बिज़नेस

--Advertisement--

एनपीए 10,600 करोड़ रुपए बढ़ने से एक्सिस बैंक का मुनाफा 58% गिरा, सेंट्रल बैंक को 1,500 करोड़ का घाटा

मुनाफा घटने की मुख्य वजह पिछले साल ग्रॉस एनपीए 5.03% था, जो अब 6.52% हो गया

Danik Bhaskar

Jul 31, 2018, 07:57 AM IST
-डेमो इमेज -डेमो इमेज

नई दिल्ली. सोमवार को निजी और सरकारी क्षेत्र के तीन प्रमुख बैंकों के नतीजे आए। निजी क्षेत्र के दो बैंकों- एक्सिस और आईडीएफसी बैंक के मुनाफे में 58% तक गिरावट आई, तो सरकारी क्षेत्र के सेंट्रल बैंक को 1,500 करोड़ से अधिक घाटा हुआ। एक्सिस बैंक का मुनाफा जून तिमाही में 46% घटकर 701 करोड़ रह गया। पिछले साल इसी तिमाही में बैंक को 1,306 करोड़ का प्रॉफिट हुआ था। मार्च तिमाही में इसे 2,189 करोड़ का घाटा हुआ था। बैंक की आय जून 2017 की तुलना में 14,052 करोड़ से बढ़कर 15,702 करोड़ हो गई। बैंक को ब्याज से 5,167 करोड़ की आमदनी हुई। एक साल पहले यह 4,616 करोड़ थी।

मुनाफा घटने की मुख्य वजह एनपीए बढ़ना है। पिछले साल ग्रॉस एनपीए 5.03% था, जो अब 6.52% हो गया। रकम के लिहाज से यह 22,031 करोड़ से बढ़कर 32,662 करोड़ तक पहुंच गया। मार्च तिमाही में ग्रॉस एनपीए 6.77% था। मार्च तिमाही में बैंक ने 7,179 करोड़ की प्रोविजनिंग की थी, जून तिमाही में 3,338 करोड़ की हुई है। दूसरे निजी बैंकों की तरह एक्सिस बैंक की भी लोन डिमांड बढ़ी है। कुल कर्ज 14% बढ़ा है। रिटेल कर्ज में 21% और एसएमई कर्ज में 19% वृद्धि हुई है। हालांकि कॉरपोरेट लोन में सिर्फ 6% इजाफा हुआ है।

रेवेन्यू घटने से आईडीएफसी बैंक का मुनाफा 58% घटा: जून तिमाही में आईडीएफसी बैंक का मुनाफा 437.59 करोड़ से 58% घटकर 181.55 करोड़ रह गया है। कुल आय भी 2,794 करोड़ से घटकर 2,520 करोड़ रह गई। हालांकि ब्याज से होने वाली आय 8.2% बढ़कर 2,321 करोड़ हो गई है। जून 2017 की तिमाही में बैंक का ग्रॉस एनपीए 4.13% था, जो पिछली तिमाही में 3.24% रह गया। कुल एनपीए 2,004 करोड़ की तुलना में 1,774 करोड़ रुपए है।

सेंट्रल बैंक का नुकसान 74% बढ़ा, एनपीए 22% हुआ: सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया का घाटा जून तिमाही में 74% बढ़कर 1,522 करोड़ हो गया है। एनपीए के लिए प्रोविजनिंग दोगुना से ज्यादा बढ़ने के कारण यह नौबत आई है। पिछले साल इसी तिमाही में बैंक को 577 करोड़ का नुकसान हुआ था। मार्च में घाटा 2,113 करोड़ का था। बैंक की आय 6,801 करोड़ से घटकर 5,905 करोड़ रह गई है। ब्याज से होने वाली आय 8.4% कम हुई है। यह 6,211 करोड़ से घटकर 5,692 करोड़ रह गई।

एचडीएफसी के मुनाफे में 54% की बढ़ोतरी: निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी होम लोन कंपनी एचडीएफसी को जून तिमाही में 2,190 करोड़ का मुनाफा हुआ है। यह जून 2017 तिमाही से 54% ज्यादा है। हालांकि इसमें एचडीएफसी बैंक से मिला 511 करोड़ का डिविडेंड भी शामिल है। जून 2017 तिमाही में इसका मुनाफा 1,324 करोड़ रुपए था। ब्याज से होने वाली शुद्ध आय 2,412 करोड़ से 20% बढ़कर 2,890 करोड़ हो गई है। नेट इंटरेस्ट मार्जिन में मामूली सुधार है। यह 3.4% से 3.5% हुआ है। ग्रॉस एनपीए 1.18% है।

Click to listen..