• Hindi News
  • ड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्ड

ड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्डड्ड

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर. कड़ाके की ठंड। इसमें भी ट्रेन में सफर ठिठुरा देता है। ऐसे में जोधपुर-बांदीकुई इंटरसिटी एक्सप्रेस में बाथरूम के पास सोमवार रात डेढ़ माह की बच्ची को छोड़कर उसके ‘अपने’ उतर गए। बालिका को जेके लोन अस्पताल में भर्ती कराया गया। शिशुगृह के कर्मचारी बालिका की देखभाल कर रहे हैं।
मां के दूध और आंचल की आस में तड़पती मासूम को अभी भी अपनी मां का इंतजार है। अस्‍पताल में भर्ती इस मासूम को मां के दूध की आदत है, जिसके कारण वह बड़ी मुश्‍िकल से बोतल से दूध पी रही है। यह मासूम दिनभर बिलखती रहती है।
जोधपुर-बांदीकुई इंटरसिटी एक्सप्रेस सोमवार रात 10.50 बजे जयपुर स्टेशन से रवाना हुई थी। ट्रेन का गांधीनगर स्टेशन पर ठहराव था। यहां से रवाना होने के बाद यात्रियों ने ट्रेन के डी-7 कोच में बाथरूम के पास कपड़े में लिपटी एक बालिका को रोते देखा।
यात्रियों ने बालिका के परिजनों का ट्रेन में पता किया और टीटी को बालिका के बारे में सूचना दी। टीटी ने बालिका को बांदीकुई में जीआरपी को सौंप दिया। चूंकि बालिका का पता गांधी नगर स्टेशन पर ही चल गया था, इस कारण बांदीकुई पहुंचने के बाद बालिका को वापस लाकर जीआरपी जयपुर को सौंपा गया।
आगे की स्‍लाइड में देखें इस बच्‍ची की मासूमियत और पढ़ें पूरी दास्‍तान