• Hindi News
  • जयपुर का नाम गुलाबी नगर कब और क्यों पड़ा, जानिए अभी

जयपुर का नाम गुलाबी नगर कब और क्यों पड़ा, जानिए अभी

7 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर। आज देश-विदेश के कोने-कोने में जयपुर को गुलाबी नगर के नाम से जाना जाता है। पर क्या आपको पता है कि इसका नाम पिंकसिटी कब और क्यों पड़ा।

दरअसल जयपुर की स्थापना के 100 साल से भी ज्यादा समय बाद इस नगर को गुलाबी नगर की संज्ञा दी गई। इससे पहले इस शहर को केवल जयपुर के ही नाम से जाना जाता था। उस वक्त इस शहर का रंग पीला और सफेद हुआ करता था। जयपुर ने 1818 में ईस्ट इंडिया कंपनी से संधि की। इसके साथ ही जयपुर के आधुनिकीकरण का दौर भी शुरू हो गया।

चूंकि सवाई जयसिंह ने इसकी स्थापना की थी इसलिए इसे जयपुर कहा गया। वर्ष 1876 में इंग्लैंड की महारानी एलिजाबेथ और प्रिंस ऑफ वेल्स युवराज अल्बर्ट जयपुर आने वाले थे। उस समय जयपुर के महाराजा सवाई रामसिंह इनकी तैयारियों में जुटे थे। इनके वेलकम के लिए पूरे शहर को दुल्हन की तरह सजाया जा रहा था। शहर की सड़कें साफ कर उनके किनारे फूल-पत्तियां लगाई जा रही थीं।

और शहर का रंग बदल गया

महाराजा सवाई रामसिंह के मन में सूझा कि क्यों न पूरे शहर को एक रंग में रंग दिया जाए। फिर उन्होंने उच्च अधिकारियों से इस बात की मंत्रणा की और परकोटे में स्थित पूरे शहर को गुलाबी रंग से रंग दिया। उसके बाद से यह शहर गुलाबी हो गया जो बाद में चलकर गुलाबी नगर कहलाया।
अगली स्‍लाइड में जानिए किसके स्‍वागत में बना अल्बर्ट हॉल