स्वर्ग बताया गया है। इस पेड़ की पूजा करने के कई धार्मिक और वैज्ञानिक कारण हैं।

धार्मिक कारण
श्रीमद्भगवदगीता में भगवान श्रीकृष्ण ने कहा है कि च्अश्वत्थ: सर्ववृक्षाणाम, मूलतो ब्रहमरूपाय मध्यतो विष्णुरूपिणे, अग्रत: शिवरूपाय अश्वत्थाय नमो नम:। यानी मैं वृक्षों में पीपल हूं। पीपल के मूल में ब्रह्मा जी, मध्य में विष्णु व अग्र भाग में शिवजी साक्षात रूप से विराजित हैं।

वैज्ञानिक कारण
वैज्ञानिकों के अनुसार पीपल का पेड़ ही एकमात्र ऐसा वृक्ष है जो कभी कार्बन डाईआक्साइड नहीं छोड़ता। वह 24 घंटे ऑक्सीजन ही छोड़ता है। इसलिए इसके पास जाने से कई रोग दूर होते हैं और शरीर स्वस्थ रहता है।

क्या है पूजन का फल
1. उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. प्रफुल्ल भट्ट के अनुसार, पूर्णिमा की रात पीपल के नीचे दीपक जलाने से देवी लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और घर में सुख समृद्धि और खुशहाली आती है। इस उपाय से पुरानी गरीबी भी दूर हो सकती है।
2. पीपल पर जल चढ़ाने से सभी इच्छाएं पूरी होती हैं। यह उपाय सुख संपत्ति, धन-धान्य, ऐश्वर्य, संतान सुख व सौभाग्य प्रदान करने वाला है।
3. पीपल की पूजा से ग्रह दोष, पितृ दोष, कालसर्प योग आदि दोषों का निवारण होता है।
4. अमावस्या और शनिवार को पीपल के नीचे हनुमान चालीसा का पाठ करने से पेरशानियां दूर होती हैं।