--Advertisement--

सेल्फ और किक खराब होने पर बिना धक्का लगाएं सेकंड्स में बाइक ऐसे करें स्टार्ट

बाइक चलाने वाले के साथ कभी न कभी ऐसी स्थिति आ जाती है जब वो स्टार्ट नहीं होती है।

Danik Bhaskar | Jun 16, 2018, 08:00 PM IST

ऑटो डेस्क। मार्केट में बाइक की बड़ी रेंज मौजूद है, जिसमें कम बजट की बाइक भी शामिल हैं। यही वजह है कि देश में बाइक सेलिंग का आंकड़ा हर महीने बढ़ रहा है। हालांकि, बाइक चलाने वाले के साथ कभी न कभी ऐसी स्थिति आ जाती है जब वो स्टार्ट नहीं होती है। इसकी वजह किक का खराब होना या बैटरी का डिस्चार्ज होना हो सकती है। ऐसे में बाइक को स्टार्ट करना मुश्किल काम हो जाता है। यदि आप अकेले हैं तब बाइक को धक्का मारकर भी स्टार्ट नहीं कर सकते।

# बाइक में किक नहीं आती

- बजाज ने एवेंजर 150 में किक नहीं दी है। ये देश की पहली ऐसी बाइक है जो बिना किक के साथ लॉन्च की गई है।
- इसमें पावरफुल बैटरी दी गई है, लेकिन एक वक्त के बाद बैटरी का पावर कम हो जाता है। जिसके चलते सेल्फ स्टार्ट में प्रॉब्लम आ सकती है।
- ऐसे में जरूरी है कि आपको कुछ ऐसे टिप्स पता हों जो ऐसे मौके पर आपको बाइक स्टार्ट करने में मदद करे।

# बिना धक्का लगाने की ट्रिक

- बाइक को धक्का लगाकर भी स्टार्ट किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए दो लोगों का होना जरूरी होता है।
- एक बाइक को कंट्रोल करके सही समय पर उसमें गियर चेंज करेगा और दूसरा बाइक में धक्का मारेगा।
- इस काम को बाइक की क्लच दबाकर अकेले भी किया जा सकता है, लेकिन ये थोड़ा सा रिस्की हो जाता है।
- ऐसे में बिना धक्का मारकर भी बाइक को आसानी से स्टार्ट किया जा सकता है।

आगे जानिए बाइक को बिना किक, सेल्फ और धक्का लगाएं कैसे सेकंड्स में स्टार्ट करें...

- सबसे पहले बाइक में चाबी लगाकर उसके इंजन को ऑन कर लें। अब बाइक को टॉप गियर में डाल लें।
- यानी अगर आपकी बाइक में 4 गियर हैं तो उसे उस गियर में लेकर आ जाएं। ठीक इसकी तरह, 5 गियर वाली बाइक के साथ करें।
- टॉप गियर में डालने के बाद बाइक के पीछे वाले व्हील को ऊपर की तरफ घुमाएं।

 

 

- यदि व्हील ऊपर की तरफ नहीं घूमता तब उसे थोड़ा सा आगे-पीछे करके फ्री कर लें। ये काम आसानी से हो जाता है।
- व्हील जैसे ही फ्री हो जाए उसे ऊपर की तरफ घुमाएं। हो सकता है कि एक या दो बार में बाइक स्टार न हो, लेकिन इस प्रॉसेस से इंजन स्टार्ट होने लगता है।
- जैसे ही बाइक का इंजन स्टार्ट हो जाए आगे जाकर एक्सीलेटर की मदद से उसे कंट्रोल कर लें।