0000 / 0000

Aadi Dev Bharadwaj

Jan 15, 2016, 01:29 PM IST

0000

बरात लेकर आया दूल्‍हा। बरात लेकर आया दूल्‍हा।
जयपुर/पाली। पाली के खिमाड़ा गांव की सीआईएसएफ कॉन्स्टेबल नीतू भार्गव की शादी में उसके पति को दलित होने के कारण घोड़ी पर नहीं चढ़ने दिया गया। इस शादी में समाज के लोगों के प्रशासन से आग्रह के बाद भी गांव की वर्षों पुरानी रूढ़िवादी परंपराएं नहीं खत्म हो पाईं।
प्रशासन ने मंगवा ली थी घोड़ी, लेकिन समाज के लोगों ने दूल्हे को चढ़ने नहीं दिया...
नीतू की इच्‍छा थी कि उसकी शादी में बिंदौली बैंड बाजों के साथ निकले, दूल्हा घोड़ी पर बैठकर तोरण मारे और प्रशासन का आशीर्वाद मिले, लेकिन पुलिस व प्रशासन के अधिकारियों की मौजूदगी के बावजूद ऐसा नहीं हो सका। जिला प्रशासन के निर्देश पर गुरुवार शाम से ही सुमेरपुर एसडीएम, तहसीलदार, डीएसपी खिमाड़ा गांव में पहुंच गए थे। उन्होंने नीतू और उसके परिजनों से बात की।
नीतू का दूल्हा प्रवीण भार्गव बरात लेकर खिमाड़ा गांव पहुंच गया। प्रशासन ने घोड़ी भी मंगवा ली थी लेकिन उदयपुर, भरतपुर, झुंझुनू, जयपुर और कोटा से आए समाज के लोगों और कुछ सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने इसका विरोध करते हुए रोष जताया। साथ ही, उन्होंने प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी कर प्रशासन के इस रवैये की निंदा की, जिस कारण दूल्हा घोड़ी पर नहीं चढ़ पाया।
शादी की रस्म के बाद समाज के लोगों का झेलना पड़ा विरोध
सामाजिक रीति-रिवाजों को ध्यान में रखते हुए दुल्हन नीतू, दूल्हा प्रवीण भार्गव बिना बैंड-बाजों और घोड़ी के विवाह-स्थल पहुंचे और तोरण की रस्म पूरी की। तोरण की रस्म के बाद दोनों का विवाह किया गया। तोरण की रस्म के बाद प्रशासन ने घोड़ी मंगा ली। इस पर समाज के लोगों ने विरोध और नारेबाजी की तो दूल्हा और दुल्हन सहित पूरा सरकारी अमला दवाब में आ गया ।
आगे की स्‍लाइड में जानिए क्‍या कहा नीतू के भाई ने प्रशासन के बारे में...
X
बरात लेकर आया दूल्‍हा।बरात लेकर आया दूल्‍हा।
COMMENT

किस पार्टी को मिलेंगी कितनी सीटें? अंदाज़ा लगाएँ और इनाम जीतें

  • पार्टी
  • 2019
  • 2014
336
60
147
  • Total
  • 0/543
  • 543
कॉन्टेस्ट में पार्टिसिपेट करने के लिए अपनी डिटेल्स भरें

पार्टिसिपेट करने के लिए धन्यवाद

Total count should be

543