--Advertisement--

वर्ल्ड चैम्पियनशिप: साइना लगातार 8वीं बार क्वार्टर फाइनल में पहुंचने वाली पहली महिला शटलर, सिंधु भी जीतीं

पीवी सिंधु ने दक्षिण कोरियाई शटलर और वर्ल्ड नंबर 9 सुंग जी हुन को 21-10, 21-18 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई

Danik Bhaskar | Aug 02, 2018, 06:47 PM IST

  • साइना ने 2015 की वर्ल्ड चैम्पियनशिप में सिल्वर और 2017 में ब्रॉन्ज मेडल जीता
  • साइना-इंतानोन ने एकदूसरे के खिलाफ 15 मैच खेले, भारतीय शटलर 10 में जीतीं

बीजिंग. साइना नेहवाल ने गुरुवार को यहां बैडमिंटन वर्ल्ड चैम्पियनशिप में रिकॉर्ड बनाया। वे विश्व के किसी भी टूर्नामेंट के क्वार्टर फाइनल में लगातार आठवीं बार पहुंचने वाली दुनिया की पहली महिला शटलर बन गईं। साइना ने तीसरे राउंड में इंडोनेशिया की रतचनोक इंतानोन को 21-16, 21-19 से हराया। साइना की 10वीं और इंतानोन की चौथी रैंक है। क्वार्टर फाइनल में साइना का मुकाबला ओलिम्पिक चैम्पियन और स्पेन की शटलर कैरोलिना मारिन से शुक्रवार को होगा। साइना इससे पहले 2008, 2009, 2010, 2011, 2013, 2014, 2015 और 2017 में वर्ल्ड चैम्पियनशिप में क्वार्टर फाइनल तक पहुंची थीं।

वहीं, महिला सिंगल्स में पीवी सिंधु ने दक्षिण कोरियाई शटलर और वर्ल्ड नंबर 9 सुंग जी हुन को 21-10, 21-18 से हराकर क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई। पुरुष सिंगल्स मुकाबले में 11वीं रैंक वाले साईं प्रणीत डेनमार्क के हान्स क्रिस्चियन सोलबर्ग को 21-13, 21-11 से हराकर क्वार्टर फाइनल में पहुंचे। अगले राउंड में उनका मुकाबला 7वीं रैंक वाले केंटो मोमोता से होगा। वहीं, पुरुष सिंगल्स मुकाबले में छठी रैंक वाले किदांबी श्रीकांत को हार का सामना करना पड़ा। उन्हें मलेशिया के डैरेन लियु ने 18-21, 18-21 से हराया।

साइना ने आसानी से जीत हासिल की : पहले गेम में साइना और इंतानोन ने अच्छी शुरुआत करते हुए बराबरी का खेल दिखाया। हालांकि, एक समय इंतानोन ने साइना पर 3 अंकों की बढ़त बना ली थी, लेकिन साइना ने समय रहते वापसी की और पहला सेट महज 21 मिनट में अपने नाम किया। दूसरे गेम में भी साइना ने आसानी से 9-4 की बढ़त हासिल कर ली। इसी बीच, इंतानोन ने वापसी की काफी कोशिश की और एक समय एकतरफा जीत की तरफ बढ़ रहीं साइना से 19-19 की बराबरी हासिल कर ली। लेकिन साइना ने संतुलन बनाते हुए दो लगातार पाइंट्स हासिल कर मैच जीत लिया।

डैरेन के हाथों हारकर श्रीकांत बाहर: श्रीकांत और डैरेन 2013 के बाद पहली बार आमने सामने थे। हालांक मैच का नतीजा 5 साल पुराने जैसा ही रहा। इससे पहले, डैरेन 2012 और 2013 में भी श्रीकांत को हरा चुके हैं। डैरेन ने श्रीकांत के खिलाफ शुरुआत से ही बढ़त बनाने की कोशिश की, लेकिन एक समय पर दोनों खिलाड़ियों का स्कोर 10-10 से बराबरी पर था। यहां मलेशिया के खिलाड़ी ने अपने खेल में तेजी दिखाई और श्रीकांत पर दबाव बनाते हुए उन्हें पहले गेम में 21-18 से हरा दिया। दूसरे गेम में राष्ट्रमंडल खेलों के स्वर्ण पदक विजेता श्रीकांत ने डैरेन पर दबाव बनाने की कोशिश की और उन्हें 7-4 से पीछे किया लेकिन डैरेन ने स्कोर 8-8 से बराबर कर लिया और गेम को 21-18 से जीतने के साथ क्वार्टर फाइनल में पहुंचे।