• Home
  • Business
  • business round up july 16 metal and crude fall due to trade war
--Advertisement--

बिजनेस राउंड अप : अमेरिका के ट्रेड वार के चलते मेटल और कच्चे तेल के दाम में गिरावट

अमेरिका और चीन ने एक दूसरे पर इंपोर्ट ड्यूटी लगाई

Danik Bhaskar | Jul 16, 2018, 10:02 AM IST

चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वार बढ़ सकता है। अमेरिका ने 6 जुलाई को चीन से 34 अरब डॉलर (2.3 लाख करोड़ रु.) के आयात पर 25% ड्यूटी लगाई थी। चीन ने भी अमेरिका से इतने ही आयात पर शुल्क लगाया। अब अमेरिका ने 14 लाख करोड़ के आयात पर 10% टैरिफ की चेतावनी दी है। चीन डब्ल्यूटीओ में शिकायत करेगा। वह अमेरिका से आयात पर अतिरिक्त शुल्क लगा सकता है। फाइनेंशियल मार्केट ने इस चेतावनी को नजरअंदाज किया है। विश्लेषकों को लगता है कि दोनों देशों में बातचीत से यह वार खत्म हो सकती है। ट्रेड वार से डिमांड कम होने की आशंका में मेटल और क्रूड के दाम घटे हैं।
डॉट को चुनौती दे सकती हैं वोडाफोन-आइडिया : दूरसंचार मंत्री मनोज सिन्हा ने कहा कि वोडाफोन-आइडिया विलय को मंजूरी दे दी गई है। दूरसंचार विभाग ने वोडाफोन से वनटाइम स्पेक्ट्रम चार्ज के तौर पर 3,976 करोड़ मांगे हैं। दोनों से 3,342 करोड़ की साझा बैंक गारंटी भी मांगी है। कंपनियां इसे कोर्ट में चुनौती दे सकती हैं। इनके विलय से देश की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बनेगी। रेवेन्यू डेढ़ लाख करोड़ और ग्राहक 43 करोड़ होंगे।
टीसीएस का बेहतर प्रदर्शन इन्फोसिस कमजोर : टीसीएस और इन्फोसिस ने तिमाही के नतीजे जारी किए। टीसीएस ने 7,340 करोड़ रुपए मुनाफे के साथ बेहतर प्रदर्शन किया है। यह पहले की तुलना में 23% बढ़ा है। रेवेन्यू 15.8% बढ़कर 34,261 करोड़ हो गया। इन्फोसिस के नतीजे कमजोर रहे। इसका प्रॉफिट 3.7% बढ़कर 3,612 करोड़ और रेवेन्यू 12% बढ़कर 19,128 करोड़ रुपए रहा। इन्फोसिस बोर्ड ने हर शेयर पर एक बोनस शेयर देने का फैसला किया है।
बुलेट ट्रेन के लिए जमीन अधिग्रहण का विरोध : गोदरेज समूह ने बुलेट ट्रेन के लिए विक्रोली इलाके में 3.5 हेक्टेयर जमीन अधिग्रहण के खिलाफ मुंबई हाईकोर्ट में याचिका लगाई है। जमीन करीब 500 करोड़ की है। मुंबई-अहमदाबाद के बीच 508 किमी के इसप्रोजेक्ट पर 1.08 लाख करोड़ खर्च का अनुमान है। इसके लिए 7,000 किसानों, 15,000 परिवारों और 60,000 लोगों की जमीन का अधिग्रहण करना पड़ेगा। जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी इसके लिए 88,000 करोड़ लोन देने वाली है। इसके लिए वह सिर्फ 0.01% ब्याज लेगी। लेकिन अधिग्रहण में कानूनी अड़चनें आ सकती हैं।

महंगाई रोकने के लिए ब्याज बढ़ा सकता है आरबीआई : जून में खुदरा महंगाई में वृद्धि और मई में औद्योगिक उत्पादन ग्रोथ में गिरावट रही। महंगाई 5% दर्ज हुई जो 5 माह में सबसे ज्यादा है। यह रिजर्व बैंक की पहली छमाही के अनुमान 4.8% से 4.9% की तुलना में ज्यादा है। मई में आईआईपी ग्रोथ 3.2% रही जो 7 माह में सबसे कम है। एमएसपी में बढ़ोतरी को देखते हुए महंगाई और बढ़ने की उम्मीद है। कुछ अर्थशास्त्रियों का मानना है कि रिजर्व बैंक अगस्त की मौद्रिक नीति समीक्षा में ब्याज दर बढ़ा सकता है। ग्रोथ घटने की आशंका के चलते रिजर्व बैंक इसे होल्ड भी कर सकता है।

देवांग्शु दत्ता, कंट्रीब्यूटिंग एडिटर, बिजनेस स्टैंडर्ड