प्लास्टिक एनीमिया पीड़ित बच्चों में बोन मैरो ट्रांसप्लांट कारगर

News - रांची| पीजीआइ चंडीगढ़ के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ संजीव ने कहा है कि काॅर्ड ब्लड प्रिजर्वेशन (गर्भनाल को संग्रहित) आजकल...

Nov 10, 2019, 07:55 AM IST
रांची| पीजीआइ चंडीगढ़ के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ संजीव ने कहा है कि काॅर्ड ब्लड प्रिजर्वेशन (गर्भनाल को संग्रहित) आजकल स्टेटस सिंबल हो गया है। 90 फीसदी गर्भनाल काे संग्रहित किया उपयोगी नहीं होता है। उन्होंने कहा कि थैलेसिमिया व प्लास्टिक एनिमिया से पीड़ित बच्चों में बोन मैरो ट्रांसप्लांट कारगर है। इससे बीमारी को ठीक किया जा सकता है। वे आज इंडियन एकेडमी आॅफ पीडियेट्रिक्स, झारखंड चैप्टर द्वारा आयोजित पेडिकॉन- 2019 में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि हालांकि बोन मैरो ट्रांसप्लांट का इलाज महंगा, इसलिए लोग इस पद्धति से इलाज कराने से बचते है। रिम्स के कार्डियोलाजिस्ट डाॅ प्रकाश कुमार ने बताया कि जन्मजात हृदय रोग की पहचान जन्म के समय में हो जाती है। अगर बच्चे का शरीर नीला पड़ने लगे, पैर व शरीर में सूजन हो व धड़कन तेज चलता है तो बच्चे को हृदय की समस्या हो सकती है। कार्यक्रम में 150 डॉक्टर हिस्सा ले रहे हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना